AtalHind
राष्ट्रीय

वार्षिक भविष्यफल 2024

वार्षिक भविष्यफल 2024

Annual Horoscope 2024

Annual Horoscope 2024
(आचार्य राजेश-विनायक फीचर्स)
राशि बोधक चक्र
मेष : चू चे चो च ल ला ली ले लो लू अ आ आदि।
वृषभ : इ ऊ ए ओ व वा वी वू वो ब आदि।
मिथुन : क का की के कु कौ घ घी घू छ छा आदि।
कर्क : ह हा ही हु हे है हो डा डो आदि।
सिंह : म मा मी मु मे मो ट टा टी टू आदि।
कन्या : प पा पी पु पे पो ठ ठा आदि।
तुला : र रा री रू रो रौ त ता ती तु आदि।
वृश्चिक : तो न ना नी नू ने नो न या यी यु आदि।
धनु : य यो भ भा भी भे धा ठा आदि।
मकर : भो ज जा जी जे ज खी ख खो गा गी आदि।
कुंभ : ग गे गो स सा सी सू से सो दा आदि।
मीन : दी दू दे दो चा ची थ था झ आदि।

मेष

जनवरी- यह माह आपके लिए शुभाशुभ मिश्र फलकारक है। परिश्रम से बिगड़े कार्य बनेंगे। परोपकारी कार्यों में धन व्यय होगा। रोजगार, नौकरी परिवार की स्थिति सामान्य रहेगी। मन में तनाव और खिंचाव रहेगा। मान-पद, प्रतिष्ठा की सुरक्षा होगी।
फरवरी- मान-सम्मान की रक्षा होगी। परीक्षा प्रतियोगिता में सफलता होगी। स्वजनों से कष्ट, भोजन में अधिकता, माता से सुखी, मित्रों से सम्मान, संतान से सुख प्राप्त होगा। आर्थिक स्थिति में कुछ सुधार होगा। वाणी तथा क्रोध पर नियंत्रण रखें। शत्रुओं पर विजय।
मार्च- यह माह आपके लिए साधारण है। स्वास्थ्य ठीक व व्यापार में स्पर्धा का योग है। अत: सावधानी से कार्य करें। साझेदारी से व्यापार आपके लिए कष्टकारी होगा। प्रत्येक शुभ कार्यों में आप प्रगति करेंगे। व्यापार में उन्नति होगी। स्वास्थ्य लाभ।
अप्रैल- यह माह आपके लिए अत्यंत शुभ है, धन, धान्य, यश, मान-प्रतिष्ठा का योग है। व्यापार में उन्नति, प्रत्येक शुभ कार्य में प्रगति करते जायेंगे। इष्ट मित्रों से मांगलिक कार्यों में सहयोग मिलेगा। उत्तराद्र्ध में कुछ मानसिक परेशानी, मन अशांत रहेगा।
मई- मनोकामना पूर्ण होगी, पारिवारिक व्यस्तता बनी रहेगी, पति-पत्नी में तनाव पूर्ण स्थिति बनी रहेगी, इष्ट मित्र आपके मंगल कार्यों में सहयोग करेंगे। व्यापारिक योजनाएं सफलताकारी मार्गों की ओर अग्रसर होगी। परिवार का उत्तम सुख प्राप्त होगा। स्वास्थ्य में उतार चढ़ाव बना रहेगा।
जून- यह माह आपके लिए शुभाशुभ मिश्र फलदायक होगा। पारिवारिक सुख उत्तम रहेगा। परिश्रम से कुछ लाभ प्राप्त होगा। आलस्य में वृद्धि, मित्रों से विरोध, सावधानी से कार्य करें। वाणी पर नियंत्रण रखें। समाज में पद-प्रतिष्ठा का योग है। रामायण का पाठ करने से कठिनाई दूर होगी। व्यापार संबंधी चिंता बनी रहेगी।
जुलाई- यह माह आपके लिए अत्यंत शुभ फलदायक होगा। सुख सम्मान एवं आरोग्य लाभ होगा। साहस पराक्रम एवं उत्साह की वृद्धि होगी। विवाद के मामले में सतर्कता से हाथ डाले, व्यवसायिक कार्य में बहुत सावधानी रखने की आवश्यकता है।
अगस्त- यह माह आपके लिए मध्यम फल देने वाला होगा। मनोबल की वृद्धि होगी। बुद्धिजीवियों के लिये यह कठिन परीक्षा का समय है। परन्तु शत्रु आपके सामने टिक नहीं पायेंगे। धर्म आस्था में कमी, उदर पीड़ा का योग, स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव रहेगा।
सितम्बर- यह माह आपके लिए व्यापारिक दृष्टि से अत्यंत शुभ है। आपको व्यापार में अच्छा लाभ होगा। परन्तु साझेदारी का व्यापार करने में हानि होने की संभावना है। पारिवारिक झगड़े झंझट से दूर रहे। खेतों में भी आपको अच्छा लाभ हो सकता है।
अक्टूबर- यह माह आपके लिये शुभाशुभ फल कारक होगा। सुख साधनों का विकास, स्त्री व बच्चों से मदद मिलेगी। आध्यात्मिक प्रवृत्ति की वृद्धि होगी। परिश्रम से कार्य सिद्ध होंगे। परन्तु व्यापार में कुछ बाधायें आ सकती है। मानसिक तनाव मिल सकता है।
नवम्बर- इस मास मित्रों एवं स्वजनों पर आपका विशेष प्रभाव पड़ेगा। पारिवारिक सुख शान्ति एवं मातृ सुख की प्राप्ति होगी। कृषि एवं वाणिज्य कार्यों में रुकावटें आयेगी। स्वास्थ्य लाभ एवं मित्रों से सम्मान प्राप्त होगा। कुटुम्बियों से टकराव होगा। माह के उत्तराद्र्ध में धन का लाभ। धर्म कर्म में रुचि रहेगी।
दिसम्बर- कार्य व्यवसाय में सफलता मिलेगी। धनागम, आगन्तुकों से कष्ट, अन्न वस्त्र की प्राप्ति, शत्रु पर विजय तथा प्रतिष्ठा में वृद्धि, अनावश्यक वाद-विवाद से बचें। धार्मिक आस्था बनाये रखें। योजना में अरुचि एवं कार्यों में बाधायें आयेंगी। पठन-पाठन में रुचि, लम्बी यात्रायें करनी पड़ सकती है। जायदाद का लाभ। मातृ सुख।

वृषभ

जनवरी- यह माह आपके लिये शनि की लघु कल्याणी ढैय्या के कारण अशुभ फलदायक है। आवश्यक कार्यों में रुकावट व व्यापार में अल्प लाभ होगा। स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव की स्थिति रहेगी। लोगों से धोखा मिल सकता है। पुत्र से सुख मिलेगा।
फरवरी- दाम्पत्य जीवन में तनाव रहेगा। ऋण के लेन-देन में असफलता, विश्वास पात्र से धोखा, परन्तु स्वास्थ्य लाभ होगा। धर्म में रुचि बढ़ेगी। पारिवारिक सुख शान्ति, मातृ सुख प्राप्त होगा। अपनी दिनचर्या नियमित बनायें। परिश्रम से कुछ लाभ मिलेगा। यात्रा में कष्ट होगा।
मार्च- दाम्पत्य जीवन में तनाव की स्थिति रहेगी। इष्ट मित्र आपके मंगल कार्य में सहयोग करेंगे। व्यापार मन्दा चलेगा। पारिवारिक चिन्ता, यश-प्रतिष्ठा में कमी, भाइयों से कष्ट की स्थिति बनेगी। आलस्य में वृद्धि। मित्रों आदि से वियोग का योग है।
अप्रैल- व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। ईश्वर की आराधना से कुछ लाभ की आशा कर सकते हैं। व्यर्थ भ्रमण से अनावश्यक खर्च, ऋण अदायगी की चिन्ता से अशांति रहेगी। रोजी की चिन्ता, स्वास्थ्य ठीक न रखने से कार्यों में असफलता प्राप्त होगी। वाहन दुर्घटना के भी योग है।
मई- पारिवारिक चिन्ता, व्यापार में गिरावट, यश में कमी, व्यर्थ भ्रमण से अनावश्यक खर्च, भाईयों से असहयोग, स्वास्थ्य सुख में कमी, साझेदारी से नुकसान, नये लोगों से संबंध, द्रव्यलाभ, इष्ट मित्रों से समागम, सत्संग से ज्ञान मिलेगा, लोकोपवाद से सतर्क रहें। खर्च में वृद्धि होगी। स्त्री एवं पुत्र का सुख उत्तम रहेगा।
जून- उद्योग-धन्धों में समस्यायें पैदा होगी। विश्वसनीय व्यक्ति से धोखा खायेंगे। अधिक जोश और पराक्रम के कारण कुछ आर्थिक या शारीरिक नुकसान भी हो सकता है। व्यापारिक योजनाएं सफलताकारी, आगे की ओर अग्रसर होगी। यात्रा से कष्ट, जीवन में लाभ, धनलाभ, खर्च में वृद्धि होगी। पारिवारिक सुख प्राप्ति होगी।
जुलाई- यह माह आपके लिये शुभ फलदायक नहीं है। व्यापार में हानि, परिवार में क्लेश की स्थिति बनी रहेगी। मन अशान्त रहेगा। परन्तु पत्नी से सहयोग प्राप्त होगा। ऋण के लेन-देन से व्यथित रहेंगे। पड़ोसियों से उत्तम व्यवहार होगा। कार्य में वृद्धि होगी।
अगस्त- रोजी-रोजगार में बाधा, चित्त अशान्त रहेगा। भोजन में अरुचि पैदा होगी। गुरुजनों की आज्ञा माने तो कुछ सफलतायें मिल सकती है। व्यर्थ के विवाद बने रहेंगे। पत्नी व संतान से लाभ, कुछ बिगड़े कार्य पूर्ण होंगे।
सितम्बर- आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी। किन्तु व्यय का भार बढ़ेगा। वाणी में मधुरता लाभकारक सिद्ध होगी। शारीरिक सुख सामान्य रहेगा। पत्नी का सुख प्राप्त होगा। आलस्य की वृद्धि होगी। अत्याधिक श्रम से कुछ सफलतायें मिल सकेगी। यात्रा से लाभ होगा।Annual Horoscope 2024
अक्टूबर- कार्यक्षेत्र में बाधायें व भय रहेगा। नीति संगत, मानसिक व्यथा रहेगी। चल रहे कार्यों में रुकावट, ऋण में वृद्धि, शत्रु व विरोधी पराजित होंगे। भाई और संतान से दु:ख होगा। जिम्मेदारी बढ़ेगी। माह का उत्तराद्र्ध विशेष रूप से कष्टकारी होगा। व्यापार में लाभ।
नवम्बर- वक्री शनि की लघु कल्याणी ढैय्या में विशेष सावधानी रखकर चलने से द्रव्य लाभ होगा। विद्यार्थियों, महिलाओं को कठिन परिश्रम से ही सफलता मिलेगी। व्यावसायिक कार्यों में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। परिवारिकजनों से विवाद हो सकता है। धनागम एवं सम्मान में वृद्धि।
दिसम्बर- शारीरिक विकारों से कष्ट, स्वजनों एवं मित्रों से अनबन मान-सम्मान में कमी। धार्मिक विचारों की वृद्धि, वाणी में कठोरता, पद हानि, वस्त्र आदि लाभ होगा लेकिन दुष्ट संगति से हानि, पिता से विरोध हो सकता है। पुत्र व पत्नी का सहयोग मिलेगा। पारिवारिकजनों में प्रेम व सौहाद्र्र आपस में बढ़ेगा। सूर्य नारायण की नियमित आराधना से लाभ।

मिथुन

जनवरी- यह माह आपके लिए शुभाशुभ मिश्र फलकारक है। साहस पराक्रम की वृद्धि परन्तु व्यवसाय में अल्प लाभ होगा। नये मित्र बनेंगे। परन्तु रिश्तेदार आपसे गहरा स्वार्थ रखेंगे। यात्रा में दौड़-धूप और प्रपंच की अधिकता रहेगी। स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव बना रहेगा।
फरवरी- कृषि, व्यापार नौकरी में लाभ मिलेगा, परन्तु कुछ रुकावटें आयेगी। व्यय की अधिकता होगी। पुत्र से सुख मिलेगा, चित्त शान्त रहेगा। मित्रों से सम्मान व संतान से सुख प्राप्त होगा। माह के उत्तराद्र्ध में राज्य से मान सम्मान मिलेगा।
मार्च- सामान्य रूप से धनोपार्जन, नौकरी में सफलता। उगते हुए सूरज को जल दें। विभिन्न समारोह में जाने का अवसर मिलेगा। परन्तु रोग, दिमागी उलझन, असमय भोजन, शयन से कष्ट। मन कुछ अशांत रहेगा। स्वास्थ्य में सुधार होगा। यात्रा लाभ।
अप्रैल- आवश्यक कार्य में रुकावट व्यवसाय में अल्पलाभ, दान धर्म में आस्था बनेगी। दीन-दुखियों के प्रति दया की भावना मन में विशेष रूप से जाग्रत होगी। स्वास्थ्य में सुधार, कार्य की अधिकता, धनलाभ, खर्च में वृद्धि, परोपकार की भावना जागृत होगी।
मई- पढ़ाई-लिखाई में आलस्य, उदर रोग, शारीरिक पीड़ा, बुखार आदि से परेशानी, व्यापार में रुचि का अभाव, गृह वाहन, जायदाद के सुख में व्यवधान होगा। सत्पुरुष की मदद से नया पद एवं अधिकार की प्राप्ति होगी। विवादास्पद मामलों में सूझबूझ से काम लें। रोजगार में उन्नति मिलेगी।
जून- उद्योग-धन्धे में कई सारी समस्यायें पैदा होगी। आपसी संबंध मधुर बनाये रखें। अन्यथा अदालत का सहारा लेना पड़ सकता है। सगे संबंधियों से हानि, पारिवारिक उलझनें बढ़ेगी। भाइयों की कलह से परेशानी, रामायण का पाठ करने से कठिनाइयां दूर होगी। पारिवारिक सुख प्राप्ति होगी। पत्नी, सन्तान सुख, मित्रों का सहयोग मिलेगा। यात्रा में कष्ट संभव।
जुलाई- यह माह आपके लिए शुभाशुभ फलकारक होगा। रोजी-रोजगार में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। किसी शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। अकारण झगड़े झंझटों से बचें। शत्रुओं में वृद्धि, परन्तु शत्रु पराजित होंगे। दुष्टों की संगति से हानि। उदर पीड़ा भी सम्भव।
अगस्त- कठोर परिश्रम से जीवन निर्वाह करना आसान होगा। व्यापार व नौकरी वालों को चातुर्य बौद्धिक कौशल से सिद्धि मिलेगी। मान-प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी। पत्नी व संतान का सुख उत्तम मिलेगा। यात्रा में कष्ट होगा।
सितम्बर- मासाराम्भ में व्यापार में कुछ बाधायें होंगी। परन्तु बाद में सफलता मिलेगी। गृह कार्यों में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। स्वास्थ्य में भी कुछ परेशानी का अनुभव होगा। वाणी में कठोरता, हानि प्रद साबित हो सकती है। वासना में वृद्धि होगी। यात्रायें सुखद रहेंगी।
अक्टूबर- यह माह आपके लिए शुभाशुभ फलकारक होगा। शुभ विचारों का उदय होगा। व्यापार में वृद्धि होगी। क्रोध तथा जल्दबाजी में कोई फैसला न लें। अभीष्ट कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। सामाजिक कार्यों में उत्साह। शत्रु पीड़ा, धार्मिक कार्य में रुचि।
नवम्बर- इस माह व्यवसाय, कार्य कुछ मन्दा चलेगा। कुछ विघ्न बाधाओं का सामना होगा। रुके हुये कार्यों में सफलता मिलेगी। रोजी-रोटी व व्यावसायिक कार्यों में उतार-चढ़ाव रहेगा। विश्वास पात्रों से धोखा मिल सकता है। शुभ कार्यों में धन व्यय होगा। प्रतापी पुरुषों से सम्पर्क, धनागम।
दिसम्बर- यह माह आपके लिये शुभाशुभ फलकारक होगा। धनाभाव की स्थिति सामान्य रहेगी। मिथ्या आरोप, रोग, मानसिक कष्ट आदि रहेंगे। शत्रुओं की अधिकता होगी। परन्तु आपके बुद्धि कौशल से शत्रु नष्ट हो जायेंगे। कुछ विशेष सफलता मिलेगी। खोई प्रतिष्ठा पुन: वापस मिलेगी। कार्यों में सफलता मिलेगी।

कर्क

जनवरी- यह माह आपके लिए शुभाशुभ मिश्र फलदायक है। कठिन परिश्रम से लाभ, व्यय की अधिकता, श्रेष्ठजनों की संगति से लाभ, घरेलू सुख शांति व उतार-चढ़ाव बना रहेगा। भूमि भवन, वाहन सुख प्राप्त होगा। धनोपार्जन सामान्य रहेगा। यात्रा से लाभ मिलेगा।
फरवरी- कृषि व व्यापार में सामान्य लाभ होगा। स्वजनों से वियोग, नेत्र व उदर रोग होने की संभावना, दौड़ धूप एवं व्यस्तता बनी रहेगी। ईश्वर की उपासना करे तो लाभ होगा। कोई लाभदायक मौका हाथ आयेगा। घर में किसी प्रकार का असंतोष होगा।
मार्च- शत्रु पर विजय प्राप्त करेंगे। धार्मिक कार्यों में रुचि, अन्न, वस्त्र, धन का लाभ होगा। सम्मान यश, लोकप्रियता की प्राप्ति, शुभ कार्यों का सम्पादन करेंगे। आपकी सूझ-बूझ प्रशंसनीय होगी। अपनी भावुकता पर नियंत्रम रखें। संतान से सहयोग मिलेगा।
अप्रैल- इस माह आमदनी की अपेक्षा व्यय में वृद्धि रहेगी। शारीरिक कष्ट रहेगा। संबंधी मित्रों एवं श्रेष्ठजनों से अकारण विरोध होगा। रोजी रोजगार के स्थान में परिवर्तन होगा। अनादर की स्थिति बनेगी। आकस्मिक विरोध बनेंगे। यात्रा में कष्ट संभव।
मई- विशेष सावधानी रखकर विशिष्ट उत्पादों से बचें तो पारिवारिक व्यावसायिक कार्यक्रमों में सफल रहेंगे। कठिन परिश्रम से स्वतंत्र कार्यक्षेत्र का विस्तार, अत्याधिक कार्य व्यस्तता, विवाद ग्रस्तता, खर्च अधिकता की स्थिति रहेगी। बुद्धि की प्रतिभा की प्रखरता एवं वाहन सुख का लाभ होगा।
जून- यह माह सामान्य सफलता कारक है। सहयोगियों से अच्छा प्रभाव बनाने से कार्यों में सिद्धि मिलेगी। भ्रमण के शुभअवसर प्राप्त होंगे। भूमि भवन का सुख मिलेगा। माह के उत्तराद्र्ध में कुछ शत्रु हानि कर सकते हैं। परिजनों से मतभेद से बने कार्य बिगड़ सकते हैं। धर्म-कर्म में भी कार्यों में सफलता मिलेगी। काम धन्धे में लाभ, व्यापार में सुधार होगा।
जुलाई- नवीन कार्यों की योजना बनेगी। मामले मुकदमे में विजय की सम्भावना। कार्य व्यस्तता से मानसिक तनाव, व्यापार में लाभ व हानि, दोनों का सामना करना पड़ सकता है। खर्च में कमी का प्रयास करें, पत्नी सुख, बच्चों की पढ़ाई में अवरोध आयेगा।
अगस्त- स्वास्थ्य ठीक रहेगा। धार्मिक कार्यों में उत्साह, परिवार में एकता, व्यापार में लाभ, साझेदारी के कार्य में बाधा रहेगी। मामला, मुकदमा में आंशिक सफलता। शत्रु पराजित होंगे। धैर्य पूर्वक सभी कठिन कार्यों को पूरा करें। दांपत्य जीवन कष्टकारी होगा।
सितम्बर- माता-पिता बड़ों के प्रति प्रेम बढ़ेगा। पारिवारिक सुख-शांति रहेगी, मनोरंजन व भ्रमण के योग है। व्यापार सामान्य चलेगा। पत्नी की सलाह से गृहस्थ जीवन सुख से व्यतीत होगा। पड़ोसियों से उत्तम व्यवहार बनाये रखें। दान धर्म से मन को शांति मिलेगी।
अक्टूबर- माता-पिता व गुरुजनों के प्रति प्रेम की वृद्धि होगी। पारिवारिक सुख-शांति, मनोरंजन व भ्रमण के योग है। व्यापार सामान्य चलेगा।
नवम्बर- उद्योग-धन्धे में व्यवधान। गृहस्थ जीवन में अशांति शारीरिक कष्ट प्रियजनों सें उत्पीडऩ योग है। प्रवास पीड़ा, कार्यों में विफलता, मानसिक, अशांति, धनागम में अवरोध, प्रिय पदार्थ की हानि, वायु कोप, गठिया रोग की सम्भावना, लाभ की आशा न रखें।
दिसम्बर- आर्थिक उलझनों से त्रस्त रहेंगे। परिवार में मन-मुटाव बना रहेगा। अत्याधिक परिश्रम से बिगड़े कार्य बनेंगे। व्यापार, कृषि, नौकरी में सफलता मिलेगी। यश-सम्मान का लाभ होगा। उत्तराद्र्ध में अपव्यय, परदेश गमन, अनियमित दिनचर्या से दु:खी रहेंगे। दुर्गा स्त्रोत का पाठ करें। धार्मिक कार्यों में रुचि। आय में कमी, स्वास्थ्य लाभ रहेगा।

सिंह

जनवरी- अपने उद्देश्य में महत्वपूर्ण सफलता मिलेगी। अनेक परेशानियों का निवारण होगा। गृहस्थी, घर में सुख शान्ति बनी रहेगी। नजदीकी लोगों से विवाद हो सकता है। जीवन साथी से कुछ विरोध की स्थिति पैदा हो सकती है। शुभ संवाद से लाभ।
फरवरी- नवीन कार्यों की योजना बनेगी। मामले, मुकदमे में विजय की संभावना। कार्यों में व्यस्तता होने के कारण मानसिक तनाव व उलझन, व्यापार में लाभ हानि दोनों का सामना करना पड़ेगा। आलस्य की वृद्धि होगी। प्रतिदिन देवदर्शन करें व पूजा पाठ करें।
मार्च- मनोरथ सिद्धि न होने से निराशा का वातावरण होगा। व्यापारिक स्थिति मध्यम रहेगी। पारिवारिक कारणों से अवरोध विरोध बना रहेगा। नई संगत मिलने से नयेपन का अनुभव होगा। आपसी लोगों से विरोध न बढ़ावें। विरोध बढऩा उचित न होगा।
अप्रैल- व्यर्थ के विवाद बनेंगे। यात्रा, पद की हानि तथा व्यय की अधिकता रहेगी। रोग, ऋण से चिन्ता, विश्वास पात्रों से धोखा होगा। स्त्री, सन्तान से अपेक्षित सहयोग नहीं मिलेगा। माह के उत्तराद्र्ध में कुछ राहत मिलेगी। आर्थिक सुधार होगा। वाहन सुख।
मई- कार्य व्यवसाय में अल्प लाभ रहेगा। नीच एवं दुष्टों की संगति से कष्ट, नेत्र और सिर में पीड़ा रहेगी। परिवार में कलह रहेगा। यात्रायें अल्प लाभ देगी। अन्न-धन की हानि रहेगी। धनाभाव से मन खिन्न रहेगा। व्यर्थ भ्रमण भी रहेगा। स्वजनों से मन-मुटाव। धार्मिक आस्था में रुचि बढ़ेगी।
जून- यह मास कुछ विशेष कार्यों में सफलता देगा। दुष्टों की संगति से हानि होगी। भाई-बहनों के बीच टकराव की स्थिति भी बन सकती है। हाथ, पैर, कमर में दर्द होगा। विश्वासपात्रों से धोखा होगा। शुभ कार्यों में धन का व्यय और मुकदमा भी बनेगा। कुछ शत्रु प्रबल होंगे। धनाभाव रहेगा। यात्रा कष्ट। यह माह अत्यन्त सुखद है। व्यापार में लाभ होगा।
जुलाई- इस माह में आपको सभी कठिनाइयों से जूझना पड़ेगा। धैर्यपूर्वक क्रमश: परिश्रम करते रहने से सफलता मिलती रहेगी। ऋण का लेन-देन न करें। यह आपके लिए हानिकारक हो सकता है। शत्रु की वृद्धि, पदोन्नति में बाधा। उद्योग-धन्धे में प्रगति।
अगस्त- कठोर परिश्रम से शारीरिक थकावट रहेगी। नेत्र पीड़ा, आलस्य से परेशान रहेंगे। अधिकारियों से परेशानी, शत्रुओं से सावधान, पूजा पाठ में रुचि बनाये रखे, अधिक कार्य व्यस्तता के कारण शारीरिक थकावट महसूस करेंगे। मन में उत्साह की वृद्धि, द्रव्य लाभ।
सितम्बर- व्यापारिक स्थिति मध्यम रहेगी। धन व्यय एवं सुख में कमी, मन में अशांति बनी रहेगी। परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। धर्म, कर्म में आस्था रखने से स्थिति में कुछ सुधार होगा। पूजा पाठ में रुचि बनाये रखे। अधिकारियों से उलझनेंं से बचें।
अक्टूबर- मनोरथ सिद्ध न होने से निराशा का वातावरण रहेगा। व्यापार में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रहेगी। शत्रुओं की वृद्धि होगी। परन्तु आप अपने चातुर्य और बुद्धि कौशल से शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। क्रोध पर नियंत्रण रखें। उत्तराद्र्ध में स्थिति में सुधार होगा।
नवम्बर- स्वजनों से विवाद, जलभय, भोजन शयन में गतिरोध, आधिव्याधि का आकस्मिक आक्रमण, धनजन की हानि, अव्याधिक प्रपंचों का अनुभव होगा, उच्चाधिकारियों की कृपा से कार्य सिद्धि, राजनेताओं से सम्पर्क, श्रम साध्यता से जीवन निर्वाह होगा। शुभ कार्यों में धन व्यय होगा। धार्मिक कार्य में रुचि बढ़ेगी।
दिसम्बर- मासफल मध्यम है। साथी सहयोगियों से सुख सहानुभूति का लाभ मिलेगा। नौकरी व्यापार से लाभ, अल्प रहेगा। व्यवहार में सामाजिक मर्यादा बढ़ेगी। भाग्य की मन्द गति रहेगी। आलस्य प्रमाद से बचना आवश्यक होगा। आगन्तुकों से कष्ट की अनुभूति होगी। भाग्य अत्यन्त प्रबल है। दुर्गा पाठ करें। खर्च से परेशानी, आय में कमी, स्वास्थ्य लाभ होगा।

कन्या

जनवरी- सभी शुभ कार्य कठोर, परिश्रम के द्वारा ही बनेंगे। व्यय अधिक होगा। गृहस्थी, स्त्री, पुत्री आदि का सुख प्राप्त होगा। श्रेष्ठ संगत से लाभ, महिला का सहयोग आपके क्षेत्र को स्थिर बना सकता है। स्वधर्म पालन से व्यापारिक लाभ व वाहन सुख उत्तम रहेगा।
फरवरी- विशिष्ट व्यक्तियों का समागम, नियमित आमदनी का मार्ग प्रशस्त करेगा। आमदनी कम पर खर्च की अधिकता रहेगी। स्त्री एवं संतान का स्वास्थ्य बाधित होगा। सामान्य जीवनयापन की राह मिलेगी। जनप्रियता बढ़ेगी। व्यर्थ वाद-विवाद से बचें।
मार्च- शत्रुओं द्वारा कार्य में बाधा संबंधी चिन्ता रहेगी, मित्रगण भी शत्रुवत व्यवहार कर सकते हैं। उदर पीड़ा से कष्ट, भाइयों द्वारा कष्ट की आशंका, शारीरिक सुख तथा मन में उत्तम विचार आयेंगे। परेशानी दूर होगी। पत्नी व सन्तान से सुख मिलेगा।
अप्रैल- इस माह रोजी रोजगार उत्तम होगा। इष्ट मित्रों से कार्यों में सिद्धि होगी। परिवार में सुख शांति एवं मांगलिक कार्य होंगे। भाई एवं सन्तान से कष्ट में वृद्धि होगी। उदर व नेत्र रोग से पीड़ा बनेगी। उत्तराद्र्ध में मान-प्रतिष्ठा की वृद्धि। वाणी कठोरता से बचें।
मई- रुके कार्यों में सफलता मिलेगी। रोजी-रोटी व व्यवसायिक कार्यों में उतार-चढ़ाव रहेगा। उत्साह के साथ श्रम एवं चतुराई से आवश्यक कार्यों में सफलता मिलेगी। शिक्षा एवं स्वास्थ्य में सामान्य लाभ मिलेगा। परिजनों से विवाद सम्भव है तथा व्यर्थ भ्रम भी रहेगा। यात्रा का योग रहेगा।
जून- उच्चाधिकारियों के सहयोग से आर्थिक और व्यावसायिक संसाधनों में वृद्धि होगी। भागीदारी से विवाद की स्थिति बन सकती है। उत्साह एवं आत्म शक्ति का उदय होगा। किन्तु माह के उत्तराद्र्ध में रोजगार व व्यवसाय में कुछ कार्यों में रुचि बढ़ेगी। परिजनों से विवाद सम्भव है तथा व्यर्थ भ्रमण भी रहेगा। व्यापार में लाभ मिलेगा।
जुलाई- धन और यश की वृद्धि, पदोन्नति, व्यापार में आंशिक लाभ होगा। उत्तम भोजन एवं शयन की सुविधा पारिवारिक सुख उत्तम परन्तु व्यय की अधिकता होगी। अत्याधिक कार्य व्यस्तता के कारण शरीर अस्वस्थ सा रहेगा। श्रेष्ठजनों की संगति से लाभ मिलेगा। यात्रा से लाभ।
अगस्त- स्वास्थ्य की दृष्टि से आपको अत्याधिक सावधानी रखनी पड़ेगी। खान पान पर नियंत्रण रखें। व्यापार में उतार-चढ़ाव की स्थितियां बनी रहेगी। पदोन्नति में लाभ। राजकीय कार्यों में रुचि। स्त्रियों के लिए यह माह शुभ रहेगा। अकारण क्रोध से बचें।
सितम्बर- इस माह रोजी-रोजगार में अनेक अड़चने आयेगी। साहस एवं बुद्धि चातुर्य से कार्य करने में आपको सफलता प्राप्त होगी। दुष्टों की संगति से बचें। कष्टप्रद यात्रा, ऋण के लेन-देन से व्यथित रहेंगे। स्थिति में सुधार, धर्म में आस्था, स्त्री सुख मिलेगा।
अक्टूबर- इस माह रोजी रोजगार में अड़चनें आयेगी। साहस, चातुर्य एवं बुद्धि से कार्य करने में सफलता प्राप्त होगी परन्तु दुष्टजनों की संगत से बचें। कष्टकारी यात्रा, ऋण के लेन-देन से व्यथित रहेंगे उत्तराद्र्ध में स्थिति में कुछ सुधार होगा। कर्म में आस्था रखें।
नवम्बर- अन्न, धन वस्त्रादि का सामान्य सुख, परीक्षा प्रतियोगिता में बड़े परिश्रम से सामान्य सफलता मिलेगी। महिला समाज से अनुकूलता, धैर्य के अवलम्बन से कार्य सिद्ध होकर चित्त प्रसन्न होगा। घरेलू साज-सज्जा, मरम्मत, अतिथि सत्कार में व्यय होगा। स्वास्थ्य में सुधार होगा। स्वप्न दर्शन से लाभ होगा।
दिसम्बर- रोजी धंधे के क्रमिक विकास में स्वजनों से सहयोग की प्राप्ति, अनेक शुभाशुभ कार्यों में धन का व्यय बढ़ेगा। वाद-विवाद की स्थितियां नियंत्रित होंगी। आकस्मिक लाभ अल्प मात्रा में होंगे। भोजन शयन में व्यतिक्रम बनेगा। सन्तान से कष्ट, विरोधियों का नियंत्रण कमजोर रहेगा। परिश्रम के प्रति उत्साह भंग होगा। धन लाभ के योग है।

तुला

जनवरी- विद्वानों और गुरुजनों का परामर्श हितकारी होगा। आत्म शक्ति का उदय, श्रेष्ठ संगति में बौद्धिक विकास, आजीविका के क्षेत्र में विस्तार, स्वजन समागम अनुकूल, माता-पिता का सुख श्रेष्ठ है। कार्यों में सफलता। ग्रह कलह से मतभेद बनेगा। यात्रा सम्भव।
फरवरी- भावुकता में कोई निर्णय न लें। शत्रुओं से सावधान रहें, सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। धनी, मानी प्रतापी पुरुष से सम्पर्क बनेगा। दाम्पत्य जीवन सुखपूर्ण व्यतीत होगा। गुप्त शत्रुओं से सावधान रहें। गृहस्थी की जिम्मेदारी बढ़ेगी।
मार्च- पत्नी व बच्चों से मानसिक कष्ट मिलेगा। प्रयास से ही बिगड़े कार्य बनेंगे। उन्नति की भावना जाग्रत होगी। महिलाओं का चित्त शांत और सजग रहेगा। स्वजन समागम से हर्ष होगा। पड़ोस में शुभ कार्य का सम्पादन। आपका कार्यपक्ष मजबूत रहेगा।
अप्रैल- इस मास में शारीरिक सुख उत्तम, नवीन कार्यों में प्रगति होगी। सामाजिक प्रतिष्ठा से हर्ष, शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। शुभ कार्यों में धन खर्च होगा। व्यापार में लाभ, पारिवारिक सुख, गुरुजनों के प्रति आस्था, व्यापार में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनेगी।
मई- यह माह आपके लिए शुभाशुभ मिश्र फलकारक होगा। साहसिक कार्यों में महत्वपूर्ण उपलब्धि व धन लाभ, मित्रों से साधारण द्वेष भावना, भाइयों से प्रेम, परिवार में धार्मिक व मांगलिक कार्य सम्भव होंगे। संतान संबंधी समस्या हल होगी। स्त्री व संतान का सुख प्राप्त होगा। यात्रा लाभ होगा।
जून- इस माह ख्याति व उन्नति मिलेगी। दान पुण्य आदि में रुचि होगी। उच्च अधिकारियों से प्रसन्नता और प्रोत्साहन मिलेगा। उत्तराद्र्ध में मिथ्या-वाद, माता-पिता को कष्ट सम्भव है। शत्रुओं की वृद्धि होगी। परन्तु आपके बुद्धि कौशल से शत्रु पराजित होंगे। पत्नी की सलाह लाभप्रद साबित होगी। मन कुछ अशांत रहेगा। दुर्जनों से पीड़ा मिलेगी।
जुलाई- यह माह आपके लिए शुभ फलकारक होगा। जनसंपर्क में वृद्धि। पूजा पाठ, उपासना में गहरी रुचि होगी। मन में चंचलता की वृद्धि। परन्तु फिर भी परीक्षा प्रतियोगिता में सफलता। धैर्य न खोएं कम्पटीशन में कुछ नया देखने को मिलेगा। आनन्द की प्राप्ति।
अगस्त- गुप्त शत्रुओं की वृद्धि होगी। अत्याधिक श्रम से अल्प लाभ की स्थिति बनेगी। पारिवारिक उत्तरदायित्वों की पूर्ति होगी। आरोप-प्रत्यारोप का सामना करना पड़ सकता है। निर्णायक क्षमता में कमी नहीं आयेगी। ऋण के लेन-देन से बचें। बने कार्य बिगड़ेंगे।
सितम्बर- गृहस्थ जीवन में सुख, नौकरी व्यापार में उन्नति, अत्यधिक संघर्ष के बाद व्यवसाय में उन्नति, शत्रु पक्ष प्रबल होंगे। अत्यधिक श्रम संघर्ष से रुके कार्य सफल होंगे। देव आराधना से कुछ उन्नति व राहत मिलेगी। मासान्त में समय आपके अनुकूल होगा।
अक्टूबर- इस माह में प्रत्येक कार्य अड़चनों के साथ पूरा होगा। घर में कलह रहेगी। स्त्री-पुरुष को कष्ट, देव आराधना धर्म कर्म दान करने से राहत मिलेगी। माह के अन्त में कुछ राहत मिलेगी। समय अनुकूल होगा। नाराज लोगों को मनाने में सफलता प्राप्त होगी।
नवम्बर- यह माह आपके लिये विशेष शुभ नहीं है। व्यापार साधारण व गन्दा रहेगा। पारिवारिक उलझनें बढ़ेगी। वाद-विवाद में निराशा के बाद सफलता प्राप्त होगी। उत्तराद्र्ध में कुछ नवीन कार्यों का सम्पादन करेंगे। इष्ट मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। क्रोध पर नियंत्रण रखें। अन्यथा हानि होगी।
दिसम्बर- दान पुण्य के कार्यों में रुचि बढ़ेगी। कल्याणकारी परिस्थितियों का समावेश होगा। सरकारी मामलों में स्रफलता प्राप्त होगी। गृहस्थ सुखों में बढ़ोत्तरी होगी। शुभ मांगलिक कार्यों में आपकी उपस्थिति महत्वपूर्ण रहेगी। पारिवारिक सुख शान्ति मनोरंजन व भ्रमण के योग है। व्यापार सामान्य चलेगा। शत्रुओं का शमन-दमन होगा।

वृश्चिक

जनवरी- धन का दुरुपयोग रोकने की चेष्टा करें। भूमि, भवन, वाहन आदि के क्रय-विक्रय में सफलता, व्यापार व्यवहार की पूर्ववत चिन्ता, इष्ट मित्र कुटुम्बियों से दु:ख व्यवहार असहनीय होगा। किसी अधीनस्थ व्यक्ति के कारण धन की हानि हो सकती है।
फरवरी- मन अशांत रहेगा। रोग ऋण प्रबल, व्यावसायिक परेशानियां होगी, परन्तु आप अपने बुद्धि कौशल व चातुर्य से इन समस्याओं से निकलेंगे। शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में सुधार होगा। नवीन परिवर्तन व नाना प्रकार के कार्यों की अधिकता रहेगी। यात्रा में कष्ट संभव है।
मार्च- हर कदम पर आपके धैर्य व सहनशीलता की परीक्षा होगी। स्थानांतरण का योग बनेगा। भौतिक सुख साधनों की वृद्धि, परिवार का सुख उत्तम रहेगा। व्यवहारशीलता की अधिकता रहेगी। ईश्वरीय उपासना के माध्यम से हर्ष की प्राप्ति होगी।
अप्रैल- भावुकता में कोई गलत निर्णय न लें। शत्रुओं से सावधान, सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी बनी रहेगी। मानसिक चिन्ता, मकान व खेती से धन लाभ, घर गृहस्थी के बढ़ते हुए खर्च से परेशान रहेंगे। वस्त्राभूण आदि का लाभ मिलेगा।
मई- खूब सोच विचार कर कार्य करने से सफलता मिलेगी। देश, परदेश की यात्रा। पारिवारिक कष्ट व उन्नति की चिन्ता रहेगी। वाहन दुर्घटना से सावधान रहें। मित्रों का साथ हर्षमय होगा। उदर-विकार से शरीर दु:खी होगा। स्त्री व संतान का सुख प्राप्त होगा। वाणी का प्रयोग संयमित करें।
जून- यह माह आपके लिये अत्यंत शुभ होगा। जीवन साथी का सहयोग मिलेगा। रहन सहन के स्तर में कुछ सुधार होगा। जोश रोग, उत्तेजना की वृद्धि होगी। मान-सम्मान में वृद्धि, धर्म में रुचि। स्वजनों का सहयोग, स्त्री व संतान का सुख मिलेगा। काम में बाधाओं के कारण प्रगति रुकने की आशंका है। उगते सूरज को जल दें। व्यापार लाभ होगा।
जुलाई- इस माह आपको काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। जनसंपर्क में वृद्धि, लाभ, हानि सामान्य, गंभीरता से विचार करके किसी कार्य का निर्णय लें। भाग्य में कुछ कमी परन्तु समस्या का समाधान होगा। ईष्ट मित्रों से सहायता प्राप्त होगी। दुष्टों से बचें।
अगस्त- यह माह आपके लिए मिश्रफल कारक है। बड़े बुजुर्गों के सलाह से लाभ होगा। अधिकारी जन व गुरुजनों का सहयोग प्राप्त होगा। व्यक्ति विशेष से परेशानी व स्वास्थ्य में कुछ गड़बड़ी रहेगी। सट्टा जुआ लाटरी से दूर रहें। अन्यथा लाभ की जगह हानि मिल सकती है।
सितम्बर- सामाजिक एवं धार्मिक कार्यों में महिलाओं से सहयोग की प्राप्ति जो कि सफलता दिलाएगी। चौराग्नि भय, शारीरिक अवस्था से मन खिन्न रहेगा। कठिन श्रम से अल्प लाभ, सट्टा, लाटरी, जुआ से दूर रहें। अन्यथा हानि उठाएंगे। पत्नी से सुख।
अक्टूबर- इस माह के प्रारंभ में आपकी मानसिक स्थिति ठीक रहेगी। परन्तु उत्तराद्र्ध में बिगड़ जाएगी। सार्वजनिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी। जो आपको अभीष्ट फल प्राप्त करायेगी। इंसान की पहचान करने से आप सफल होंगे। इष्टमित्रों से सहयोग मिलेगा।
नवम्बर- इष्ट मित्रों से मतभेद एवं स्वास्थ्य गड़बड़ी, लौहपाद से अष्टमस्थ गुरु देव का आगमन मिश्रफलकारक है। बाहरी संबंधों से मधुरता पूर्ण स्थितियां बनेगी। पत्नी पक्ष से सुखों की प्राप्ति होगी। व्यापारिक स्थितियां सुधरती नजर आयेगी। मान सम्मान पद प्रतिष्ठा की प्राप्ति होगी। धन संचय होगा।
दिसम्बर- परिवार में सुख दु:ख का सन्तुलन बनाएं रखें। इस माह औपचारिकताएं बनाए रखें। पड़ोसी से संबंध मधुर रखें। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा। भूमि की खरीद फरोक्त आपको लाभ प्रदान करेगी। अनुचित साधनों से लाभ की आशा न करें। किसी बात से मन अशान्त रहेगा। लोक प्रतिष्ठा प्राप्त होगी। शत्रुओं का भय कम होगा।

धनु

जनवरी- यह मास आपके लिये सामान्य फलकारक होगा। शत्रुओं से सावधान रहें। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। कार्यक्षेत्र में कुछ परिवर्तन होगा। ऋण का लेन-देन न करें। यह आपके लिये नुकसानदायक होगा। गृहस्थी में अनुकूलता रहेगी। उचित मनोरथ की सिद्धि होगी।
फरवरी- मानसिक तनाव, झगड़े झंझट से दूर रहें, धर्म कार्यों में रुचि बढ़ेगी। मन में निराशा की भावना जाग्रत होगी। बड़ों की सलाह से कार्य करने से मन की शांति मिलेंगी व बिगड़े काम बनेंगे। विश्वास पात्र से धोखा मिलेगा, कार्य सफल होंगे।
मार्च- स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। मानसिक चंचलता बनी रहेगी। अकस्मात स्थायी संपत्ति का नुकसान होगा। मित्रों से सावधान रहें क्योंकि मित्रों से धोखा खा सकते हैं। ईष्र्या की भावना मन में न पैदा होने दे, पत्नी व पुत्र का सहयोग प्राप्त होगा। भ्राता पक्ष से सहमति।
अप्रैल- मानसिक अशांति मिलेगी। कठोर परिश्रम से महत्वपूर्ण कार्यों में सफलता मिलेगी। पारिवारिक कष्ट होगा। रोजी-रोजगार में लाभ होगा। पुरुषार्थ से बिगड़े हुए कार्य बनेंगे। यात्रा में कष्ट संभव है।
मई- उन्नति का द्वार खुलेगा। मान-सम्मान की वृद्धि होगी। यात्रा कष्टप्रद होगी। धनाभाव के कारण मानसिक चिन्ता रहेगी। परिवार में कलह होने की सम्भावना है परन्तु पत्नी से सहयोग प्राप्त होगा। अधीनस्थ कर्मचारियों से विरोध, अस्वास्थ्य प्रद अनियमित दिनचर्या रहेगी।
जून- रोजी-रोजगार के लिये कठिन परिश्रम करना पड़ेगा। पाप कर्मों की प्राप्ति बढ़ेगी। मानसिक क्लेश, साहस पराक्रम में कमी। धर्म कर्म में अरुचि बढ़ेगी। अपने जोश क्रोध पर काबू रखें यह आपके लिये कष्टप्रद साबित होगा। धनाभाव से मन खिन्न रहेगा। जमीन-जायदाद में विवाद। सन्तान से सुख की प्राप्ति, बुद्धि व वाणी पर नियंत्रण रखें।
जुलाई- प्रिय वस्तु की अप्राप्ति से मन खिन्न। भाइयों से द्वेष, विश्वास पात्र से धोखे की सम्भावना है। उत्तराद्र्ध में ज्वर से शारीरिक कष्ट संभव, धैर्य से काम लें। बुध शुक्र सूर्य की प्रतिकूलता रहेगी। प्रेम व सौहाद्र्र की प्राप्ति।
अगस्त- समाज में मान-सम्मान की स्थिति बनेगी। रचनात्मक कार्यों के प्रति रुझान बढ़ेगा। पारिवारिक जनों से कुछ मतभेद होगा। कुछ इष्ट मित्रों में आपके प्रति ईष्र्या की भावना पैदा होगी। व्यापार में उन्नति, नौकरी में पदोन्नति के मार्ग खुलेंगे। घरेलू कष्ट संभव।
सितम्बर- कार्य व्यवसाय में आर्थिक सुधार तथा लाभ। सप्तमस्थ राहु पूज्य है। किसी शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। किसी वृद्ध व्यक्ति से विद्रोह की स्थिति बन सकती है। अनावश्यक खर्च एवं शरीर कष्ट संभव है।
अक्टूबर- इस माह पुरानी विपत्तियों का आंशिक निवारण आपको खुशी प्रदान करेगा। परन्तु हिम्मत, शक्ति, पुरुषार्थ से पूर्ण सफलता प्राप्त करेंगे। घरेलू वातावरण सामान्य, मान प्रभाव में वृद्धि, मुकदमों में विजय, स्वास्थ्य भी उत्तम रहेगा। व्यापार, नौकरी पूर्ववत रहेगी।
नवम्बर- द्रव्य वस्त्रादि का सामान्य लाभ, मित्र एवं परिवार से सुख, सहयोग प्राप्त होगा। विद्याध्ययन से श्रमानुकूल सफलता प्राप्त होगी। दिनचर्या व्यवस्थित रहेगी। भोजन शयनादि कार्यों में रुझान बढ़ेगा। रोजगार में वृद्धि। नये वस्त्रादि का लाभ। मासान्त में व्यापारिक यात्रायें सफल होगी।
दिसम्बर- इस माह स्वार्थी लोग आपसे सम्पर्क बढ़ाने की कोशिश करेंगे। ज्योतिष और तन्त्र-मन्त्र की संभावनाओं में गुरु कृपा से अच्छी सफलता और प्रसिद्धि मिल सकती है। सभी प्रकार की चिन्ता में कमी, लाटरी, जुआ, शेयर, सट्टा से हानि होगी। स्वास्थ्य ठीक, वाहन कष्ट, मन शांत रहेगा। धन प्राप्ति के साधन सशक्त होंगे। सन्तान सुख।

मकर

जनवरी- देव पूजा दान पुण्य करने से मानसिक शान्ति एवं धनधान्य की वृद्धि होगी। अनेक प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। गुप्त शत्रु बढ़ेंगे। परन्तु अपने आप शान्त हो जायेंगे। रोजी-रोजगार व्यापार में सफलता मिलेगी।
फरवरी- अध्ययन व नवीन दिशा की ओर जीवन अग्रसर होगा। न्यायालयिक कार्यों में सफलता। रोजी-रोजगार, नौकरी की स्थिति में सुधार, माता-पिता को कष्ट, आय-व्यय में समानता, क्षमाशीलता की वृद्धि, धन का लाभ, मन शान्त रहेगा। कष्टप्रद यात्रा।
मार्च- सेवा कार्य में पदोन्नति के योग है। किसी शुभ समाचार से मन प्रसन्न होगा। स्वजनों से मनमुटाव, श्रेष्ठजनों की संगति लाभदायक होगी। बड़े बुजुर्गों की सलाह से कार्य करें तो लाभ होगा। व्यापार में साधारण लाभ।
अप्रैल- बने बनाये कार्यों में रुकावट, ग्रह प्रपंच के कारण मानसिक अशांति व परेशानियों का बढऩा। बौद्धिक क्षमता का विकास होगा। स्वाभिमान की रक्षा होगी। व्यापार मान पद प्रतिष्ठा की वृद्धि, धर्म कर्म में रुचि बढ़ेगी। आय व व्यय दोनों सामान्य होंगे।
मई- मासारम्भ में धन की कमी से मन अशान्त रहेगा। प्राय: मकान वाहन के विषय से आप परेशान रहेंगे। भाइयों से झंझट रहेगा। मुकदमों में दौड़-धूप अधिक करनी पड़ेगी। नौकरी-व्यापार में पदोन्नति, पद प्रतिष्ठा यश की वृद्धि के योग। स्त्री पद से साधारण कष्ट होगा। व्यापार में लाभ।
जून- भगवत कृपा से मनोबल उच्च रहेगा। रोग से मुक्ति मिलेगी। व्यापार संबंधी नवीन कार्य सफल होंगे। धन खर्च होगा। उत्तराद्र्ध में अकारण क्रोध से बचें। निकट संबंधियों से मनमुटाव, जायदाद का विवाद, विचारों में अस्थिरता मिलेगी। दुष्टों की संगति से बचें। आकस्मिक लाभ मिलेगा।
जुलाई- रोजी-रोजगार, कार्य व्यवस्थित रहेगा। अस्त्र-वस्त्र की प्राप्ति। शत्रु नाश तथा मान-प्रतिष्ठा का सुख होगा। शुभ विचार का उदय होगा। किन्तु सुख में कमी, व्यय से चिन्तायें बनेगी। स्वजनों से विवाद, आलस्य प्रमोद बढ़ेगा। परिजन सुखी होंगे।
अगस्त- अनावश्यक यात्रायें करनी पड़ सकती है। दिनचर्या अव्यवस्थित होगी। सन्तान पक्ष से मन असंतुष्ट रहेगा। पारिवारिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। दु:ख का शमन होगा। उत्तराद्र्ध में मन प्रसन्न रहेगा। नवीन योजनाओं का निर्माण होगा।
सितम्बर- अधिकारी वर्ग का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। किसी प्रिय वस्तु के खोने या वियोग की संभावना, विश्वासपात्रों से धोखा प्राप्त होगा। नवीन योजनाओं की तरफ चल रहा प्रयास सफल होगा। भाग्योदय से उन्नति के मार्ग खुलेंगे। रुके हुए कार्य पूर्ण होंगे।
अक्टूबर- यह माह मन में कुछ अशान्ति पैदा करेगा। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। इष्ट मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। चित्त व मन कुछ अशान्त रहेगा। भातृवर्ग से कुछ असंतोष रहेगा। द्वेष भावना पैदा होगी। पारिवारिक प्रेम बढ़ेगा, संकल्पित कार्य पूर्ण होंगे।
नवम्बर- गृहस्थ सुख-सुविधाओं की पूर्ति होगी। व्यापारिक उन्नति की ओर अग्रसर होंगे। भाग्योन्नति के मार्ग खुलेंगे। साज-सज्जा के कार्यों में इस माह आपका अत्याधिक समय व्यतीत होगा। रोग कष्ट से मुक्ति मिलेगी। भौतिक सुख-सुविधा मिलेगी।
दिसम्बर- बौद्धिक कौशल तथा चतुराई से कार्य में सफलता मिलेगी। किन्तु व्यय की अधिकता से मन दु:खी होगा। शत्रु पराजित होंगे। भोजन वस्त्रादि की कमी तथा स्वजनों का वियोग होगा। उत्तराद्र्ध में अन्न, धन का लाभ होगा। प्रवासी होना पड़ेगा। बड़े बुजुर्गों की सलाह से कार्य बनेंगे। पद प्रतिष्ठा की वृद्धि, राहु का जप करें।

कुम्भ

जनवरी- स्वजनों से आर्थिक लेन-देन में सावधानी बरतें। शुभ कार्यं सम्पादित होंगे। व्यापारिक सफलताएं, मानसिक चिन्ताएं प्रबल होगी। दैनिक क्रियायें अव्यवस्थित होंगी। रोजी-रोजगार व्यापार में रुकावट, अधिक भय से अल्प लाभ जिससे मन खिन्न रहेगा।
फरवरी- कार्य क्षेत्र में प्रगति का अनुभव करेंगे। आकस्मिक अन्न द्रव्य का लाभ, सांसारिक भोग-विलासिता में रुचि की वृद्धि। विरोधियों का शमन होगा। भाग्योदय होगा, उन्नति के द्वार खुलेंगे। क्रोध जोश की वृद्धि होगी। स्त्री पक्ष से मतभेद की स्थिति बनेगी। यश बढ़ेगा।
मार्च- पारिवारिक सदस्यों में परस्पर सहयोग की भावना रहेगी। आपको अपनी की गई गलतियों का परिणाम भुगतना पड़ेगा। दाम्पत्य जीवन सुखमय बीतेगा। सत्पुरुष से मेल जोल बढ़ेगा, जिससे उन्नति के मार्ग खुलेंगे। नौकरी व व्यवसाय में पदोन्नति, आर्थिक तंगी रहेगी।
अप्रैल- इस माह साहस एवं पराक्रम के द्वारा कठिन कार्यों में सफलता प्राप्त करेंगे। आध्यात्मिक ज्ञान का विकास होगा। गलतियों में सुधार करना आपके लिये लाभदायक होगा। धन संपत्ति के विवाद में विजय प्राप्त करेंगे। व्यापार पर ध्यान दें। क्रोध पर नियंत्रण रखें।
मई- नवीन व्यापार की शुरुआत होगी। अपने प्रयत्नों के द्वारा आप सफल होंगे। नौकरी में उन्नति के योग है। सहयोगियों से सहयोग मिलेगा। रोग, ऋण, शत्रु का शमन होगा। प्रबल बाधा का अन्त होगा। पारिवारिक उत्तरदायित्व की वृद्धि, भय, संशय आदि से बचते हुए आवश्यक कृत्यों का निर्वाह करें।
जून- सभी विपत्ति बाधाओं का निवारण होगा। धर्म कार्यों में आस्था, साहस व पराक्रम में वृद्धि, शारीरिक सुख, सन्तान पर अधिक व्यय होगा। अनावश्यक खर्चों में वृद्धि, पठन-पाठन में रुचि की वृद्धि होगी। माह के उत्तराद्र्ध में कुटुम्बियों से झगड़ा। रोजगार में विघ्न, स्थान परिवर्तन होगा, नये पद की प्राप्ति होगी। विवाद से बचें।
जुलाई- गुरुजनों का सहयोग आपके लिये शुभ है। सुख का अहसास होगा। नये-नये शुभ समाचार प्राप्त होंगे। मन प्रसन्न रहेगा। मित्रों से वाद-विवाद, बौद्धिक विकास, कार्य क्षेत्र का विकास, धन की वृद्धि, यात्रा से सुख की प्राप्ति। वाहन दुर्घटना से सावधान रहें।
अगस्त- विभिन्न परिस्थितियों में सुधार, आमोद-प्रमोद के साधन बढ़ेंगे, श्रेष्ठजनों का परामर्श लाभप्रद होगा। भावुकता पर नियंत्रण रखें। व्यापार में उतार-चढ़ाव रहेगा। अकारण वाद-विवाद उत्पन्न होगा। आर्थिक समस्याओं का समाधान होगा। धार्मिक कार्यों का सम्पादन होगा।
सितम्बर- मान-सम्मान एवं पद-प्रतिष्ठा की वृद्धि, महत्वपूर्ण कार्यों का सम्पादन करेंगे। स्वार्थी लोगों से बचकर रहें। व्यापार में कुछ परिवर्तन होगा। लाभ की आशा अधिक है। व्यापार पर ध्यान केन्द्रित करें। व्यापार में कुछ परिवर्तन होंगे। वाहन भावनादि का सुख मिलेगा।
अक्टूबर- इस माह पठन-पाठन में रुचि बढ़ेगी। आरोग्य सुख सम्मान की वृद्धि, व्यापार में धीमी गति से प्रगति होगी। बुद्धि विवेक प्रतिभा का विकास होगा। नौकरी में पदोन्नति सुखद, यात्रायें करनी पड़ सकती है। आय से व्यय अधिक, मन अशान्त रहेगा। क्रोध पर नियंत्रण रखें।
नवम्बर- आपके विचारों में नई चेतना का विकास होगा। मन प्रसन्न रहेगा। व्यापार में सफलता की प्राप्ति होगी। निकटवर्ती संबंधी व मित्रों से मन मुटाव क्रोधावेश की वृद्धि होगी। परीक्षा प्रतियोगिता में सफलता की प्राप्ति होगी। मान-सम्मान, पद प्रतिष्ठा की वृद्धि, देवार्चन से विशेष लाभ। राहु का जप करें।
दिसम्बर- यह माह आपके लिये शुभाशुभ मिश्र फलकारक है। भोजन शयनादि का उत्तम सुख प्राप्त होगा। उत्तराद्र्ध में आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। व्यापार में उन्नति, प्रतिष्ठा की वृद्धि। वाणी में कठोरता से बने काम बिगड़ेंगे। पारिवारिक व मानसिक क्लेश, गुरु और राहु का जप करायें। यात्रा में सुख। मान-सम्मान पद प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी।

मीन

जनवरी- यह माह शुभ है, पारिवारिकजनों का सहयोग प्राप्त होगा। विद्याध्ययन में श्रमानुकूल सफलता प्राप्त होगी। व्यापार में लाभ मिलेगा। धार्मिक एवं आध्यात्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी। वाद-विवाद एवं झगड़े झंझटों से बचने का प्रयास करें। कार्य शैली में बदलाव। प्रतिष्ठा कमजोर होगी।
फरवरी- रोजी-रोजगार व्यापार में अल्प लाभ, सत्परामर्श से लाभ, शुभ कार्यों में सफलता प्राप्त करेंगे। अधीनस्थ लोगों से सामंजस्य बनाये रखें। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। अधिकारियों से संबंध उत्तम बनेंगे। क्रोध पर संयम रखें लाभ होगा। उत्तम भोजन का अवसर प्राप्त होगा।
मार्च- पारिवारिक सुख मध्यम, सन्तान का सुख व सहयोग, सामाजिक, राजनैतिक सम्पर्क का प्रभाव व लाभ मिलेगा। पहले से चल रही व्यापारिक योजनायें सफल होगी। नौकरी पेशा वालों के लिए यह माह शुभ है। साहस व पराक्रम की वृद्धि व धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी।
अप्रैल- मासारम्भ में सुख साधनों की उपलब्धता में वृद्धि होगी। स्त्री पक्ष कुछ कमजोर रहेगा। राजकीय सहायता प्राप्त होगी। व्यापार उद्योग धन्धों में प्रगति। अन्न धन नये वस्त्र आदि का लाभ होगा। यात्रा में कष्ट संभव है।
मई- मासारम्भ में सुख शान्ति नियमित, आमदनी की वृद्धि का मार्ग प्रशस्त, दूसरों की भलाई-बुराई से आपको क्या लेना-देना है। आलोचनात्मक संबंधों से दूर हो जायें, यह आपके लिये हितकर होगा। विद्यार्थियों को कठिन परिश्रम से सफलता मिलेगी। अत: बजरंग बली जी के दर्शन करें। लाभ मिलेगा।
जून- धार्मिक यात्रायें करेंगे जो कि मन को अत्याधिक प्रसन्न रखेगी। खर्च की अधिकता से व्यापार का सन्तुलन बिगड़ेगा। धन की कमी महसूस करेंगे। साहित्य संगीत से आनंद का अनुभव करेंगे। इष्ट मित्रों से लाभ प्राप्त होगा। रिश्तेदारों से नजदीकियां बढ़ेगी। स्त्री व संतान सुख मिलेगा। धर्म के प्रति रुचि बढ़ेगी। व्यापारिक स्थितियां सुधरती मिलेगी।
जुलाई- इस माह वैचारिक शक्ति की परिपक्वता से बिगड़े काम बनेंगे। सहयोगियों से वाद-विवाद, भाइयों से असहयोग, शत्रुओं का भय, व्यापार में साधारण लाभ, धर्म परोपकार में वृद्धि के योग है। मन प्रसन्न रहेगा। धन हानि की संभावना है।
अगस्त- विवादास्पद मामलों में विजयी होंगे। शुभ कार्यों का सम्पादन होगा। व्यापार में उतार-चढ़ाव वाली स्थिति, आमोद-प्रमोद के साधन बने रहेंगे। अनावश्यक खर्चों में वृद्धि, आर्थिक समस्याओं का निवारण होगा। मन शान्त व प्रसन्नचित्त रहेगा। यात्रा कष्ट संभव है।
सितम्बर- कार्य क्षेत्र में सफलता मिलेगी। परीक्षा प्रतियोगिता में सफलता मिलेगी। शत्रुओं की वृद्धि होगी। कौशल से विजय प्राप्त करेंगे। माता पक्ष से विशेष लाभ होगा। तीर्थयात्रा के अवसर प्राप्त होंगे। मन प्रसन्न रहेगा। धनलाभ पारिवारिक सुख उत्तम रहेगा।
अक्टूबर- यह माह आय व्यय के मामले में सामान्य है। खान-पान भी ठीक रहेगा। रोग व्याधियां नियंत्रण में रहेगी। धन संचय, परिवार सुख, भोजन, शयन की व्यवस्था उत्तम रहेगी। शरीर में नई चेतना का विकास होगा।
नवम्बर- इस माह बुद्धि को स्थिर रखें तो लाभ होगा। अधिकारियों से संबंध बनाये रखें। वैसे इष्ट मित्रों व रिश्तेदारों से लाभ की आशा कर सकते हैं। संकल्प लिए गए कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। उन्नति के मार्ग खुलेंगे। रोजी-रोजगारों में उन्नति होगी। जायदाद में विवाद संभव है।
दिसम्बर- नेतृत्व शक्ति का विकास होगा। गृहस्थ सुख सुविधाओं की पूर्ति होगी। व्यापारिक उन्नति की पूर्ति होगी। भाग्योन्नति के मार्ग खुलेंगे। साज-सज्जा के कार्यों में इस माह आपका अत्यधिक समय व्यतीत होगा। रोगों, कष्टों से मुक्ति मिलेगी। भौतिक सुख सुविधा मिलेगी। भोजन में असुविधा, अशुभ कार्यों में झुकाव होगा। घर का सुख मिलेगा। (विनायक फीचर्स)

 

Advertisement

Related posts

2020 में सबसे ज़्यादा दिहाड़ी मज़दूरों ने आत्महत्या की: एनसीआरबी

admin

लड़की प्राइवेट पार्ट में घुसेड़ी बोतल,महिला दोस्त सहित सभी आरोपी गिरफ्तार

admin

खाली पदों के कारण हरियाणा शिक्षा विभाग का हो रहा बंटाधार

admin

Leave a Comment

URL