AtalHind
उत्तर प्रदेशटॉप न्यूज़धर्म

प्रभु राम के गहनों के लिए हुई रिसर्च और स्टडी, नहीं पहुंचे आडवाणी ,क्यों रोई तीन साध्वी

प्रभु राम के गहनों के लिए हुई रिसर्च और स्टडी, नहीं पहुंचे आडवाणी ,क्यों रोई तीन साध्वी

 

SHREE RAM

अयोध्या. अयोध्या स्थित भव्य राम मंदिर में प्रतिष्ठित रामलला की मूर्ति के आभूषण अध्यात्म रामायण, वाल्मीकि रामायण, रामचरितमानस और अलवंदर स्तोत्रम जैसे ग्रंथों के व्यापक शोध और अध्ययन के बाद तैयार किए गए हैं. मंदिर ट्रस्ट ने यह जानकारी दी. आभूषण अंकुर आनंद के लखनऊ स्थित हरसहायमल श्यामलाल ज्वेलर्स द्वारा तैयार किए गए हैं ट्रस्ट के एक सदस्य ने कहा, ‘रामलला को बनारसी कपड़े से सजाया गया है, जिसमें एक पीली धोती और एक लाल पटका/अंगवस्त्रम शामिल है. ये अंगवस्त्रम शुद्ध सोने की ‘जरी’ और धागों से सजाए गए हैं, जिनमें शुभ वैष्णव प्रतीक- शंख, पद्म, चक्र और मयूर शामिल हैं.’सूरत स्थित उद्योगपति और ग्रीनलैब डायमंड्स के प्रमुख मुकेश पटेल ने भगवान राम की मूर्ति के लिए 11 करोड़ रुपये का स्वर्ण मुकुट उपहार में दिया, जो कीमती रत्नों से जड़ा हुआ है और इसका वजन छह किलोग्राम है.

राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा:आडवाणी और जोशी ना अमीर हस्तियों को हाँ

आडवाणी उद्घाटन समारोह में नहीं पहुंचे,
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप-प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी उत्तर भारत में अत्यधिक ठंड का हवाला देते हुए अयोध्या में राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह से दूर रहे.आडवाणी अब 96 वर्ष के हैं. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने कथित तौर पर उन्हें और उनके सहयोगी मुरली मनोहर जोशी को 22 जनवरी के समारोह में शामिल नहीं होने के लिए कहा था. हालांकि, विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने इसके बाद भाजपा के दोनों वरिष्ठ नेताओं को आमंत्रित किया जाना दिखाया था.6 दिसंबर 1992 को भाजपा नेताओं के एक गुट के नेतृत्व में कारसेवकों की भीड़ ने बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया था, जिसका नेतृत्व आडवाणी ने किया था.

गले लगाकर रोने लगीं साध्वी
भव्य भगवान राम मंदिर हर उस शख्स को भावुक करने वाला पल था जिसने लंबे समय से मंदिर के निर्माण की प्रतीक्षा की थी. इसी लोग में शामिल हैं तीनों नारी शक्तियां. ये तीनों साध्वी ऋतंभरा, साध्वी उमा भारती, और साध्वी निरंजन ज्योति  राम जन्मभूमि आंदोलन की फायर ब्रांड मानी जाती हैं. जब इस भावुक करने वाले क्षण में तीनों की मुलाकात हुई तो गले लगकर रोने लगी. शेयर वीडियो में दिख रहा है कि तीनों देवियां एक दूसरे की आंख की आंसू पोंछ रहीं हैं.

मस्जिदों में रखी गई भगवान राम की तस्‍वीर,मुस्लिमों ने पहने भगवा कपड़े

उत्तरी कर्नाटक में हिंदु-मुस्लिम एकता की मिशाल देखने को मिली है. यहां के कई गांवों में मुसलमानों ने सोमवार को अयोध्या के राम मंदिर के ‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह के अवसर पर मस्जिदों के परिसर में भगवान राम की पूजा की. हुबली तालुक के हल्याला गांव में मुस्लिम समुदाय के सदस्यों ने दो मस्जिदों और सैय्यद अली दरगाह के परिसर में भगवान राम की तस्वीरें लगाकर प्रार्थना की. इस अवसर पर उन्होंने ग्रामीणों को भोजन कराया और भगवा वस्त्र भी पहने.

भक्त को आया हार्ट अटैक,

अयोध्या के राम मंदिर में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में खास लोगों को ही एंट्री दी गई। इस दौरान एक शख्स को हार्ट अटैक आया। जानकारी के अनुसार, शख्स को हार्ट अटैक आने की सूचना मिलने के बाद भारतीय वायु सेना (IAF) की क्विक रिस्पॉन्स टीम तुरंत हरकत में आई। शख्स को क्विक रिस्पॉन्स टीम के मोबाइल हॉस्पिटल तक ले जाया गया। जिस शख्स को हार्ट अटैक आया, उनका नाम रामकृष्ण श्रीवास्तव है। उनकी उम्र 65 साल है।

राम मंदिर की फोटो एडिट कर फहराया पाकिस्तानी झंडा, नीचे लिखा- ‘बाबरी मस्जिद’
गडग()राम मंदिर की विकृत तस्वीर साझा करने के आरोप में पुलिस ने हिरासत में लिया है, उसका नाम ताजुद्दीन दफेदार है। उसने फेसबुक पोस्ट में राम मंदिर के ऊपर पाकिस्तानी झंडे लगाकर नीचे ‘बाबरी मस्जिद’ लिख दिया था। जैसे ही पोस्ट वायरल हुआ, तो गडग में हिंदू समर्थक कार्यकर्ता भड़क गए। उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की। इसके बाद पुलिस ने ताजुद्दीन दफेदार को हिरासत में ले लिया। पुलिस अधिकारियों ने आरोपी से विवादित पोस्ट डिलीट करवा दिया है।

मुस्लिम परिवार में पैदा हुआ बच्चा, नाम रखा ‘राम रहीम’
हिंदू-मुस्लिम एकता का संदेश देते हुए सोमवार को एक बच्चे को जन्म देने वाली मुस्लिम महिला ने उसका नाम ‘राम रहीम’ रखा. महिला ने उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में बच्चे को जन्म दिया. फिरोजाबाद के जिला महिला अस्पताल प्रभारी डॉ. नवीन जैन के मुताबिक, जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. अयोध्या में आज रामलला की ‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह आयोजित किया गया था.

Advertisement

Related posts

कृषि क़ानूनों के विरोध के दौरान जान गंवाने वाले किसानों का कोई रिकॉर्ड नहीं: केंद्र सरकार

admin

आरटीआई अधिनियम अपने उद्देश्य को पूरा कर रहा है क्या ?

atalhind

अंधेरगर्दी का हरियाणा में सबसे विलक्षण नजारा,एथलेटिक ट्रैक के बीचों-बीच मैदान में छोड़ दिया  बिजली का खंभा

admin

Leave a Comment

URL