AtalHind
पानीपत

हरियाणा की ईमानदार मनोहर सरकार के विभाग तो भ्रष्टाचार ,रिश्वतखोरी ,बेईमानी का जीता जागता सबूत निकले ,है ना कमाल

हरियाणा की ईमानदार मनोहर सरकार के विभाग तो भ्रष्टाचार ,रिश्वतखोरी ,बेईमानी का जीता जागता सबूत निकले ,है ना कमाल

हरियाणा में बिजली निगम के खातों में बड़ा फर्जीवाड़ा, चार आराेपियों से 70 लाख का सोना और 57 लाख की नगदी बरामद

पानीपत(Atal Hind)बीजेपी विधायक मनोहर लाल जहाँ से विधायक है यानी करनाल से शुरू हुए रिश्वत काण्ड जिसमे एकाध  बड़े अधिकारी की गिरफ्तारी जो रजिस्ट्री करते थे करोड़ो के मालिक निकले और बीजेपी विधायक मनोहर लाल शांत रहे।

फोटो -स्त्रोत गूगल -करनाल तहसील के ईमानदार मनोहर सरकार के गिरफ्तार  बईमान अफसर

आंच  और आवाज हरियाणा विधानसभा में गुंजी जहाँ करनाल के यही विधायक मनोहर लाल सरकार के मुखिया है को विपक्ष ने करनाल रिश्वत काण्ड – हाथो लिया लेकिन हमेशा की तरह करनाल विधायक बोले मुझे मालूम नहीं था की करनाल तहसील में खुले आम रिश्वत काण्ड चल रहा है मै बिलकुल दूध धुला हूँ ,ईमानदार सरकार चलाना मेरा फर्ज है जिसे पूरी ईमानदारी से चला रहा हूँ।

फोटो -स्त्रोत गूगल-करनाल बीजेपी विधायक मनोहर लाल

लेकिन यहाँ एक बात समझ से परे है जब अफसर बईमान है तो सरकार ईमानदार कैसे हो सकती है आखिर अफसर सरकार के अधीन है और हरियाणा में सरकार के मुखिया करनाल विधायक मनोहर लाल खटटर है  तो भ्रष्टाचार की आंच से हरियाणा बीजेपी सरकार कैसे बची रह सकती है ?

अभी तो करनाल से हरियाणा में ईमानदार सरकार में करोड़ों के भ्रष्टाचार   की फ़ाइल खुलनी शुरू हुई थी की हरियाणां बिजली विभाग के अफसर भी लाखों करोड़ों में खेलते नजर आये जी हाँ

Advertisement

 

पानीपत पुलिस की सीआईए-टू ने उत्तरी हरियाणा बिजली वितरण निगम के बैंक खाते में करोड़ों रुपये की नकदी का फर्जीवाड़ा करने के आरोपी चार निगम कर्मचारियों से रिमांड के दौरान 57.16 लाख रुपये की नकदी, करीब 70 लाख रुपये कीमत का 1.800 किलो सोना, 17 लाख रुपये कीमत की स्कार्पियो व तीन मोबाइल फोन सेट बरामद किए हैं।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पूजा वशिष्ठ ने बताया कि सुरेश कुमार पुत्र रणधीर सिंह निवासी गांव कारद जिला पानीपत ने थाना समालखा पुलिस को शिकायत दी थी कि उनके बैंक खाते में बिजली निगम के बैंक खाते से नकद जमा करवाई गई है।

सुरेश की शिकायत पर सीआईए-टू ने जांच शुरू की गई तो बिजली निगम से करोड़ों रुपये के गबन का खुलासा हुआ। गबन के इस केस में बिजली निगम के कर्मचारी पवन शर्मा पुत्र अवतार शर्मा व राधव वाधवन उर्फ सौरभ निवासी सहारनपुर, अजय शर्मा पुत्र अनिल शर्मा निवासी समालखा, पानीपत, योगेश लांबा पुत्र सतपाल लांबा निवासी यमुनानगर को गिरफ्तार किया और इनके खिलाफ थाना समालखा में आईपीसी की धारा 409, 420, 120, 34 के तहत केस दर्ज किया गया।

पुलिस ने आरोपित पवन शर्मा से रिमांड के दौरान तीन लाख रुपये व दो मोबाइल फोन सैट, अजय शर्मा से 2.30 लाख रुपये, योगेश लांबा से 5 लाख रुपये बरामद किए हैं। उन्होंने बताया कि आरोपित आपस में मिलकर फर्जी पीपीओ व वाउचर तैयार करके बिजली निगम के बैंक खाते से रुपये निकाल कर आपस में बांट लेते थे।

Panipat (Atal Hind) The departments of the Honest Manohar Government of Haryana have come out with living evidence of corruption, bribery, dishonesty, isn’t it amazing?

Big fraud in the accounts of electricity corporation in Haryana, gold worth 70 lakhs and cash worth 57 lakhs recovered from four accused

Advertisement

आरोपी राघव वधावन से 46.86 लाख रूपये व गबन के रुपयों से खरीदी गई करीब 70 लाख रुपये कीमत का 1.800 किलो सोना, 17 लाख रुपये कीमत की स्कॉर्पियो बरामद की है। आरोपियों से रिमांड के दौरान पुलिस अभी तक 1 करोड़ 16 लाख 86 हजार रुपये की बरामदगी की जा चुकी है। जबकि आरोपित राघव को पुलिस ने बुधवार को फिर कोर्ट में पेश कर पांच अप्रैल तक के लिए रिमांड पर लिया है।

 

डिप्टी सुपरिटेंडेंट ने ऑफिस में खाया जहर, 4 पेज का सुसाइड नोट छोड़ा

(LAST UPDATED : FEBRUARY 24, 2022, 06:34 IST)

पानीपत. हरियाणा के पानीपत (Panipat) जिले में बिजली विभाग के दफ्तर में डिप्टी सुपरिटेंडेंट (Electricity Department Deputy Superintendent) द्वारा 24  फरवरी 2022  को जहर खाकर आत्महत्या (Suicide) करने का मामला सामने आया है.

मृतक का यमुनानगर के बिलासपुर में लाखों रुपए के गबन के मामले में नाम आया था. इस मामले में पुलिस जांच कर रही थी. इस बात से मृतक परेशान चल रहा था और उसने ये कदम उठा लिया. पुलिस ने फिलहाल मृतक के शव को कब्जे में लेकर पानीपत के सिविल अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है.

बता दें कि पानीपत के समालखा में बिजली निगम के दफ्तर में तैनात डिप्टी सुपरिटेंडेंट चक्रवर्ती शर्मा ने बुधवार को ड्यूटी के दौरान जहर खा लिया. जहां कर्मचारियों द्वारा उसे समालखा के सरकारी अस्पताल ले जाया गया और उसकी हालत को गंभीर देखते हुए डॉक्टरों ने उसे पानीपत रेफर कर दिया. जहां पानीपत के एक निजी अस्पताल में चक्रवर्ती शर्मा की इलाज के दौरान मौत (Death) हो गई.

Advertisement

Related posts

पूरा परिवार जिंदा जला, मरने वालों में दंपति और उनके 4 बच्चे शामिल

atalhind

कुख्यात गैंगेस्टर प्रसन्न लंबू और राकू समेत 7 बदमाशों को उम्रकैद, 6 को 14 साल और 2 को 7 वर्ष की सजा

atalhind

अंधेरगर्दी का हरियाणा में सबसे विलक्षण नजारा,एथलेटिक ट्रैक के बीचों-बीच मैदान में छोड़ दिया  बिजली का खंभा

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL