AtalHind

Category : धर्म

दिल्ली धर्म राष्ट्रीय

पहली बार ऐसा तांडव देखा  नारों के साथ तेज तलवार व चाकू लहराते हुए हनुमान जी की शोभायात्रा निकाली जा रही THI

atalhind
 24 साल से हूं, यहीं पास में मंदिर भी है पहली बार ऐसा तांडव देखा  नारों के साथ तेज तलवार व चाकू लहराते हुए हनुमान जी...
धर्म

और खा लो कुट्टू का आटा ,,,,, यमुनानगर व  घरौंडा में   में कुट्टू का आटा खाने से दर्जनों  श्रद्धालु   महिलाएं  बीमार,

atalhind
और खा लो कुट्टू का आटा ,,,,, यमुनानगर व  घरौंडा में   में कुट्टू का आटा खाने से दर्जनों  श्रद्धालु   महिलाएं  बीमार, यमुनानगर (aTAL hIND)नवरात्रि पर्व पर कुट्टू...
धर्म

मां बाला सुंदरी ने मुलाना में पांव रखकर प्लेग बीमारी से मर रहे लोगों  की थी रक्षा,

atalhind
जानिए मंदिर का इतिहास मां बाला सुंदरी ने मुलाना में पांव रखकर प्लेग बीमारी से मर रहे लोगों  की थी रक्षा, मुलाना ( /अटल हिन्द...
धर्म

मुख्यमंत्री मनोहर लाल कैथल श्री ग्यारह रुद्री शिव मंदिर में चल रहे महारुद्र यज्ञ में डालेंगे आहुती

admin
 डीसी प्रदीप दहिया व एसपी मकसूद अहमद ने भी दल-बल के साथ मंदिर परिसर का दौरा किया।   मुख्यमंत्री मनोहर लाल कैथल श्री ग्यारह रुद्री शिव...
धर्म

नरवाना-हमीरगढ़ अहिल्या शिव मंदिर में घुसकर अज्ञात बदमाशों ने महंत को बनाया बंधक, लाखों की नकदी लूटी

admin
 बदमाशों ने मंदिर से 1 लाख 50 हजार रुपए की नकदी तथा कुछ चांदी लूट ली। बदमाशों ने मंदिर में लगी एलईडी, सीसीटीवी कैमरों तथा...
धर्म

13 जनवरी 2022 गुरुवार को मनाएं लोहड़ी सायं 5 बजे,और पुत्रदा एकादशी का व्रत रखें

admin
भारत में लोहड़ी का पर्व धार्मिक आस्था, ऋतु परिवर्तन, कृषि उत्पादन, सामाजिक औचित्य से  जुड़ा है। पंजाब में यह कृषि में रबी फसल से संबंधित...
धर्म

क्या करें माघ मकर संक्रांति पर ? जो 14 जनवरी 2022 ,शुक्रवार को है

admin
मकर संक्रांति को सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होते हैं. इस नदी पवित्र नदियों में स्नान करने और उसके बाद दान करने का महत्व होता है....
धर्म

वर्ष-2022 में किस महीने, किस तारीख को हैं शादी के शुभ मुहूर्त-

admin
16 दिसंबर 2021 से 14 जनवरी 2022 तक खरमास में मांगलिक कार्य नहीं होंगे।   इस वर्ष 16 दिसंबर, 2021 से लेकर 14 जनवरी, 2022 तक खरमास लग रहा है। चतुर्मास की तरह खरमास में भी कोई मांगलिक यानी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। विवाह, मुंडन और गृह प्रवेश आदि शुभ कार्य नहीं कर सकते हैं। खरमास समाप्त होने के बाद मांगलिक कार्य किए जा सकते हैं। क्यों खरमास में कोई शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं ? खरमास के दिनों में सूर्यदेव धनु और मीन राशि में प्रवेश करते हैं। इसके चलते बृहस्पति ग्रह का प्रभाव कम हो जाता है। वहीं, गुरु ग्रह को शुभ कार्यों का कारक माना जाता है। लड़कियों की शादी के कारक गुरु माने जाते हैं। गुरु कमजोर रहने से शादी में देर होती है। साथ ही रोजगार और कारोबार में भी बाधा आती है। इसके चलते खरमास के दिनों में कोई शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। विवाह के लिए शुक्र और गुरु दोनों का उदय होना आवश्यक है। यदि दोनों में से एक भी अस्त होगा तो मांगलिक कार्य वर्जित होते हैं। वर्ष 2022 में 23 फरवरी को गुरु अस्त होंगे और 26 मार्च को उदय होंगे। 6 जनवरी को शुक्र अस्त होंगे और 12 जनवरी को उदय होंगे। इसके अलावा एक अक्तूबर को शुक्र अस्त होंगे और 25 नवंबर को उदय होंगे। इस कारण से सगाई, मुंडन, शादी, नामकरण, यज्ञोपवीत, गृहप्रवेश, आदि नहीं किए जाते. नए घर के निर्माण और नए व्यापार का आरंभ भी नहीं किया जाता है.    वर्ष-2022 में किस महीने, किस तारीख को हैं शादी  के   शुभ मुहूर्त-...
URL