AtalHind
कैथल (Kaithal)टॉप न्यूज़हरियाणा

कैथल प्रशासन का कमाल ,कचरे में पड़े मिले आंगनवाड़ी फोर्टिफाइड दूध के भरे पैकेट किसके थे खाली या भरे थे

कैथल प्रशासन का कमाल

 कैथल प्रशासन का कमाल
कैथल प्रशासन का कमाल
कैथल प्रशासन का कमाल,कचरे में पड़े मिले आंगनवाड़ी फोर्टिफाइड दूध के भरे पैकेट किसके थे खाली या भरे थे
पाई, (अटल हिन्द ब्यूरो )
Advertisement
पाई में आंगनवाड़ी केंद्रों पर बंटने वाले फोर्टिफाइड दूध के भरे हुये
पैकेट कचरे में पड़े हुये मिलने के मामले में विभागिय अधिकारी मानने को
तैयार नही है कि ये पैकट भरे हुये थे और पाई के आंगनवाड़ी केंद्रों के
थे। इतना ही नही अधिकारी अपना पल्ला झाड़ते हुये कह रहे है कि आस पड़ोस
तो क्या ये तो सारे हरियाणा में बंटते है, फिर केवल पाई के कैसे कह सकते
है। दुध से भरे फैके गये पैकटों का खाली बताया कर मामले को दबाया जा रहा
है। इस मामले में बुधवार को भी डी पी ओ कमलेश गर्ग व विनिता पंवार ने पाई
के सभी आंगनवाड़ी केंद्रों का दौरा कर रिकार्ड कंगाला। उन्होंने
आंगनवाड़ी केद्रों में बंटने वाले पौष्टिक आहार को भी चका। सभी का
रिकार्ड सही पाया गया। दूध के पैकेट व अन्य भोजन आने के स्टाक तारीख व
बांटने के क्रम का मिलान किया गया, जो सब सही पाया गया। इतना जरूर देखने
को मिला की गांव का कोई व्यक्ति समय पर आहार बांटने की शिकायत लेकर नही
आया और न ही किसी से जाना गया। पाई के सरपंच प्रतिनिधी नरेश की
अनुपस्थिति में पूर्व सरपंच कण सिंह को अधिकारियों ने बुलाया। जिस पर
पूर्व सरपंच कर्ण सिंह ने कहा कि यह किसी दूसरे गांव वाले की शरारत हो
सकती है, जिसने पाई को बदनाम करने के लिये इन पैकटों को फैका। पाई के
आंगनवाड़ी केंद्रों के बारे में ग्राम पंचायत लिख कर दे सकती है कि ये
पाई के नही है। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों को सुझाव भी दिया कि इस बारे
मे तीन प्रतिनिधियों जिसमें ण्क सरपंच व दो पंच शामिल हो, उनकी कमेटी
बनाई जाये और हर पंद्रह दिन बाद स्टाक चैक करे।
 कैथल प्रशासन का कमाल
कैथल प्रशासन का कमाल
जब इस विषय पर कैथल से पहुंची डीपीओ कमलेश गर्ग से पुछा गया कि क्या ये पाई के न होकर किसी
पड़ोसी गांव के हो सकते है तो उसने क्लीन चीट देते हुये कहा कि इन पर पाई
गांव की मोहर नही है। ये तो ऐसे ही सारे हरियाणा में बंटते है, फिर पाई
के कैसे हो सकते है। पाई केसभी केंद्रों का स्टाक मिलान के बाद सही है।
फिर भी जांच जारी रहेगी। उधर गांव की कुछ महिलायें नाम न बताने पर कहती
नजर आई की इन बांगनवाड़ी महिलाओं का बुरा हाल है और ये समय पर कभी भी
राशन नही देती और फिर इनके स्टाक का मिलान सही कैसे हो गया। अधिकारियों
ने अपने बचने हेतु ही स्टाक सही बताकर क्लीन चीट दी गई। महिलाओं ने बताया
कि सरोज, मीना तथा अनारों वाले केंद्रों का सबसे बुरा होल है और ये पैकेट
भी इनके ही हो सकते है। इधर बलवान पाई ने तो अधिकारियों को खराब दलियां
दिखाते हुये शिकायत की थी, जो अधिकारियों ने नकार दिया था।
Advertisement
पाई के सभी केंद्रों का स्टाक सही- विनिता पंवार
इस बारे में पुंडरी सी डी पी ओ विनिता पंवार ने बताया कि सभी कंद्रों का
स्टाक सही पाया गया। उन्होंने राशन लेने वाली महिलाओं से भी पूछा,
उन्होंने भी कोई शिकायत नही की। केंद्रों में बने पोष्टिक आहार को खाकर
भी चैक किया जो सही पाया गया।
Advertisement

Related posts

KAITHAL NEWS-हम काम सिखाकर लखपति दीदी, ड्रोन दीदी बना रहे, कांग्रेस घर बैठे पैसा देना चाहती है

editor

हरियाणा में न तो पुस्तकें उपलब्ध और न ही छात्रों के खाते में पैसे आये

atalhind

क्यों पीएम केयर्स फंड ‘प्राइवेट’ नहीं, बल्कि ‘सरकारी’ है और आरटीआई के दायरे में है

atalhind

Leave a Comment

URL