AtalHind
टॉप न्यूज़दिल्ली (Delhi)

प्रगति मैदान टनल को यात्रियों के लिए संभावित ख़तरा

प्रगति मैदान टनल को यात्रियों के लिए संभावित ख़तरा

 

Pragati Maidan Tunnel a possible threat to passengers
नई दिल्ली: पिछले साल दिल्ली में जी-20 शिखर सम्मेलन से पहले बहुत धूमधाम से एक किलोमीटर से अधिक लंबी प्रगति मैदान टनल (सुरंग) और अंडरपास तैयार किए गए थे, जिसका उद्देश्य मध्य, दक्षिणपूर्व और नई दिल्ली के बीच ‘कनेक्टिविटी’ बनाना था.
Advertisement
इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, इसे लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) द्वारा यात्रियों के जीवन को ‘संभावित खतरा’ बताया गया है.सके निर्माण के लिए जिम्मेदार विभाग ने छह लेन की सुरंग में पानी के रिसाव, सीमेंट और कंक्रीट में बड़ी दरारें और खराब जल निकासी का हवाला दिया है और निर्माण कंपनी लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) को कई नोटिस जारी किए गए हैं. उन्हें “गंभीर तकनीकी और डिज़ाइन कमियों” के लिए 500 करोड़ रुपये जमा करने के लिए कहा गया है.Pragati Maidan Tunnel a possible threat to passengers
अखबार के मुताबिक, इस प्रोजेक्ट की लागत 777 करोड़ रुपये बताई गई है. पिछले साल दिल्ली में मानसून के दौरान जलभराव के कारण टनल एक महीने से अधिक समय तक बंद रही थी.
अखबार ने एलएंडटी के एक प्रवक्ता के हवाले से बताया है कि वह सरकारी विभाग के खिलाफ जवाबी दावा कर रहा है.एलएंडटी को लिखे पत्र में पीडब्ल्यूडी ने कहा है, ‘…सबसे भयावह (और) चिंताजनक मुद्दा टनल/अंडरपास में विभिन्न जगहों पर पानी भर जाने का था. इस समस्या ने, विशेष रूप से मानसून के दौरान, जनता के लिए इस पूरे प्रोजेक्ट को अप्रभावी बना दिया और अंततः पूरे नई दिल्ली क्षेत्र की मुख्य सड़कों पर कहीं ज्यादा जाम और भीड़भाड़ पैदा कर दी, जिससे इस महत्वाकांक्षी परियोजना का उद्देश्य ही विफल हो गया.’
Advertisement
रिपोर्ट के अनुसार, पीडब्ल्यूडी का दावा है कि बार-बार संपर्क किए जाने और कई अनुरोधों के बावजूद इन मुद्दों को ‘दो महीने से अधिक समय से सुलझाया नहीं गया है.’
Advertisement

Related posts

बाबा रामदेव की कंपनी से हरियाणा सरकार ने पाँच करोड़ पैंतालिस लाख की दवाई आधे कन्सेशन पर खरीदी

admin

कैथल अदालत ने तीन आरोपियों को सुनाई उम्रकैद की सजा 

admin

पत्रकारों  के  स्कूलों में प्रवेश पर पाबंदी  ,  स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के गणित में कमजोर होने संबंधी खबरें छापी  थी 

atalhind

Leave a Comment

URL