AtalHind
कुरुक्षेत्रटॉप न्यूज़हरियाणा

कुरुक्षेत्र में पैदल चल रहे राहुल गांधी मीडिया से बोले- मैं तपस्वी हूँ

कुरुक्षेत्र में पैदल चल रहे राहुल गांधी मीडिया से बोले- मैं तपस्वी हूँ

===Atalhind===

कुरुक्षेत्र-कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा हरियाणा में रविवार को तीसरे दिन करनाल के बाद कुरुक्षेत्र से निकली। यात्रा की शुरूआत रविवार सुबह 6 बजे तरावड़ी से हुई। सूर्य की रोशनी धुंध की चादर से ढकी होने के कारण राहुल गांधी अंधेरे में पैदल चले। रास्ते में राहुल गांधी को टीशर्ट में देख कांग्रेस समर्थकों ने कपड़े उतारकर डांस किया। दोपहर सवा 3 बजे यात्रा गांव जिरबड़ी से शुरू हुई। शाम को यात्रा का समापन पुराने बस स्टैंड पर हुआ।

करनाल में प्रेस कान्फ्रेंस में राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस तपस्या का संगठन है। भाजपा पूजा का संगठन है। पूजा दो तरीके की होती है। सामान्यत पूजा भगवान के पास जाकर होती है।

Advertisement

आरएसएस की पूजा अलग है। वह चाहता है कि जबरन उनकी पूजा हो। मोदी जी चाहते हैं कि जबरन उनकी पूजा हो। देश में सब लोग उनकी पूजा करें। इसका जवाब तपस्या ही हो सकता है। कांग्रेस की तपस्या में कमी हो गई थी, यात्रा से उसे पूरा कर रहे हैं।
राहुल से सवाल किया गया कि पानीपत में मंच से कहा गया कि यहां से दिल्ली की सरकार तय होगी। करनाल में कहा गया कि यह यात्रा वोटों के लिए नहीं है। क्या यह यात्रा जन आंदोलन है या राजनीतिक यात्रा। 30 जनवरी के बाद यात्रा का टेक अवे क्या होगा? राहुल गांधी ने कहा यह यात्रा हिंदुस्तान में फैलाए जा रहे डर और धर्म-जाति के नाम पर बांटने की नीति के खिलाफ है। यह यात्रा एक तपस्या है। इससे राजनीतिक फायदा या नुकसान के बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता। यात्रा के 3 लक्ष्य हैं। भारत जोड़ो, डर के खिलाफ खड़े हो।दूसरा मुद्दा हिंदुस्तान में आर्थिक असमानता हो रही है। जिसमें सारा धन, मीडिया और दूसरे इंस्टीट्यूशंस 3-4 लोगों के हाथ में हैं। उससे भयंकर बेरोजगारी हो रही है।
हरियाणा विधानसभा के आगामी चुनाव में कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होंगे? इस सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि मैंने कई बार कहा कि हमारा लक्ष्य यात्रा का है। इसे डाइवर्ट करने की कोशिश की जा रही है। यात्रा को नहीं दिखाया जा रहा है।इस सवाल पर कि आप लगातार कह रहे हैं कि डर और नफरत का माहौल है। छत्तीसगढ़ में आदिवासी लड़के का एनकाउंटर कर दिया गया। इंटरनेशनल एक्टिविस्ट सोनी शौरी की बिजली काट दी गई?।
राहुल ने कहा मेरे सामने जो सवाल रखे हैं, क्या वह नरेंद्र मोदी के सामने रख सकते हैं?। प्रधानमंत्री जी ने कितने प्रेस कान्फ्रेंस किए, जहां पर कोई पत्रकार उनसे सवाल पूछ सके। देश की जनता को बांटकर उनमें नफरत फैलाई जा रही है। हिंदू-मुस्लिम और अलग-अलग जाति के लोगों को लड़ाया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी ने कभी ऐसा नहीं कहा। छत्तीसगढ़ में जो बताया, उसे देखेंगे और अगर बोल सकता हूं तो मैं बोलूंगा और पर्सनली राय भी रखूंगा। यात्रा के बाद में खुद वहां जाऊंगा और कमी हो तो उसे सुधारूंगा।
किसान आंदोलन खत्म हुआ मगर मैप नहीं मिली। आपकी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू नहीं की?। क्या इसे लागू करेंगे और किसानों को एमएसपी देंगे। इन बातों को कैजुअली नहीं कहा जा सकता। यह चर्चा हम अपनी मेनिफेस्टो कमेटी में करते हैं। उसकी वित्तीय स्थिति के बारे में चर्चा करते हैं। मैं यहां कह दूं, इसका कोई मतलब नहीं है। तीन काले कानून किसान को मारने के लिए लाए गए। जीएसटी और नोटबंदी भी छोटे कारोबारियों को मारने के लिए लाई गई। यह पॉलिसी नहीं हैं। मैं गारंटी देता हूं कि कांग्रेस पार्टी की सरकार इस तरह आक्रमण नहीं करेगी। किसान की प्रोटेक्शन होगी। अगर हम अरबपतियों का कर्ज माफ कर सकती है तो किसानों को भी लाभ पहुंचाया जाएगा।युवाओं को रोजगार के लिए क्या रोडमैप है?

राहुल ने कहा जो लोग इस देश को रोजगार दे सकते हैं, उनकी हम मदद नहीं करते हैं। स्मॉल व मीडिया इंडस्ट्री को बर्बाद कर दिया गया। यह लोग करोड़ों लोगों को रोजगार दे सकते हैं।

रोड मैप यह है कि स्मॉल और मीडियम इंडस्ट्री के बेस को मजबूत किया जाए। उन्हें फाइनेंस दिया जाए। इनमें से 5-10फीसदी को बड़ा बिजनेस दिया जाएगा। तीसरा हमारे शिक्षा का सिस्टम सिर्फ 5 रास्ते दिखा रहा है। देश में कौशल का सम्मान होगा, तब सुपर पॉवर बनेगा। यह ध्यान दिलाने पर कि: यात्रा के वक्त आपकी टी शर्ट खूब चर्चा में है।राहुल ने कहा
मुझे मामा की डांट पड़ी है। यात्रा के बाद के नतीजे पर राहुल गांधी ने कहा मेरे दिमाग में राहुल गांधी नहीं है। यह भाजपा के दिमाग में है। मुझे इमेज का कोई लेना-देना नहीं है। जो चाहे रखो। अच्छी-बुरी जो चाहे रखो। मुझे अपना काम करना है।
हरियाणा में सरकार बनने का क्या संभावना है।राहुल ने कहा उत्तरी क्षेत्र में हमें अच्छा समर्थन मिल रहा है। इन राज्यों में कांग्रेस की सरकार आएगी।। मुझे इस बात की चिंता है कि हरियाणा और मध्यप्रदेश में किसानों की सरकार आए। जो लोगों की बात सुने।
क्या आप स्वयं को तपस्वी मानते हैं। इस पर राहुल ने कहा यह देश तपस्वियों का है। देश का हर किसान मुझसे ज्यादा चला है। मजदूर ज्यादा चलता है। यह देश पुजारियों का नहीं तपस्वियों का है, आरएसएस और-मोदी जबरन पूजा कराना चाहते हैं
रास्ते में राहुल गांधी ने सड़क किनारे खड़े लोगों को खुद अपने पास बुलाकर बातचीत की। बच्चों को टॉफी भी दी। इससे पहले एक युवक ने सुरक्षा घेरे के अंदर यात्रा में घुसने की कोशिश की तो पुलिस ने धक्के देकर उसे निकाल दिया।

Advertisement

राहुल के साथ केवी वेणुगोपाल, भूपेन्द्र हुड्‌डा, कुमारी सैलजा व दीपेन्द्र हुड्‌डा भी रहे। पहले यात्रा सुबह साढ़े आठ बजे रायपुर रोड़ान स्थित एक ढाबा पर टी-ब्रैक के लिए रुकी। यहां राहुल ने चाय पी और लोगों कुछ देर बात भी की। यहां से सीधे राहुल गांधी ने कुरुक्षेत्र के जिरबाड़ी पहुंचकर 3 बजे फिर से यात्रा शुरू की। कुरुक्षेत्र में पैदल चल रहे राहुल गांधी मीडिया बोले- मैं तपस्वी हूँ

कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा हरियाणा में रविवार को तीसरे दिन करनाल के बाद कुरुक्षेत्र से निकली। यात्रा की शुरूआत रविवार सुबह 6 बजे तरावड़ी से हुई। सूर्य की रोशनी धुंध की चादर से ढकी होने के कारण राहुल गांधी अंधेरे में पैदल चले। रास्ते में राहुल गांधी को टीशर्ट में देख कांग्रेस समर्थकों ने कपड़े उतारकर डांस किया। दोपहर सवा 3 बजे यात्रा गांव जिरबड़ी से शुरू हुई। शाम को यात्रा का समापन पुराने बस स्टैंड पर हुआ।

करनाल में प्रेस कान्फ्रेंस में राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस तपस्या का संगठन है। भाजपा पूजा का संगठन है। पूजा दो तरीके की होती है। सामान्यत पूजा भगवान के पास जाकर होती है।

Advertisement

आरएसएस की पूजा अलग है। वह चाहता है कि जबरन उनकी पूजा हो। मोदी जी चाहते हैं कि जबरन उनकी पूजा हो। देश में सब लोग उनकी पूजा करें। इसका जवाब तपस्या ही हो सकता है। कांग्रेस की तपस्या में कमी हो गई थी, यात्रा से उसे पूरा कर रहे हैं।
राहुल से सवाल किया गया कि पानीपत में मंच से कहा गया कि यहां से दिल्ली की सरकार तय होगी। करनाल में कहा गया कि यह यात्रा वोटों के लिए नहीं है। क्या यह यात्रा जन आंदोलन है या राजनीतिक यात्रा। 30 जनवरी के बाद यात्रा का टेक अवे क्या होगा? राहुल गांधी ने कहा यह यात्रा हिंदुस्तान में फैलाए जा रहे डर और धर्म-जाति के नाम पर बांटने की नीति के खिलाफ है। यह यात्रा एक तपस्या है। इससे राजनीतिक फायदा या नुकसान के बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता। यात्रा के 3 लक्ष्य हैं। भारत जोड़ो, डर के खिलाफ खड़े हो।दूसरा मुद्दा हिंदुस्तान में आर्थिक असमानता हो रही है। जिसमें सारा धन, मीडिया और दूसरे इंस्टीट्यूशंस 3-4 लोगों के हाथ में हैं। उससे भयंकर बेरोजगारी हो रही है।
हरियाणा विधानसभा के आगामी चुनाव में कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होंगे? इस सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि मैंने कई बार कहा कि हमारा लक्ष्य यात्रा का है। इसे डाइवर्ट करने की कोशिश की जा रही है। यात्रा को नहीं दिखाया जा रहा है।इस सवाल पर कि आप लगातार कह रहे हैं कि डर और नफरत का माहौल है। छत्तीसगढ़ में आदिवासी लड़के का एनकाउंटर कर दिया गया। इंटरनेशनल एक्टिविस्ट सोनी शौरी की बिजली काट दी गई?।
राहुल ने कहा मेरे सामने जो सवाल रखे हैं, क्या वह नरेंद्र मोदी के सामने रख सकते हैं?। प्रधानमंत्री जी ने कितने प्रेस कान्फ्रेंस किए, जहां पर कोई पत्रकार उनसे सवाल पूछ सके। देश की जनता को बांटकर उनमें नफरत फैलाई जा रही है। हिंदू-मुस्लिम और अलग-अलग जाति के लोगों को लड़ाया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी ने कभी ऐसा नहीं कहा। छत्तीसगढ़ में जो बताया, उसे देखेंगे और अगर बोल सकता हूं तो मैं बोलूंगा और पर्सनली राय भी रखूंगा। यात्रा के बाद में खुद वहां जाऊंगा और कमी हो तो उसे सुधारूंगा।
किसान आंदोलन खत्म हुआ मगर मैप नहीं मिली। आपकी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू नहीं की?। क्या इसे लागू करेंगे और किसानों को एमएसपी देंगे। इन बातों को कैजुअली नहीं कहा जा सकता। यह चर्चा हम अपनी मेनिफेस्टो कमेटी में करते हैं। उसकी वित्तीय स्थिति के बारे में चर्चा करते हैं। मैं यहां कह दूं, इसका कोई मतलब नहीं है। तीन काले कानून किसान को मारने के लिए लाए गए। जीएसटी और नोटबंदी भी छोटे कारोबारियों को मारने के लिए लाई गई। यह पॉलिसी नहीं हैं। मैं गारंटी देता हूं कि कांग्रेस पार्टी की सरकार इस तरह आक्रमण नहीं करेगी। किसान की प्रोटेक्शन होगी। अगर हम अरबपतियों का कर्ज माफ कर सकती है तो किसानों को भी लाभ पहुंचाया जाएगा।युवाओं को रोजगार के लिए क्या रोडमैप है?

