AtalHind
राष्ट्रीय

हरियाणा में शस्त्र लाइसेंस संबंधित सेवाएं अब मिलेंगी ऑनलाइन

हरियाणा में शस्त्र लाइसेंस संबंधित सेवाएं अब मिलेंगी ऑनलाइन
मुख्यमंत्री ने 14 शस्त्र लाइसेंस सेवाओं और 6 अस्त्र शस्त्र प्रशिक्षण केंद्रों का किया शुभारंभ
अब 2100 रुपये में बनेगा लाइसेंस- मुख्यमंत्री
पिछले 7 सालों से प्रौद्योगिकी के माध्यम से सुशासन के लिए की गई गई कई पहल- मनोहर लाल
शस्त्र लाइसेंस से संबंधित सेवाएं या काम के लिए अब किसी को नहीं काटने होंगे कार्यालय के चक्कर- गृह‌ मंत्री
चंडीगढ़, 19 जुलाई – हरियाणा पुलिस की कार्यप्रणाली में पारदर्शिता और दक्षता बढ़ाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज आरटीसी भोंडसी, गुरुग्राम में शस्त्र लाइसेंस संबंधित 14 शस्त्र लाइसेंस सेवाओं और 6 अस्त्र – शस्त्र प्रशिक्षण केंद्रों का शुभारंभ किया। इस पहल से प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया संकल्प में हरियाणा सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयासों में एक और आयाम जुड़ गया। इस अवसर पर गृह एवं स्वास्थ़्य मंत्री श्री अनिल विज चंडीगढ़ से ऑनलाइन माध्यम से इस कार्यक्रम से जुड़े।
कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने आज हुई एक दुखद घटना में शहीद डीएसपी सुरेंद्र सिंह के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया और उनके परिवार के प्रति सहानुभूति प्रकट की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार परिवार के साथ खड़ी है और दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वास्तव में सुशासन के नाते से प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर राज्य सरकार लगातार पिछले 7 सालों से प्रौद्योगिकी के माध्यम से गवर्नेंस को कैसे बेहतर किया जाए इस ओर आगे बढ़ रही है। इसी पहल के अंतर्गत आज शस्त्र लाइसेंस सेवाओं और अस्त्र शस्त्र प्रशिक्षण केंद्रों का शुभारंभ किया गया है।
उन्होंने कहा कि जो लोग शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन करते थे, उन्हें कार्यालयों के चक्कर काटने पड़ते थे। इतना ही नहीं, लाइसेंस प्रक्रिया में भ्रष्टाचार का आरोप भी लगता था। इन्हीं सारी कठिनाईयों को दूर करने के लिए आज ऑनलाइन सेवा का शुभारंभ किया गया है। उन्होंने कहा कि नियमावली के अनुसार इन सेवाओं के लिए पहले जो समयसीमा निर्धारित थी, उसमें संशोधन किया गया है और अब मात्र 25 दिन में लाइसेंस प्रक्रिया पूरी हो सकेगी। यदि किसी को लाइसेंस नहीं मिलता या कोई समस्या आती है तो वह अपील दायर कर सकता है। पहले अपील दायर करने की सीमा 60 दिन होती थी, अब इस सीमा को भी कम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अबसे मात्र 2100 रुपये में लाइसेंस बनेगा, जिसमें 1500 रुपये प्रशिक्षण तथा 500 रुपये लाइसेंस फीस तथा 100 रुपये सरल केंद्र की फीस शामिल है।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार नागरिकों को पाँच एस यानी शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, स्वाभिमान और स्वावलंबन सुनिश्चित करने की दिशा में कार्य कर रही है। शासन का असल मायने में अर्थ ही नागरिकों को यह मूलभूत सुविधाएं प्रदान करना है। उन्होंने कहा कि ईज ऑफ डुइंग बिजनेस की तर्ज पर सरकार ईज ऑफ लिविंग की दिशा में आगे बढ़ रही है ताकि नागरिकों के जीवन को सुखमय बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि केवल आर्थिक संपन्नता से ही समाज सुखी नहीं होता है, बल्कि समाज में रहन-सहन का तरीका, निर्विघ्न जीवनयापन करने जैसी कई मानदंड होते हैं। इसी विज़न के साथ आज ऑनलाइन सुविधाओं का शुभारंभ किया गया है, ताकि नागरिकों को घर बैठे ही इन सुविधाओं का लाभ मिल सके।
आर्म्ड लाइसेंस से संबंधित सेवाएं या काम के लिए अब किसी को नहीं काटने होंगे कार्यालय के चक्कर- गृह‌ मंत्री
गृह मंत्री श्री अनिल विज ने सर्वप्रथम डीएसपी सुरेंद्र सिंह के निधन पर शोक व्यक्त किया।
उन्होंने कहा कि शस्त्र लाइसेंस को लेकर लोगों को उनके आवेदन की क्या स्थिति है, उसके बारे में जानकारी नहीं रहती थी और कई बार तो बहुत लंबे समय तक भी बार-बार प्रयत्न करके भी उनको उचित उत्तर प्राप्त नहीं हो पाता था। परंतु राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, नागरिक संसाधन सूचना विभाग, गृह विभाग और हरियाणा पुलिस के संयुक्त प्रयासों से आज शस्त्र लाइसेंस के आवेदन और प्रशिक्षण के लिए ऑनलाइन व्यवस्था राज्य में शुरू की गई है ।
उन्होंने कहा कि लाइसेंस से संबंधित सेवाएं या काम के लिए अब किसी को भी कार्यालय में जाना नहीं पड़ेगा, बल्कि नागरिक घर में बैठकर ऑनलाइन माध्यम से यह सारे कार्य करने में सक्षम होंगे। उन्होंने कहा कि पहले प्रशिक्षण के लिए होमगार्ड की व्यवस्था की गई थी लेकिन अब प्रशिक्षण के लिए भी इसी पोर्टल पर 1500 रुपये की फीस देकर अपना टाइम स्लॉट चुनकर प्रशिक्षण के लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदन की स्थिति और अन्य संबंधित सारी जानकारी एसएमएस के द्वारा आवेदक को मिलेगी।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में सभी सेवाओं का धीरे धीरे डिजिटलाइजेशन करते जा रहे हैं और मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल हरियाणा में अनेक सेवाओं को ऑनलाइन कर चुके हैं ताकि लोगों को कार्यालयों के चक्कर काटे बिना घर बैठे ही बिचौलियों के बिना, समय तथा पारदर्शी तरीके से सुविधाओं का लाभ मिल सके।
14 शस्त्र लाइसेंस सेवाओं और 6 अस्त्र शस्त्र प्रशिक्षण केंद्रों का किया शुभारंभ
मुख्यमंत्री द्वारा आज 14 आर्म्ड लाइसेंस सेवाओं, जिनमें नए शस्त्र लाइसेंस जारी करना, शस्त्र लाइसेंस का नवीनीकरण, शस्त्र का बिक्री ⁄हस्तांतरण ⁄उपहार, बाहरी लाइसेंस का पंजीकरण, शस्त्र का अधिग्रहण, शस्त्र अधिकार क्षेत्र के भीतर पते का परिवर्तन, शस्त्र की खरीद अवधि का विस्तार, शस्त्र लाइसेंस में शस्त्र का अनुमोदन, शस्त्र लाइसेंस से शस्त्र हटाना, एक प्रकार के शस्त्र का परिवर्तन, डुप्लीकेट शस्त्र लाइसेंस जारी करना, गोला बारूद की मात्रा में परिवर्तन, क्षेत्र की वैधता का विस्तार, और शस्त्र लाइसेंस रद्द⁄ निलंबन ⁄ निरस्तीकरण शामिल है।
इसके अलावा, 6 अस्त्र शस्त्र प्रशिक्षण केंद्रों का भी शुभारंभ किया गया, जिनमें क्षेत्रीय प्रशिक्षण केंद्र, भोंडसी, गुरुग्राम, पुलिस प्रशिक्षण केंद्र, सुनारिया, रोहतक, पुलिस लाइंस, मोगीनंद, पंचकूला, हरियाणा पुलिस अकादमी, मधुबन, करनाल, पुलिस लाइन, हिसार और पुलिस लाइंस, नारनौल शामिल है।
कार्यक्रम में सोहना विधायक श्री संजय सिंह, गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री राजीव अरोड़ा, पुलिस महानिदेशक श्री पी के अग्रवाल, एडीजीपी सीआईडी श्री आलेक मित्तल और पुलिस आयुक्त पंचकूला श्री हनीफ कुरेशी, जिला उपायुक्त श्री निशांत यादव उपस्थित रहे। इसके अलावा सभी जिला पुलिस प्रमुख और वरिष्ठ अधिकारी ऑनलाइन माध्यम से इस कार्यक्रम से जुड़े।
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

विवाह सर्टिफिकेट के बिना कोई मर नहीं रहा-केंद्र सरकार

admin

यूएपीए: क्या सुप्रीम कोर्ट ने इंसाफ की तरफ बढ़े क़दमों में फिर ज़ंजीर डाल दी है

admin

सेना से लेकर बीएसएफ और रॉ के अधिकारियों के नंबर भी सर्विलांस सूची में शामिल

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL