AtalHind
क्राइमफतेहाबादहरियाणा

जीजा की  कस्सी से काटी गर्दन , फिर लाश  को सिरसा ब्रांच नहर में बहा  दिया 

जीजा की  कस्सी से काटी गर्दन , फिर लाश  को सिरसा ब्रांच नहर में बहा  दिया

टोहाना (अटल हिन्द ब्यूरो )गांव फतेहपुरी के लाभ सिंह की हत्या मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने दूसरे आरोपित लाभ सिंह के साले हरजिंद्र सिंह को गिरफ्तार कर एक दिन के पुलिस रिमांड पर लिया है, जबकि 11 जून को सदर पुलिस ने उक्त हत्या मामले में गांव सिंबलवाला के राजेंद्र उर्फ काका को गिरफ्तार कर दो दिन के रिमांड पर लिया था। उसने पूछताछ में खुलासा किया कि उसने हरजिंद्र सिंह के कहने पर ही लाभ सिंह की गला घोटकर हत्या कर दी थी, वहीं उसकी गर्दन काटकर मृतक को गांव चूहड़पुर के पास सिरसा ब्रांच नहर में गिरा दिया था।
बहन को परेशान करने की वजह बनी हत्या
डीएसपी बिरम सिंह ने बताया कि मृतक लाभ सिंह के साले हरजिंद्र ने पूछताछ में बताया कि लाभ सिंह रिश्ते में उसका जीजा लगता था और वह उसकी बहन के साथ मारपीट करता था, जबकि उसकी बहन सीधी-सादी थी। जिसके कारण वह अपने जीजा से रंजिश रखने लगा। उसे ठिकाने लगाने के लिए उसने अपने चाचा के खेत में सीरी का कार्य करने वाले राजेंद्र उर्फ काका की मदद ली और लाभ सिंह की हत्या कर उसके शव को सिर से अलग कर नहर में बहा दिया। मृतक लाभ सिंह एक विवाहित लड़की व अविवाहित लड़के का पिता था।
20 हजार रुपये दिए थे
सदर थाना प्रभारी विनोद कुमार ने इस ब्लाईंड मर्डर की गहनता से जांच पड़ताल करते हुए उपरोक्त मामले में 11 जून को गांव सिंबलवाला निवासी राजेंद्र उर्फ काका को गांव सिंबलवाला से गिरफ्तार कर लिया था, वहीं न्यायालय में पेश कर उसे 2 दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ की। इसमें उसने बताया कि लाभ सिंह के साले हरजिंद्र ने उसे 20 हजार रुपये दिये थे कि उसके साथ मिलकर वह लाभ सिंह की हत्या करेंगे।
साले ने ही रची थी साजिश
गांव फतेहपुरी के लाभ सिंह की हत्या की साजिश उसके टोहाना निवासी साले हरजिंद्र सिंह ने ही रची थी। 2 जून को रात्रि हरजिंद्र सिंह ने गांव सिंबलवाला के राजेंद्र उर्फ काका को अपने पास फतेहपुरी में बुलाया था। हरजिंद्र सिंह की बहन तीन दिन पहले अपने मायके आई हुई थी। इस दौरान दोनों ने शराब पी और लाभ सिंह की हत्या की साजिश रचकर राजेंद्र उर्फ काका को 20 हजार रूपये की सुपारी दी। उसके उपरांत उन्होंने देर रात्रि लाभ सिंह की जब वह सोया हुआ था, उस दौरान उन्होंने उसका गला घोटकर हत्या कर दी। जबकि सबूत खत्म करने के लिए वह लाभ सिंह के शव को बाइक पर बीच में बैठाकर गांव चूहड़पुर स्थित सिरसा ब्रांच नहर के पास ले गये। वहां उन्होंने मृतक लाभ सिंह की गर्दन कस्सी से काटकर धड़ अलग कर दिया और उसे नहर में गिरा दिया। जबकि सिर एक बोर में डालकर उसमें ईंटे आदि भरकर नहर में फैंक दिया और कस्सी भी नहर में गिरा दी थी।

Advertisement
Advertisement

Related posts

2023 में महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध की 28,811 शिकायतें मिलीं, 55% से अधिक यूपी से आईं: एनसीडब्ल्यू

editor

100 से ज्यादा औरतों की लाशों के साथ किया सेक्स

editor

तीन अंतर्राज्यीय शातिर अपराधियों को दबोचा

admin

Leave a Comment

URL