राहुल ने कहा जो लोग इस देश को रोजगार दे सकते हैं, उनकी हम मदद नहीं करते हैं। स्मॉल व मीडिया इंडस्ट्री को बर्बाद कर दिया गया। यह लोग करोड़ों लोगों को रोजगार दे सकते हैं।

रोड मैप यह है कि स्मॉल और मीडियम इंडस्ट्री के बेस को मजबूत किया जाए। उन्हें फाइनेंस दिया जाए। इनमें से 5-10फीसदी को बड़ा बिजनेस दिया जाएगा। तीसरा हमारे शिक्षा का सिस्टम सिर्फ 5 रास्ते दिखा रहा है। देश में कौशल का सम्मान होगा, तब सुपर पॉवर बनेगा। यह ध्यान दिलाने पर कि: यात्रा के वक्त आपकी टी शर्ट खूब चर्चा में है।राहुल ने कहा
मुझे मामा की डांट पड़ी है। यात्रा के बाद के नतीजे पर राहुल गांधी ने कहा मेरे दिमाग में राहुल गांधी नहीं है। यह भाजपा के दिमाग में है। मुझे इमेज का कोई लेना-देना नहीं है। जो चाहे रखो। अच्छी-बुरी जो चाहे रखो। मुझे अपना काम करना है।
हरियाणा में सरकार बनने का क्या संभावना है।राहुल ने कहा उत्तरी क्षेत्र में हमें अच्छा समर्थन मिल रहा है। इन राज्यों में कांग्रेस की सरकार आएगी।। मुझे इस बात की चिंता है कि हरियाणा और मध्यप्रदेश में किसानों की सरकार आए। जो लोगों की बात सुने।
क्या आप स्वयं को तपस्वी मानते हैं। इस पर राहुल ने कहा यह देश तपस्वियों का है। देश का हर किसान मुझसे ज्यादा चला है। मजदूर ज्यादा चलता है। यह देश पुजारियों का नहीं तपस्वियों का है, आरएसएस और-मोदी जबरन पूजा कराना चाहते हैं
रास्ते में राहुल गांधी ने सड़क किनारे खड़े लोगों को खुद अपने पास बुलाकर बातचीत की। बच्चों को टॉफी भी दी। इससे पहले एक युवक ने सुरक्षा घेरे के अंदर यात्रा में घुसने की कोशिश की तो पुलिस ने धक्के देकर उसे निकाल दिया।

Advertisement

राहुल के साथ केवी वेणुगोपाल, भूपेन्द्र हुड्‌डा, कुमारी सैलजा व दीपेन्द्र हुड्‌डा भी रहे। पहले यात्रा सुबह साढ़े आठ बजे रायपुर रोड़ान स्थित एक ढाबा पर टी-ब्रैक के लिए रुकी। यहां राहुल ने चाय पी और लोगों कुछ देर बात भी की। यहां से सीधे राहुल गांधी ने कुरुक्षेत्र के जिरबाड़ी पहुंचकर 3 बजे फिर से यात्रा शुरू की।

Advertisement

Related posts

हरियाणा के ‘जुगाड़ी कर्मचारी’ मुख्यमंत्री के ‘राडार’ पर हैं, अगर कहीं गड़बड़ी मिली तो बख्शने के मूड में भी नहीं हैं।

atalhind

राजनीति के शिखर थे समाजवादी मुलायम सिंह यादव

atalhind

आर्थिक तबाही से गुज़रती दुनिया के बीच मस्त मौला बना हुआ है भारत

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL