AtalHind
दिल्ली राष्ट्रीय

शनिवार को जम्मू कश्मीर में 40 जगहों और राष्ट्रीय राजधानी में छापे

शनिवार को जम्मू कश्मीर में 40 जगहों और राष्ट्रीय राजधानी में छापे

शनिवार को जम्मू कश्मीर में 40 जगहों और राष्ट्रीय राजधानी में छापे

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अनिवासियों को फर्जी दस्तावेज के आधार पर 2012 से 2016 के दौरान 2.78 लाख शस्त्र लाइसेंस जारी करने के आरोप में बीते शनिवार को जम्मू कश्मीर में 40 जगहों और राष्ट्रीय राजधानी में छापे मारे. अधिकारियों ने यह जानकारी दी.

Advertisement

सीबीआई के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि शस्त्र लाइसेंस रैकेट से संबंधित एक मामले में चल रही जांच के तहत जम्मू, श्रीनगर, उधमपुर, राजौरी, अनंतनाग, बारामूला और दिल्ली में आईएएस अधिकारियों, करीब 20 ‘गन हाउस’ सहित लोकसेवकों के आधिकारिक और आवासीय परिसरों में छापे मारे गए.

अधिकारियों ने बताया कि कम से कम दो आईएएस अधिकारियों- शाहिद इकबाल चौधरी और नीरज कुमार के परिसरों पर छापेमारी हुई है. चौधरी जम्मू कश्मीर सरकार में आदिवासी मामलों के सचिव हैं और कुमार राष्ट्रीय राजधानी में केंद्र शासित प्रदेश के अतिरिक्त रेजिडेंट कमिश्नर हैं.

चौधरी ने ट्वीट किया, ‘मीडिया में आई खबरों के संदर्भ में मैं पुष्टि करता हूं कि सीबीआई ने मेरे आवास पर छापेमारी की और शस्त्र लाइसेंस जांच में कुछ भी अनियमित नहीं पाया. मीडिया के मित्र इस बात को नोट कर सकते हैं कि जांच में सभी जिलों में चार वर्षों को कवर किया गया. अपने कार्यकाल के लिए मैं पूरी तरह से सीबीआई के प्रति जवाबदेह हूं.’

Advertisement

चौधरी ने कहा, ‘2012 से 2016 के दौरान उधमपुर में जारी 36 हजार शस्त्र लाइसेंस में से केवल 1500 (चार प्रतिशत से भी कम) मेरे कार्यकाल में जारी किए गए.’ उन्होंने कहा कि सभी जिलाधिकारियों द्वारा जारी लाइसेंस में यह सबसे कम है.

उन्होंने कहा कि उन्होंने एजेंसी के सवालों के जवाब दिए और भविष्य में भी जवाब देने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

उन्होंने कहा कि 2012- 16 के दौरान जम्मू कश्मीर में जारी 4.49 लाख शस्त्र लाइसेंस में से केवल 56 हजार तीन जिलों रियासी, कठुआ और उधमपुर में जारी किए गए, जहां उन्होंने जिलाधिकारी के तौर पर सेवा दी थी.

Advertisement

With ref to media reports I’ve to confirm that CBI did search my residence & found nothing incriminating in ongoing arms license probe. Media friends may note the probe covers 4 years across all distts. I am fully answerable to CBI for my tenure. Stats from my tenure are below 👇 pic.twitter.com/qhl60AFrGI

— Shahid Choudhary (@listenshahid) July 24, 2021

अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर प्रशासनिक सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी शब्बीर अहमद भट के आवास पर भी छापेमारी की गई, जिन्होंने रजौरी के जिलाधिकारी के तौर पर सेवा दी थी.

Advertisement

उन्होंने बताया कि इसके अलावा पुंछ, कुपवाड़ा, बांदीपोरा, बारामूला और रामबन में 2012-16 के दौरान अतिरिक्त जिलाधिकारी के तौर पर सेवा देने वाले छह अधिकारियों के परिसरों पर भी छापेमारी की गई.

एजेंसी ने कथित अनियमितताओं को लेकर 16 अक्टूबर 2018 को दो अलग-अलग प्राथमिकियां दर्ज की थीं.

सीबीआई ने कुपवाड़ा, उधमपुर, किश्तवाड़, शोपियां, राजौरी, डोडो, पुलवामा और कुछ अन्य जगहों के तत्कालीन जिलाधिकारियों और मजिस्ट्रेटों के परिसरों पर दिसंबर 2019 में श्रीनगर, जम्मू, गुड़गांव और नोएडा समेत एक दर्जन जगहों पर छापेमारी की थी. अभियान 2019 में दर्ज एक मामले के संबंध में चलाया जा रहा है.

Advertisement

आरोप है कि 2012 और 2016 के बीच जम्मू कश्मीर के विभिन्न जिलों के उपायुक्तों ने धन के लालच में फर्जी और अवैध रूप से थोक में शस्त्र लाइसेंस जारी किया था.

सीबीआई ने पूर्ववर्ती जम्मू कश्मीर राज्य के विभिन्न जिलों में वहां के जिलाधिकारियों और मजिस्ट्रेट द्वारा कथित तौर पर लगभग दो लाख शस्त्र लाइसेंस जारी करने से संबंधित दो मामलों की जांच के सिलसिले में तलाशी ली थी. आरोप है कि रिश्वत के बदले में गैर कानूनी रूप से ये शस्त्र लाइसेंस जारी किए गए.

आरोप है कि तत्कालीन लोक सेवकों ने अन्य अभियुक्तों के साथ मिलकर राज्य के गैर निवासियों को नियमों का उल्लंघन कर शस्त्र लाइसेंस जारी किया और रिश्वत ली.

Advertisement

राजस्थान आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने 2017 में इस घोटाले का खुलासा किया था और अवैध रूप से शस्त्र लाइसेंस जारी करने में संलिप्तता के आरोप में 50 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया था.

एटीएस के अनुसार, कथित रूप से सेना के जवानों के नाम पर 3,000 से अधिक परमिट दिए गए थे. एटीएस के निष्कर्षों के आधार पर जम्मू कश्मीर के तत्कालीन राज्यपाल एनएन वोहरा ने मामले में जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंप दिया था.

वैसे यह जांच सिर्फ 2012 से 2016 तक ही सीमित है, जबकि राजस्थान एटीएस ने भी कई अन्य जिलों में कई वर्षों पहले की अनियमितताओं का उल्लेख किया था.

Advertisement

सीबीआई ने फरवरी 2020 में कई शहरों/कस्बों में कई अधिकारियों के कार्यालयों और आवासों की फिर से तलाशी या छापेमारी की थी और एक सेवारत आईएएस अधिकारी सहित कुछ अधिकारियों को गिरफ्तार किया था.

मार्च 2020 में जम्मू और कश्मीर प्रशासन ने आईएएस अधिकारी कुमार राजीव रंजन को 29 फरवरी से निलंबित करने का आदेश दिया था, जिस दिन उन्हें केंद्रीय जांच एजेंसी द्वारा हिरासत में लिया गया था.

वह उस समय जम्मू विकास प्राधिकरण (जेडीए) के उपाध्यक्ष के रूप में अतिरिक्त प्रभार संभालने वाले मेट्रोपॉलिटन रेगुलेटरी अथॉरिटी, जम्मू के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में तैनात थे.

Advertisement

पिछले साल आईएएस अधिकारी राजीव रंजन सहित दो अधिकारियों को सीबीआई ने डिप्टी कमिश्नर के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान बंदूक लाइसेंस जारी करने के आरोप में गिरफ्तार किया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Advertisement
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

किसानों ने अंग्रेजों द्वारा बनाए गए ‘राजद्रोह’ कानून को हाई कोर्ट में दी चुनौती ,

admin

कुरुक्षेत्र भूमि की 48 कोस परिक्रमा में स्थित तीर्थों की सूची इस प्रकार हैं : –

admin

राकेश टिकैत बोले: ‘राहुल गांधी को ‘पप्पू’ बनाने में बीजेपी ने किया खूब खर्चा, लेकिन वो तो…’

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL