AtalHind
क्राइम (crime)टॉप न्यूज़

2023 में महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध की 28,811 शिकायतें मिलीं, 55% से अधिक यूपी से आईं: एनसीडब्ल्यू

2023 में महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध की 28,811 शिकायतें मिलीं, 55% से अधिक यूपी से आईं: एनसीडब्ल्यू
राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) के आंकड़ों के अनुसार, महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध के उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 16,109 शिकायतें दर्ज की गईं. इसके बाद दिल्ली को 2,411, महाराष्ट्र को 1,343 शिकायतें मिलीं. सबसे ज़्यादा शिकायतें गरिमा के अधिकार श्रेणी में प्राप्त हुईं, जिसमें घरेलू हिंसा के अलावा अन्य उत्पीड़न शामिल हैं. इनकी संख्या 8,540 थी.

नई दिल्ली: राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने पिछले साल महिलाओं के खिलाफ अपराध की 28,811 शिकायतें दर्ज कीं और इनमें से लगभग 55 प्रतिशत उत्तर प्रदेश से थीं.द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, एनसीडब्ल्यू के आंकड़ों से पता चलता है कि सबसे ज्यादा शिकायतें गरिमा के अधिकार श्रेणी में प्राप्त हुईं, जिसमें घरेलू हिंसा के अलावा अन्य उत्पीड़न शामिल हैं और इनकी संख्या 8,540 थी. इसके बाद घरेलू हिंसा की 6,274 शिकायतें आईं.28,811 complaints of crimes against women received in 2023, more than 55% from UP: NCW

आंकड़ों के अनुसार, दहेज उत्पीड़न की शिकायतें 4,797, छेड़छाड़ की शिकायतें 2,349, महिलाओं के प्रति पुलिस की उदासीनता की शिकायतें 1,618 और बलात्कार तथा बलात्कार के प्रयास की शिकायतें 1,537 रहीं.

इसमें कहा गया है कि यौन उत्पीड़न की 805, साइबर अपराध की 605, पीछा करने की 472 और सम्मान अपराध की 409 शिकायतें थीं.

आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 16,109 शिकायतें दर्ज की गईं, इसके बाद दिल्ली में 2,411, महाराष्ट्र में 1,343 शिकायतें दर्ज की गईं.

इसी तरह, बिहार में 1,312 शिकायतें, मध्य प्रदेश में 1,165, हरियाणा में 1,115, राजस्थान में 1,011, तमिलनाडु में 608, पश्चिम बंगाल में 569 और कर्नाटक में 501 शिकायतें दर्ज की गईं.

2022 के बाद से शिकायतों की संख्या में गिरावट देखी गई है, जब 30,864 शिकायतें प्राप्त हुईं थीं, जो 2014 के बाद से सबसे अधिक है.

Advertisement

Related posts

Pataudi News-रा क व मा वि पटौदी की 50 छात्राओं ने मेरिट में स्थान प्राप्त किया

editor

चाइनीस कंपनी इकोग्रीन की दादागिरी कूड़े करकट से भरे ट्रक खाली करने को भेजे हेली मंडी डंपिंग यार्ड

atalhind

आपत्तिजनक कंटेंट का देना होगा जवाब, सोशल मीडिया कंपनियों पर नकेल।

atalhind

Leave a Comment

URL