AtalHind
टॉप न्यूज़राष्ट्रीयलेखविचार /लेख /साक्षात्कार

Central Government की आर्थिक नीतियों के कारण देश की जनता पर बड़े पैमाने पर कर्ज बढ़ा

केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों के कारण देश की जनता पर बड़े पैमाने पर कर्ज बढ़ा

Due to the economic policies of the Central Government, the debt of the people of the country increased on a large scale.

BY–सुबोध वर्मा

आय में ठहराव और रोज़गार में कमी बावजूद सरकारें और परिवार तेजी से कर्ज़ में डूबते जा रहे हैं।पिछले दिसंबर माह में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भारत पर बढ़ते कर्ज़ का मुद्दा उठाया था जिसके बाद काफी हंगामा खड़ा हो गया था। सरकारी प्रतिनिधियों ने अर्थव्यवस्था पर किसी भी खतरे से इनकार किया और सभी को आश्वासन दिया कि केंद्र और राज्यों की सरकारों का 2022-23 में कुल संयुक्त कर्ज़ जो सकल घरेलू उत्पाद (सकल घरेलू उत्पाद) का 86.5 प्रतिशत है, कोई संकट की बात नहीं है।

जैसा कि नीचे दिए गए चार्ट से पता चलता है कि 2014-15 में संयुक्त कर्ज़, सकल घरेलू उत्पाद के लगभग 67 प्रतिशत से बढ़कर अपने वर्तमान स्तर तक पहुंच गया है, जो 2020-21 में सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 90 प्रतिशत के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गया था तब-जब भारत में कोविड महामारी आई थी। चार्ट केंद्र और राज्यों के योगदान को अलग-अलग दिखाता है। 2022-23 में, केंद्र का कर्ज़ सकल घरेलू उत्पाद का 61 प्रतिशत था जबकि राज्यों का कुल कर्ज 29.5 प्रतिशत था। ये सभी आंकड़े भारतीय रिजर्व बैंक के डेटाबेस से लिए गए हैं।

Due to the economic policies of the Central Government, the debt of the people of the country increased on a large scale.

जाहिर है, पिछले एक दशक में दोनों तरफ का कर्ज़ बढ़ा है। अक्सर यह तर्क दिया जाता है कि यह कोई बड़ी समस्या नहीं है क्योंकि सकल घरेलू उत्पाद का 100 प्रतिशत का आंकड़ा अभी तक पार नहीं हुआ है। यह भी कि अधिकांश विकसित अर्थव्यवस्थाओं में कर्ज़-से-जीडीपी(GDP) का अनुपात हमसे अधिक है। संक्षेप में, चिंता की कोई बात नहीं है।

हालांकि, कम आय, रोजगार में ठहराव और महंगाई/ऊंची मुद्रास्फीति के साथ, इतना उच्च स्तरीय कर्ज़ चिंता का कारण होना चाहिए। इससे भी अधिक चिंताजनक तथ्य यह है कि केंद्र सरकार पूंजी निवेश के लिए उधार ले रही है जिसे एक उपलब्धि के रूप में पेश किया जा रहा है। इसका अधिकांश हिस्सा राजमार्गों और पुलों जैसे बुनियादी ढांचे में जा रहा है। इससे एक उम्मीद यह की गई थी कि इससे निजी क्षेत्र के निवेश को प्रोत्साहन मिलेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।Due to the economic policies of the Central Government, the debt of the people of the country increased on a large scale.

इस बीच, हाल ही में राज्यों के कर्ज़ के स्तर को लेकर एक ताजा विवाद खड़ा हो गया है। केंद्र सरकार ने कुछ राज्य सरकारों – जैसे केरल – पर बहुत अधिक कर्ज लेने का आरोप लगाया है। यह इस तथ्य के बावजूद है कि राज्य सरकारों के उधार लेने के दायरे को केंद्रीय कानूनों द्वारा सख्ती से नियंत्रित किया जाता है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि सभी राज्यों का कर्ज एक साथ बढ़ा है (नीचे चार्ट देखें) हालांकि उनका पूर्ण-स्तर अभी भी केंद्र सरकार के कर्ज का आधा है।

लेकिन राज्यों पर बढ़ते कर्ज के कारणों पर गौर करने की जरूरत है जो केंद्र सरकार की उधारी बढ़ने के कारणों से काफी अलग हैं। पिछले एक दशक में राज्यों पर काफी दबाव पड़ा है क्योंकि केंद्र ने फंडों की कुछ रिलीज में कटौती की है या यहां तक कि उन्हें लंबी अवधि के लिए रोक दिया था। उदाहरण के लिए, राज्यों को जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) मुआवजे में साल दर साल देरी हो रही थी। कुछ मामलों में, केंद्र प्रायोजित योजनाओं के लिए धन जारी करने में नियमित रूप से देरी होती है और योजनाओं को चालू रखने के लिए राज्यों को उधार लेना पड़ता है या अपने खुद के अल्प संसाधनों के ज़रिए धन की व्यवस्था करनी पड़ती है।

Due to the economic policies of the Central Government, the debt of the people of the country increased on a large scale. इस दबाव का अधिकांश कारण 2017 में जीएसटी के लागू होने से लगाया जा सकता है, जिसने राज्यों की टैक्स लगाने की अधिकांश शक्तियां छीन लीं जिसके कारण उनकी धन के केंद्रीय हस्तांतरण पर निर्भरता बढ़ गई। कुछ राज्यों ने आरोप लगाया है कि वित्त आयोग की धनराशि भी पूरी तरह से वितरित नहीं की जा रही है। यह सब केंद्र सरकार की केंद्रीकरण और प्रतिबंधात्मक प्रवृत्ति से उत्पन्न हो रहा है जो वर्तमान नरेंद्र मोदी सरकार की पहचान है।

जबकि, कर्ज़ की कहानी राजकोषीय-सरकारी वित्त-ढांचे से परे की बात है, हालांकि मुख्यधारा के अर्थशास्त्री इसे इस तरह से नहीं देखते हैं।

लोगों पर कर्ज का बोझ

Debt on the people of India increased on a large scale देश की जनता पर बड़े पैमाने पर कर्ज बढ़ा है जो सीधे तौर पर केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों से पैदा हुआ है। 2018 की एनएसएसओ रिपोर्ट के अनुसार, ग्रामीण इलाकों में औसत कर्ज 60,000 रुपये प्रति परिवार था, जबकि शहरी इलाकों में यह 1.2 लाख रुपये था। याद रखें: यह पूरी आबादी पर औसत कर्ज है, जो सिर्फ वास्तव में ऋणग्रस्त परिवार तक सीमित नहीं है। तुलना के लिए, इसी तरह के एनएसएसओ सर्वेक्षण के अनुसार ध्यान दें कि 2012 में, ग्रामीण परिवारों पर औसत कर्ज 32,522 रुपए था और शहरी परिवारों पर 84,625 रुपए था। कम आय, बड़े पैमाने पर अल्प-रोजगार और बेरोजगारी, असुरक्षित नौकरियां कुछ ऐसे कारण हैं जिनकी वजह से परिवार कर्ज में डूबने को मजबूर हैं।

कृषि संकट किसान और मजदूर, दोनों परिवारों में ऋणग्रस्तता के प्रमुख कारणों में से एक है। उच्च इनपुट लागत, व्यापक लागत (सी2) और 50 प्रतिशत अधिक (एम एस स्वामीनाथन आयोग द्वारा अनुशंसित) को कवर करने वाले न्यूनतम समर्थन मूल्य को सुनिश्चित करने से सरकार का इनकार और सरकार द्वारा कम खरीद ने मिलकर किसानों को जीवित रहने के लिए अधिक से अधिक उधार लेने के लिए मजबूर किया है। यह विशेष रूप से छोटे और सीमांत किसानों के मामले में सच है, जो कुल किसानों का दो-तिहाई हिस्सा है।

====भारतीय लोग इस संयुक्त बोझ को सहन कर रहे हैं====

Due to the economic policies of the Central Government, the debt of the people of the country increased on a large scale. सरकारों द्वारा लिया गया कर्ज अंततः विभिन्न प्रकार के करों के माध्यम से एकत्र किए गए सार्वजनिक धन से ब्याज सहित चुकाया जाता है। इस कर का अधिकांश बोझ आम लोगों द्वारा अप्रत्यक्ष कराधान के माध्यम से वहन किया जाता है। वर्तमान सरकार के तहत, सुपर अमीर कॉर्पोरेट वर्गों को बड़े पैमाने पर कर रियायतें दी गई हैं, जिसमें कॉर्पोरेट टैक्स में सीधे कटौती भी शामिल है।

दूसरी ओर, पेट्रोलियम की कीमतों को कृत्रिम रूप से बढ़ाकर रखने जैसे कुटिल तरीकों के माध्यम से, आम लोग सरकार की उधारी को पूरा करने के लिए बढ़े हुए कर का भुगतान कर रहे हैं। यह सब उस व्यक्तिगत या पारिवारिक ऋण के अतिरिक्त जुड़ जाता है जो केवल जीवन गुजारने, शिक्षा और चिकित्सा व्यय का भुगतान करने और अन्य कारणों से किया जाता है।

सरकार श्रमिकों/कर्मचारियों को बेहतर वेतन सुनिश्चित करके, कृषि उपज को बेहतर लाभकारी मूल्य देकर, शिक्षा और स्वास्थ्य पर खर्च बढ़ाकर, सार्वजनिक क्षेत्र और नौकरियों को बढ़ावा देकर – और अमीर कॉरपोरेट्स पर अधिक कर लगाकर सुपर मुनाफ़े को कम करके इस त्रासदी में सुधार कर सकती है और उसी पैसे को आम लोगों की सेवा में लगा सकती है।

Advertisement

Related posts

चुनावी चंदे और धंधे के बीच कितना लेन-देन है. चंदा भी हज़ारों करोड़ों में दिया-लिया गया है

editor

हरयाणा का टिटौली गांव सील , 32 लोगों की मौत का दुखड़ा किसके सामने रोएं।न कोई बाहर जाएगा, न ही कोई अंदर आएगा

admin

फैक्ट्री मालिक की हत्या की आरोपी महिला और नाबालिग गिरफ्तार

editor

Leave a Comment

URL