AtalHind
टॉप न्यूज़ पंचकुला

हरियाणा दिव्यांगजन आयुक्त ने अधिकारियों को लगाई फटकार और कार्यवाही के लिए मुख्य सचिव को भेजे आदेश।

सरकार के उच्च अधिकारियों को दिव्यांग आयोग के आदेशों की परवाह नहीं:
हरियाणा दिव्यांगजन आयुक्त  ने अधिकारियों को लगाई फटकार और कार्यवाही के लिए मुख्य सचिव को भेजे आदेश।
पंचकुला(atal hind)
जिला अंबाला में दिव्यांग बच्चों के लिए आयोजित शिविर में हुई धांधली के संदर्भ में जांच के आदेश देते हुए राज्य दिव्यांगजन आयुक्त राजकुमार मक्कड़ की कोर्ट ने 15 जून 2021 को आदेश पारित किया था कि सहायक परियोजना समन्वयक,अंबाला, मनु अबरोल को तुरंत प्रभाव के साथ पद से हटाया जाए ताकि वह जांच को प्रभावित ना कर सके।
परंतु 8 सितंबर को सुनवाई के दौरान शिकायतकर्ता विशेष अध्यापकों के वकील प्रदीप रापड़िया ने आयोग को बताया कि कि राज्य परियोजना समन्वयक, हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद, पंचकुला द्वारा आदेशों की अवेहलना करते हुए न तो अब तक जांच पूरी की गई और न ही जांच के दौरान सहायक परियोजना समन्वय मनु अबरोल को पद से हटाया गया,जो जांच के कटघरे में है। एडवोकेट प्रदीप रापड़िया ने आयोग को बताया कि इस तरह के मामलों में जांच में कोताही न सिर्फ भ्रष्टाचार को बढ़ावा देती है बल्कि सभी दिव्यांगों के साथ क्रूर असंवेदना भी दर्शाता है।
जब दिव्यांगजन आयुक्त ने राज्य समन्वयक; समावेशित शिक्षा से आदेशों की अवहेलना का कारण पूछा तो संबंधित आधिकारी ने आयोग को सूचित किया कि राज्य परियोजना समन्वयक ,हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद, पंचकुला, जे.गणेशन ने आरोपी कर्मचारी को न हटाने के मौखिक आदेश दिए थे। जिस पर दिव्यांगजन आयुक्त श्री राजकुमार मक्कड़ ने सभी अधिकारियों को फटकार लगाते हुए आगाह किया कि इस तरह उच्च अधिकारियों के मौखिक आदेशों के आधार पर आयोग के आदेशों की अवहेलना से न सिर्फ प्रशासन में गलत संदेश जाता है,
बल्कि अराजकता की स्थिति भी पैदा हो सकती है। आयोग ने आदेश की कॉपी मुख्यसचिव को भी उचित कार्यवाही के लिए भेजी है। राज्य दिव्यांगजन आयुक्त श्री राजकुमार मक्कड़ ने राज्य परियोजना समन्वयक, हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद , पंचकुला को सख्त आदेश पारित किए कि सहायक परियोजना समन्वयक, आई ई डी, समग्र शिक्षा अंबाला, मनु अबरोल को पद से हटाया जाए और जांच की रिपोर्ट अति शीघ्र कोर्ट में प्रेषित की जाए।मामले की अगली सुनवाई 26 अक्तूबर को होगी।
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

सुप्रीम कोर्ट या हाईकोर्ट के कार्यरत जज को उसके पद से हटाना आसान नहीं है

atalhind

2020 में सबसे ज़्यादा दिहाड़ी मज़दूरों ने आत्महत्या की: एनसीआरबी

atalhind

नरवाना के पास बड़ा हादसा 4 युवकों की मौत, 2 घायल

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL