AtalHind
टॉप न्यूज़राजनीतिहरियाणा

भूपेंद्र हुड्डा फंसे  चक्रव्यूह में, क्रॉस वोटिंग के खतरे के कारण शैलजा और रणदीप को नहीं दी हरियाणा से राज्यसभा की टिकट

भूपेंद्र हुड्डा फंसे  चक्रव्यूह में, क्रॉस वोटिंग के खतरे के कारण शैलजा और रणदीप को नहीं दी हरियाणा से राज्यसभा की टिकट

अजय माकन को प्रत्याशी बनाकर कांग्रेस हाईकमान ने खेला जोरदार दांव

भूपेंद्र हुड्डा की सिफारिश वाले नेता को टिकट नहीं देकर दे दिया एक और जोर का झटका

हरियाणा के नेता को टिकट दिए जाने पर थी हुड्डा द्वारा भितरघात करने की रिपोर्ट

 

 भूपेंद्र हुड्डा विरोधी नेता को टिकट देने पर 6 साल पहले के स्याही कांड को दोहराने की थी आशंका-

अटल हिन्द —
नई दिल्ली। कांग्रेस हाईकमान ने राज्यसभा चुनाव में पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा को सियासी चक्रव्यूह में फंसा लिया है। अजय माकन को राज्यसभा का टिकट देकर कांग्रेस हाईकमान ने भूपेंद्र हुड्डा को कांग्रेस प्रत्याशी की जीत के लिए पूरा दम लगाने को मजबूर कर दिया है।
असल में कांग्रेसी हाईकमान को भूपेंद्र हुड्डा पर पूरा भरोसा नहीं है।
भूपेंद्र हुड्डा की मनमर्जी को रोकने के लिए राज्यसभा चुनाव के लिए कांग्रेस हाईकमान ने हरियाणा की 1 सीट के लिए किसी स्थानीय नेता को टिकट देने की बजाय अजय माकन को मैदान में उतार दिया।
कांग्रेस हाईकमान को इस बात की रिपोर्ट मिल चुकी थी कि अगर हुड्डा विरोधी नेता कुमारी शैलजा, रणदीप सुरजेवाला ,को प्रत्याशी बनाया गया तो भूपेंद्र हुड्डा 6 साल पहले खेले गए स्याही कांड की तरह एक और भितरघात का कांड कर देंगे जिसके चलते कांग्रेस प्रत्याशी की हार हो जाएगी।
भूपेंद्र हुड्डा के भितरघात की पक्की सूचना मिलने के बाद कांग्रेस हाईकमान ने रिस्क कर लेना ठीक नहीं समझा और इसलिए शैलजा या रणदीप सुरजेवाला को टिकट देने की बजाय वरिष्ठ नेता अजय माकन को राज्यसभा का प्रत्याशी बना दिया।
इस सारी भागमभाग में रणदीप सुरजेवाला को तो राजस्थान से राज्यसभा की टिकट मिल गई लेकिन पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा टिकट से वंचित हो गई।
अजय को इसलिए राज्यसभा का प्रत्याशी बनाया गया है कि उनके खिलाफ भूपेंद्र हुड्डा क्रॉस वोटिंग नहीं कराएंगे और दिल्ली की राजनीति में अजय माकन डिसाइडिंग फेस रहने के कारण भूपेंद्र हुड्डा उनको जिताने के लिए मजबूर होंगे।
भूपेंद्र सिंह हुड्डा अजय माकन के साथ पंगा लेना ठीक नहीं समझेंगे। इसलिए कांग्रेस हाईकमान ने अजय माकन को सोच समझकर टिकट दी है।
भूपेंद्र हुड्डा G23 के नेता गुलाम नबी आजाद या आनंद शर्मा को राज्यसभा के टिकट दिलाना चाहते थे। स्थानीय स्तर पर उनकी पहली पसंद कुलदीप शर्मा और दूसरी पसंद अशोक अरोड़ा थे लेकिन कांग्रेस हाईकमान ने उनकी पसंद को नकारते हुए अजय माकन को प्रत्याशी बना दिया।
अजय माकन को टिकट देकर हाईकमान ने भूपेंद्र हुड्डा को 4 दिन में दूसरा करारा झटका दिया है। इससे पहले गुप्ता ने सहायक मारे भूपेंद्र हुड्डा के प्रवक्ताओं की सूची पर रोक लगा दी थी।
बेशक कांग्रेस हाईकमान मजबूरी में अपने वफादार नेताओं शैलजा या रणदीप सुरजेवाला को हरियाणा से राज्यसभा का प्रत्याशी नहीं बनवा पाया लेकिन भूपेंद्र हुड्डा की च्वाइस के नेता को टिकट नहीं देकर हाईकमान ने यह बता दिया कि सब कुछ भूपेंद्र हुड्डा की पसंद से नहीं होगा बल्कि हाईकमान जो चाहेगा वही होगा।
कांग्रेस हाईकमान ने भूपेंद्र हुड्डा को अजय माकन की टिकट देकर सियासी चक्रव्यूह में फंसा लिया है। भूपेंद्र हुड्डा चाहकर भी अजय माकन की खिलाफत नहीं कर पाएंगे।
अगर भूपेंद्र हुड्डा ने कोई चालबाजी की तो दिल्ली की सियासत में अजय माकन उनके खिलाफ खड़े हो जाएंगे जो हुड्डा परिवार की सियासत के लिए नई परेशानियों का सबब बन सकता है। अब देखना यह है कि भूपेंद्र हुड्डा इस चक्रव्यूह से किस तरह निकलते हैं?

Advertisement
Advertisement

Related posts

रोहतक में बदमाशों ने चार लोगों को मारी गोली, तीन की मौत

admin

फरीदाबाद नगर निगम का चीफ इंजीनियर 200 करोड़ के घोटाले में गिरफ्तार

atalhind

निशाने पर थे कई भारतीय पत्रकार ,फॉरेंसिक टेस्ट में हुई पेगासस द्वारा जासूसी की पुष्टि

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL