AtalHind
कैथल (Kaithal)क्राइम (crime)हरियाणा

KAITHAL फर्जी लोन एप से रहे सावधान, बगैर ऋण लिए भी हो जाएंगे कर्जदारः एसपी कैथल

फर्जी लोन एप से रहे सावधान, बगैर ऋण लिए भी हो जाएंगे कर्जदारः एसपी कैथल

SP Upasana KAITHAL Beware of fake loan apps, you will become a debtor even without taking loan: SP Kaithal

कैथल, 22 जनवरी ( अटल हिन्द ब्यूरो ) साइबर अपराधी भिन्न तरीके अपनाकर आमजन के साथ साइबर ठगी कर रहे है। एसपी उपासना के आदेशानुसार जिला पुलिस द्वारा लगातार आमजन को साइबर अपराधो से बचने हेतु जागरूक किया जा रहा है। जो इसी तहत साइबर अपराध के एक तरीके बारे कैथल पुलिस द्वारा एडवाइजरी जारी की गई है।

एसपी उपासना ने बताया कि वर्तमान समय में फर्जी लोन एप के माध्यम से आसान तरीके से कर्ज मिलने के चक्कर में लोग अपनी जान गवां रहे है क्योकि आजकल आसानी से ऑनलाइन लोन एप के जाल में सैकड़ों लोग फंसे हुए हैं। जो कर्ज मंजूर करते वक्त फर्जी कंपनियां आवेदक का फोन हैक कर लेती हैं और फिर किस्त व ब्याज न देने पर अश्लील फोटो बनाकर बदनाम करने लगते हैं। कर्मचारी आवेदक के रिश्तेदारों, परिचितों और रिश्तेदारों को फोन कर अपशब्दों का भी प्रयोग करते हैं जिस बदनामी के डर से लोगो गलत कदम उठा लेते है। ऐसे फर्जी लोन एप से सावधान रहें और डरे नही। अगर कोई व्यक्ति आपको ब्लैकमेल करता है तो तुरंत साइबर हेल्पलाइन नम्बर 1930 पर कॉल करें इसके अलावा नजदीकी पुलिस स्टेशन जाकर साइबर हेल्पडेस्क की मदद लें। जब लोन देने वाले ऐप के रिकवरी एजेंट कॉल करते धमकियां देकर ज्यादा पैसे वसुलते है और आपके द्वारा पुरी किस्त देने पर भी आप पर कर्ज दिखाती है। फिर 6-7 दिन में लोन पर कर्ज की कुल राशि का दोगुना ब्याना मांगा जाता है। फिर कर्जदाता चुकाने में नाकाम होने पर उनकी तस्वीरों में फेरबदल करके उनकी आपत्तिजनक बनाकर सार्वजनिक किया जाता है। जिससे डिप्रेशन में आकर कुछ कर्जधारक खुद को नुकसान भी पहुंचाते है।

KAITHAL Beware of fake loan apps, you will become a debtor even without taking loan: SP Kaithal

ऐसे साइबर अपराधियों से कैसे बचें :-

1.सबसे पहले तो लोन देने वाले ऐप या कंपनी के बारे में ये जांच करें कि क्या वह आरबीआई की अनुमति से लोन दे रही है या नही।

2.कोई लोन ऐप किसी बैंक या एनबीएफसी के नाम पर कर्ज बांटने का दावा करता है तो उसे भी संबंधित बैंक या एनबीएफसी से क्रॉस चेक जरूर करें।

3.ऐप आपको जो भी लोन दे रहा है उसकी ब्याज दरें पहले से निर्धारित करा लें और उसका एक एग्रीमेंट भी करा लें, ताकि बाद में आपसे ज्यादा ब्याज की वसूली न हो सके।

4.अगर आपको कोई लोन ऐप चुकाई जाने वाली किस्त, भुगतान की अवधि और भुगतान के तरीके के बारे में पहले से ही स्पष्ट रूप से जानकारी नहीं देती तो ऐसे लोन ऐप से दूर रहने में ही भलाई है।

5.ऐप से लोन लेने से पहले ब्याज दर को लेकर चीजें स्पष्ट की जानी बहुत जरूरी हैं अगर कोई ऐप कह रहा कि वह 4 फीसदी ब्याज पर कर्ज देगा तो यह जरूर पूछें कि ब्याज मासिक लगेगा या सालाना, कुछ ऐप दावा करते हैं कि 4 फीसदी ब्याज पर कर्ज देंगे और बाद में पता चलता है कि ये दर मासिक थी, इस तरह आप पर सालाना 48 फीसदी ब्याज का बोझ आ सकता है।

5.ऐसे लोन ऐप जो प्रोसेसिंग शुल्क के नाम पर ज्यादा पैसे मांगते हो या प्री-पेमेंट अथवा प्री-क्लोजर फीस ज्यादा मांगते हैं, उन पर यकीन न करें।

6.अगर कोई ऐप आपको बैंक खाते की जानकारी, डेबिट-क्रेडिट कार्ड का पिन अथवा ऐसी ही अन्य पर्सनल जानकारियां मांगता है तो उससे भी सावधान रहें।

7.जिस ऐप से आप लोन के लिए अप्लाई कर रहे हैं, उसकी रेटिंग और रिव्यू को भी जरूर देखें।

बेहतर होगा कि आप किसी बैंक या एनबीएफसी से जुड़े एप के जरिये ही कर्ज के लिए आवेदन करें।

किसी भी प्रकार की वित्तीय या ऑनलाइन धोखाधड़ी होने पर 1930 पर कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करवाएं या आपके संबंधित थाने में स्थापित साईबर हेल्प डेस्क पर शिकायत दे।

Advertisement

Related posts

सोहना भाजपा नेता हत्या का मामला,गुस्साये ग्रामीणों ने पुलिस कमिश्नर ऑफिस का किया घेराव

atalhind

कट्टर हिंदुत्ववादी नेता यति नरसिंहानंद पर ग़ुंडा एक्ट लगाने की प्रक्रिया शुरू की

atalhind

लायंस क्लब डायमंड ने मनाया स्थापना दिवस

admin

Leave a Comment

URL