AtalHind
टॉप न्यूज़दिल्ली (Delhi)राष्ट्रीय

हिंदुत्व वॉच वेबसाइट के एक्स एकाउंट पर भारत सरकार ने रोक लगाई

‘हिंदुत्व वॉच’ वेबसाइट के एक्स एकाउंट पर भारत सरकार ने रोक लगाई

 

हिंदुत्व वॉच भारत में अल्पसंख्यक समुदायों के ख़िलाफ़ हमलों और हेट स्पीच पर रिपोर्ट करता है. इसके संस्थापक रक़ीब अहमद नाइक ने बताया कि इस संबंध में उन्हें मंगलवार को एक ईमेल मिला था, जिसमें कहा गया था कि भारत सरकार ने एकाउंट को आईटी अधिनियम की धाराओं का उल्लंघन करते पाया है.

Government of India banned the X account of ‘Hindutva Watch’ website

 

नई दिल्ली: एक कानूनी मांग के जवाब में रिसर्च समूह ‘हिंदुत्व वॉच’ का एक्स (पूर्व में ट्विटर) एकाउंट मंगलवार (16 जनवरी) को भारत में रोक दिया गया था.
समूह ने अपनी वेबसाइट पर कहा है कि वह ‘भारत में कट्टरपंथी हिंदुओं और हिंदुत्व मिलिशिया (रक्षक) समूहों द्वारा अल्पसंख्यक और हाशिए पर पड़े समुदायों के सदस्यों पर उनके धार्मिक मत के चलते किए जाने वाले हमलों की रिपोर्ट करता है.’

रिपोर्ट के अनुसार, संस्थापक रकीब अहमद नाइक ने मीडिया को बताया कि इस संबंध में उन्हें मंगलवार को एक ईमेल मिला था, जिसमें कहा गया था कि भारत सरकार ने कहा है कि एकाउंट ने आईटी अधिनियम की धाराओं का उल्लंघन किया है.

नाइक ने स्क्रॉल को बताया कि यह समूह को अपना काम जारी रखने से नहीं रोक पाएगा. उन्होंने कहा, ‘यह हमें अपना काम करने से नहीं रोक पाएगा और हम अडिगता से अपना काम जारी रखेंगे.’

हिंदुत्व वॉच भारत में अल्पसंख्यक समुदायों के खिलाफ हमलों और नफरत भरे भाषणों (हेट स्पीच) पर रिपोर्ट तैयार करता है. पिछले साल सितंबर में, समूह ने एक अध्ययन प्रकाशित किया था जिसमें कहा गया था कि अकेले 2023 के पहले छह महीनों में 250 से अधिक ऐसे जमावड़े देखे गए जहां मुस्लिम विरोधी नफरती भाषण दिए गए, जिनमें से अधिकांश भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा शासित राज्यों में दिए गए थे और उनमें से लगभग 70 फीसदी उन राज्यों में दिए गए जहां 2023 या 2024 में विधानसभा चुनाव होने थे.

Advertisement

Related posts

कुलदीप बिश्नोई आखिर क्या करेंगे ,राहुल राहुल करते कहीं  ना घर के ना रहे घाट के,हरियाणा कांग्रेस में मचा “बवाल” थमने का नाम नहीं ले रहा,

atalhind

हरियाणा  बदमाशों का राज ,पैसे भी तू लगाएगा,ठेके भी तू लेगा और हमारा होगा 50 प्रतिशत हिस्सा समझा  बदमाशों की दबंगई

atalhind

आपत्तिजनक कंटेंट का देना होगा जवाब, सोशल मीडिया कंपनियों पर नकेल।

atalhind

Leave a Comment

URL