AtalHind
कुरुक्षेत्रटॉप न्यूज़राजनीतिहरियाणा

पिहोवा नगर पालिका चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी को जिताने के लिए की गई अंधेरगर्दी

पिहोवा नगर पालिका चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी को जिताने के लिए की गई अंधेरगर्दी
बिना वजह 56 वोट कर दिए गए खुर्दबुर्द
आप ने चेयरमैन का चुनाव रद्द करने की मांग की
चेयरमैन प्रत्याशी अनिल धवन ने लिखा चुनाव आयोग को पत्र
राष्ट्रीय चुनाव आयोग और राज्य चुनाव आयोग से निष्पक्ष जांच की मांग


चंडीगढ़, 24 जून(अटल हिन्द ब्यूरो )आम आदमी पार्टी की पेहवा नगर पालिका चेयरमैन प्रत्याशी अनिल धवन ने चुनाव में धोखाधड़ी कर बीजेपी प्रत्याशी को जिताने का आरोप लगाया है। उन्होंने इसकी शिकायत केंद्रीय चुनाव आयोग और राज्य चुनाव आयोग में की है। उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों पर भी मिलीभगत कर बीजेपी प्रत्याशी जिताने की बात कही है।
आम आदमी पार्टी चेयरमैन प्रत्याशी अनिल धवन ने कहा कि पेहवा नगर पालिका के चुनाव में कुल 20419 वोट पोल हुए थे। इसका ब्यौरा राज्य चुनाव आयोग की वेबसाइट पर भी दिया गया था। लेकिन गिनती वाले दिन केवल 20363 वोटों की गिनती की गई। उन्होंने बताया कि आखिरी राउंड तक वे बढ़त बनाए हुए थे। अंतिम राउंड में उन्हें 55 वोटों से हारा दिखाकर बीजेपी प्रत्याशी को चेयरमैन घोषित कर दिया गया। जबकि 20363 वोटों की गिनती की गई।
*56 वोटों की नहीं की गिनती*
आम आदमी पार्टी चेयरमैन प्रत्याशी अनिल धवन ने बताया कि अंत में 56 वोटों की गिनती नहीं की गई। और ना ही रिटर्निंग अधिकारी ने इन 56 वोटों के बारे में कोई स्थिति स्पष्ट की। उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए कहा कि 56 वोटों को खुर्द बुर्द कर दिया गया। ऐसा बीजेपी प्रत्याशी को जिताने के लिए किया गया।
*चुनाव आयोग निष्पक्ष जांच करे*
आम आदमी पार्टी चेयरमैन प्रत्याशी अनिल धवन ने केंद्रीय चुनाव आयुक्त राजीव कुमार और राज्य चुनाव आयुक्त धनपत सिंह से पेहवा नगर पालिका के चेयरमैन के चुनाव को निरस्त कर निष्पक्ष जांच करने की मांग की और 56 वोटों के बारे में स्थिति स्पष्ट करने की बात कही।
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर इस मामले में प्रशासनिक अधिकारियों की मिलीभगत के सुबूत मिलते हैं तो चुनाव आयोग जिम्मेदार अधिकारियों को सस्पेंड करें और दोबारा से गिनती कर 56 वोटों की स्थिति को स्पष्ट करें, और चेयरमैन के चुनाव को अमान्य घोषित करे।

Advertisement

Related posts

(जोधपुर दंगा विशेष) सांप्रदायिकता एक राजनीतिक हथियार बनी हुई है।

atalhind

अगर जिन्ना देश के पहले प्रधानमंत्री बनते तो विभाजन से बच सकता था भारत : भाजपा नेता

admin

सिस्टम को नहीं पता उनका एनकाउंटर कैसे करे और किस जेल में डाल दे

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL