AtalHind
दिल्ली राष्ट्रीय

यूपी: भाजपा के 50% विधायकों के तीन या अधिक बच्चे, होगा प्रस्तावित जनसंख्या क़ानून का उल्लंघन

यूपी: भाजपा के 50% विधायकों के तीन या अधिक बच्चे, होगा प्रस्तावित जनसंख्या क़ानून का उल्लंघन
notification icon
यूपी: भाजपा के 50% विधायकों के तीन या अधिक बच्चे, होगा प्रस्तावित जनसंख्या क़ानून का उल्लंघन यूपी: भाजपा के 50% विधायकों के तीन या अधिक बच्चे, होगा प्रस्तावित जनसंख्या क़ानून का उल्लंघन नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार जनसंख्या नियंत्रण के नाम पर एक विवादित कानून लाने जा रही है, जिसके तहत दो से अधिक बच्चे वाले व्यक्तियों को स्थानीय चुनाव लड़ने, प्रमोशन और सरकारी छूट पर रोक लगा दी जाएगी. हालांकि यदि इस आधार पर राज्य के भाजपा विधायकों का मूल्यांकन किया जाएगा, तो इनके 50 फीसदी विधायक इस कसौटी पर खरे नहीं उतर पाएंगे. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक उत्तर प्रदेश विधानसभा द्वारा मुहैया कराई गई जानकारी के मुताबिक 304 भाजपा विधायकों समेत 397 विधायकों, जिनकी जानकारी वेबसाइट पर अपलोड की गई है, में 152 भाजपा विधायकों के तीन या इससे अधिक बच्चे हैं. इसमें से एक विधायक के आठ बच्चे हैं, जो कि इस सूची में सर्वाधिक है. वहीं एक अन्य विधायक के सात बच्चे हैं. इनके अलावा आठ विधायकों के छह बच्चे, जबकि 15 विधायकों के पांच बच्चे हैं. इसी तरह राज्य में भाजपा के 44 विधायको के चार बच्चे और 83 विधायकों के तीन बच्चे हैं. यदि योगी सरकार के प्रस्तावित जनसंख्या नियंत्रण कानून को इन पर लागू किया जाता है तो ये सभी अयोग्य साबित होंगे. वहीं लोकसभा की दृष्टि से एक विरोधाभास ये है कि भोजपुरी फिल्म अभिनेता और भाजपा सांसद रवि किशन को जनसंख्या नियंत्रण कानून 2019 को पेश करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है, जबकि खुद उनके चार बच्चे हैं. वैसे ये प्राइवेट मेंबर बिल है और सत्ता के समर्थन के बिना इस पारित नहीं कराया जा सकेगा. यूपी की तरह ही रवि किशन का विधेयक भी दो से अधिक बच्चे वाले व्यक्तियों को तमाम सुविधाओं से वंचित करने का प्रावधान किया गया है. खास बात ये है कि लोकसभा वेबसाइट के मुताबिक 168 मौजूदा सांसदों, जिसमें से 105 भाजपा के हैं, के तीन या इससे अधिक बच्चे हैं. पिछले साल दिसंबर में एक याचिका के जवाब में सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि विभिन्न जन्म नियंत्रण तरीके अपनाने के चलते भारत 2.1 प्रजनन दर प्राप्त करने की कगार पर है. केंद्र ने कहा था कि चीन जैसी जनसंख्या नियंत्रण कानून को अपनाना सही नहीं साबित होगा. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश राज्य विधि आयोग ने विधेयक का प्रारूप तैयार किया है. आयोग ने यह प्रारूप अपनी सरकारी वेबसाइट पर अपलोड किया है और 19 जुलाई तक जनता से इस पर राय मांगी है. प्रस्तावित जनसंख्या नियंत्रण विधेयक के मसौदे के अनुसार, उत्तर प्रदेश में दो-बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वाले को स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने, सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन करने, पदोन्नति और सरकारी योजनाओं का भी लाभ न दिए जाने समेत किसी भी प्रकार की सरकारी सब्सिडी प्राप्त करने से वंचित कर दिया जाएगा.Share this story

Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

शाबाश मोदी सरकार , वैश्विक भुखमरी में भारत 101  वें  स्थान पर ,पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल से भी आगे निकला 

atalhind

अल क़ायदा की भारतीय शहरों पर आत्मघाती हमले की धमकी,पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी को लेकर

atalhind

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में यह कानून हमें कहां ले आया है. इसके नतीजे हम देख सकते हैं-जस्टिस आलम

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL