AtalHind
क्राइम (crime)गुरुग्राम (Gurugram)टॉप न्यूज़

दिव्या पाहुजा का शव टोहाना नहर से बरामद

दिव्या पाहुजा हत्याकांड

दिव्या की मिली डेड बॉडी दो और दो आरोपी पुलिस ने किया काबू

दिव्या पाहुजा के शव को शनिवार को टोहाना नहर से बरामद किया गया

शव की फोटो देख दिव्या पाहुजा के परिवार वालों ने शव की मौखिक की पहचान

शव की शिनाख्त के लिए दिव्या पाहुजा के परिवार को घटना स्थान पर ले जाया गया

दिव्या पाहुजा हत्याकांड में अभी तक महिला सहित आधा दर्जन आरोपी गिरफ्तार

DIVYA PAHUJA

अटल हिन्द ब्यूरो /फतह सिंह उजाला
गुरुग्राम 13 जनवरी ।

2024 के तीसरे दिन थाना सैक्टर-14, गुरुग्राम में एक सूचना होटल सिटी प्वाइंट नजदीक बस स्टैंड, गुरुग्राम में किसी महिला की हत्या होने के विषय में प्राप्त हुई। सूचना पाकर थाना सैक्टर-14, गुरुग्राम की पुलिस टीम घटनास्थल पर पहुंची। जहां पर ज्ञात हुआ की होटल में दिव्या पाहुजा निवासी बलदेव नगर, गुरुग्राम उम्र-27 वर्ष की हत्या कर बॉडी को ठिकाने लगाने के लिए कहीं बाहर ले जाया गया है। मृतिका की बहन की शिकायत पर थाना सैक्टर-14, में संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। इस मामले में गुरुग्राम पुलिस ने उसी दिन ही मुख्य आरोपी अभिजीत सिंह सहित उसके साथी हेमराज व ओम प्रकाश को गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया तथा वारदात में प्रयोग किया गया हथियार छुपाने में मदद करने वाली एक अन्य आरोपी महिला मेघा को 08 जनवरी को को गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया।

एसीपी क्राइम वरुण दहिया विस्तार से जानकारी देते हुए

Divya Pahuja Murder Case मामले की एसीपी क्राइम वरुण दहिया ने विस्तार से जानकारी देते हुए बताया हत्या की वारदात में शव को ठिकाने लगाने वाले 02 अन्य आरोपियों बलराज सिंह गिल व रवि बंगा के विरुद्ध 10. जनवरी को लुक आउट सर्कुलर जारी किया गया। आरोपी बलराज सिंह गिल, रवि बंगा तथा शव के बारे में सूचना देने पर 50-50 हजार रुपए ईनाम घोषित कराया गया। इसी कड़ी में आगामी कार्यवाही करते हुए अपराध शाखा सैक्टर-17, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने शुक्रवार को उपरोक्त अभियोग में वांछित 50 हजार रुपयों ले ईनामी आरोपी/बदमाश बलराज गिल निवासी सैक्टर-5, पंचकुला उम्र-55 वर्ष को कोलकाता से तथा मुख्य आरोपी अभिजीत के एक अन्य अन्य साथी आरोपी प्रवेश निवासी घिलोड़ कलां, जिला रोहतक, उम्र 37 वर्ष को गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया।

कल तीन हथियार और 40 कारतूस बरामद किए

Divya Pahuja Murder Case में आरोपी प्रवेश ने पुलिस पूछताछ में बतलाया कि यह (प्रवेश) हथियार रखने का शौकीन है और अभियोग में मुख्य आरोपी अभिजीत को इसने (प्रवेश) अवैध हथियार दिए थे। पुलिस टीम द्वारा आरोपी प्रवेश के कब्जा से 01 पिस्टल व जिन्दा कारतूस बरामद किए गए तथा 02 पिस्टल व 40 जिन्दा कारतूस आरोपी (प्रवेश) की निशानदेही पर दिल्ली से बरामद किए गए है। इसके (आरोपी प्रवेश) खिलाफ हत्या के प्रयास, लूट, मादक पदार्थ रखने, अवैध हथियार रखने इत्यादि अपराधों के करीब आधा दर्जन अभियोग अंकित है।

3 जनवरी को डेड बॉडी भाखड़ा नहर में फेंकी

Divya Pahuja Murder Case में  आरोपी बलराज गिल से पुलिस पूछताछ में ज्ञात हुआ कि यह व उपरोक्त अभियोग में मुख्य आरोपी अभिजीत कॉलेज के समय के दोस्त हैं तथा हिसार साथ पढ़ते थे। आरोपी अभिजीत ने इसको बलराज व रवि को फोन करके बुलाया था। आरोपी बलराज अपने अन्य साथी रवि के साथ बीएमडब्ल्यू गाड़ी में दिव्या पाहुजा के शव को लेकर 2 जनवरी की रात को गुरुग्राम से निकले तथा दिनांक 03. जनवरी की सुबह पटियाला से निकलकर शव को भाखड़ा नहर में फेंक दिया और गाड़ी को पटियाला बस स्टैंड पर खड़ी करके वहां से भाग गए।

कोलकाता पहुंच बलराज व रवि अलग हुए

इस दौरान ये पुलिस से बचने के लिए उदयपुर, जयपुर गए तथा वहां से बस पकड़कर कानपुर गए और कानपुर से ट्रेन के माध्यम से कोलकाता गए। कोलकाता पहुंचकर बलराज व रवि अलग हो गए।
पुलिस टीम द्वारा उपरोक्त मामले में अब तक कुल 06 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। पुलिस टीम द्वारा मृतिका दिव्या पाहुजा के शव को भी टोहाना नहर से बरामद किया गया है। शव की फोटो देखकर दिव्या पाहुजा के परिवार वालों ने शव की मौखिक रूप से पहचान की है। शव की शिनाख्त की पुष्टि करने के लिए दिव्या पाहुजा के परिवार को शव बरामदगी के स्थान पर ले जाया जा रहा है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है जिसे न्यायालय में पेश करके आगामी कार्यवाही की जाएगी।

 

5 लोग दिव्या को होटल में ले गए थे

पुलिस की मानें तो गैंगस्टर संदीप गाडोली की गर्लफ्रेंड दिव्या (27 वर्षीय) को मंगलवार को पांच लोग एक होटल के कमरे में ले गए. पुलिस के अनुसार दिव्या को कथित तौर पर सिर में गोली मारी गई थी क्योंकि वह होटल मालिक को ‘अश्लील तस्वीरों’ को लेकर ब्लैकमेल कर उससे पैसे वसूल रही थी. पुलिस ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज में होटल मालिक अभिजीत सिंह (56) सहित संदिग्ध होटल सिटी प्वाइंट की लॉबी से एक नीली बीएमडब्ल्यू कार तक कथित तौर पर सफेद चादर में लिपटे उसके शरीर को घसीटते हुए नजर आ रहे हैं. पुलिस ने बताया कि फुटेज में आरोपियों को दिव्या के शव को डिक्की में रखकर कार से होटल से भागते देखा जा सकता है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि अभिजीत ने होटल से करीब एक किलोमीटर दूर वह कार बलराज गिल उर्फ हेमराज (28) को सौंप दी थी. गुरुग्राम पुलिस ने कहा कि बीएमडब्ल्यू कार पंजाब के पटियाला में एक बस स्टैंड पर लावारिस पाई गई थी

2 जनवरी को हत्या, 4 हत्यारोपी गिरफ्तार

बता दें कि पूर्व मॉडल और गैंगस्टर संदीप गाडौली की गर्लफ्रेंड दिव्या पाहुजा की गुरुग्राम के होटल में गत 2 जनवरी को हत्या कर दी गई थी। दिव्या को बहाने से होटल बुलाकर गोली मारी गई थी, क्योंकि वह होटल मालिक को अश्लील तस्वीरें वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल कर रही थी।
बार-बार पैसे देने के बावजूद जब दिव्या पाहुजा ने फोटो डिलीट नहीं की और ज्यादा पैसे मांगे तो होटल मालिक ने उसे जान से मार दिया। हत्यारोपी अभिजीत सिंह के साथ मिलकर शव को ठिकाने लगाने वाले बलराज गिल ने पुलिस को बताया कि उन्होंने दिव्या का शव पंजाब के पटियाला में भाखड़ा नहर में फेंक दिया था। इसके बाद कार को वहीं लावारिस हालत में छोड़ दिया था।। आरोपियों ने दिव्या के शव को BMW कार में ले जाकर नहर में फेंक दिया और कार को वहीं छोड़ दिया, जिसे पुलिस ने पहले ही बरामद कर लिया था।

Divya Pahuja Murder Case में  अनुमान लगाया जा रहा है कि शव बहकर हरियाणा में आ गया होगा. बलराज को तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड पर गुरुग्राम लाया जा रहा है. उन्होंने खुलासा किया कि शव को भाखड़ा नहर में फेंकने के बाद उन्होंने अपराध में इस्तेमाल की गई बीएमडब्ल्यू को पटियाला बस स्टैंड पर छोड़ दिया था.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, बलराज ने खुलासा किया कि 2 जनवरी की रात वह और रवि बीएमडब्ल्यू में शव लेकर गुरुग्राम से निकले थे. पटियाला में कार छोड़ने के बाद वे सबसे पहले टैक्सी से उदयपुर गए. इसके बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों का पता लगाया तो पता चला कि वे उदयपुर के एक होटल में ठहरे हुए हैं.जब तक पुलिस टीम उदयपुर पहुंची, दोनों आरोपी वहां से भाग निकले और चंडीगढ़ लौट आए.

इस मामले में जिन अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है, वह है अभिजीत, उसके सहयोगी ओम प्रकाश, हेमराज और एक महिला मेघा, जो मुख्य आरोपी को हत्या के हथियार के डॉक्यूमेंट्स और पीड़ित के अन्य निजी सामान को ठिकाने लगाने में मदद करते हैं.

Advertisement
Advertisement

Related posts

देसी पत्रकार धरमु के साथ घटित घटना शर्मनाक  

admin

शेरों (अशोक स्तंभ)के बहाने हंगामा, विपक्ष की दहशत का प्रतीक

atalhind

मनोहर लाल फिसड्डी   साबित हुए 

atalhind

Leave a Comment

URL