AtalHind
अंतराष्ट्रीयअम्बालाजॉबटॉप न्यूज़

अमेरिका में पत्रकार अधोया की बेटी का पैतृक गांव में किया स्वागत

अमेरिका में पत्रकार अधोया की बेटी का पैतृक गांव में किया स्वागत

Journalist Adhoya’s daughter welcomed in her native village in America

अम्बाला, अटल हिन्द ब्यूरो /पूर्ण सिंह
अमेरिका में पत्रकार अधोया की बेटी अपने गांव पहुंची, जहां लोगों ने उसका स्वागत किया। अधोया निवासी आशीष गर्ग ने बताया कि गांव अधोया (अंबाला) की बेटी प्राची जेटली जो की आईयूएसए मीडिया अमेरिका में जर्नलिस्ट है, वह अपने चैनल के माध्यम से 22 जनवरी को भगवान श्री राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव की कवरेज करने के लिए अयोध्या जा रही हैं। उससे पहले वह अपने पैतृक गांव अधोया पहुंची और यहां के लोगों से राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के बारे में जानकारी हासिल की।Journalist Adhoya’s daughter welcomed in her native village in America

 

प्राची गांव अधोया के खाटू श्याम मंदिर में पहुंची और वहां पर गांव के लोगों से 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा वाले दिन की तैयारी को लेकर चर्चा की। उसके पश्चात गांव के गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल गई, जहां वह बचपन में पढ़ा करती थी। उन यादों को ताजा करते हुए अध्यापकों से बातचीत की और पौधरोपण भी किया। उन्होंने बताया कि अमेरिका में भी पिछले 20 दिनों से भगवान श्री राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रमों को लेकर तैयारियां चल रही हैं और वहां के मंदिरों को भी बहुत बखूबी से सजाया गया है। जितना उत्साह भारत में है, वही उत्साह अमेरिका में रह रहे भारतीयों में भी पूर्ण रूप से है।

Advertisement

 

मंदिर के प्रांगण में पहुंचने पर मंदिर कमेटी की तरफ से उन्हे राम नाम का स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर कमेटी सदस्य मुकेश गर्ग, आशीष गर्ग, राजीव सिंगला, अनिल एलावादी, सुदेश बिंदल, राजीव गर्ग, अशोक अग्रवाल, हरपाल सिंह चौहान, दविंदर, मोहन रावत, सुशील शर्मा, दलीप सिंह, बीडी शास्त्री, डॉ पंकज, मोहन शर्मा, जतिन शर्मा, पवन पाराशर, बलवान सिंह और काफी संख्या में ग्रामीण व मातृशक्ति उपस्थित रहे।

Advertisement
Advertisement

Related posts

मोदी सरकार ने किसानों के प्रदर्शन से जुड़े खाते, पोस्ट ‘ब्लॉक’ पर रोक लगाने का आदेश दिया-एक्स

editor

गुरुग्राम राजीव चौक अंडरपास एक्सीडेंट में बाइक व स्कॉर्पियो गाड़ी चालक की मौत

editor

Bharat यहाँ मर्दों की एंट्री क्यों है बैन ?

editor

Leave a Comment

URL