AtalHind
कैथल टॉप न्यूज़ हरियाणा

राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकिमपुरा जैसे कार्यकर्ता  देवीलाल परिवार की सबसे बड़ी ताकत

राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकिमपुरा जैसे कार्यकर्ता  देवीलाल परिवार की सबसे बड़ी ताकत
चार चार पीढ़ियों ने देवीलाल परिवार की पार्टियों के लिए  जिंदगी खपाई

=अटल हिन्द ब्यूरो  ==
चंडीगढ़। जन नायक चौधरी देवी लाल ने वर्करों के साथ “दिल” का रिश्ता बनाने का जो “सिलसिला” शुरू किया था वह चार पीढ़ियों बाद दुष्यंत चौटाला भी “बखूबी” निभा रहे हैं।
जन नायक चौधरी देवी लाल, ओम प्रकाश चौटाला, अजय सिंह चौटाला और दुष्यंत चौटाला की सफलता के पीछे सबसे बड़ी “ताकत” चार पीढ़ियों से उनकी पार्टियों के लिए जिंदगी “खपाने” वाले वर्कर ही हैं।
पीढ़ी दर पीढ़ी देवीलाल परिवार की पार्टियों को अपने खून-पसीने से “सींचने” वाले वर्करों की “बदौलत” ही यह परिवार चार पीढ़ियों से लगातार बुलंदियों पर कायम है।
जन नायक चौधरी देवी लाल से लेकर दुष्यंत चौटाला तक सियासत के सफर में इस परिवार के लिए राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकीमपुरा जैसे लोग “बड़ी” मिसाल हैं। यह दोनों नाम देवीलाल परिवार की हर पीढ़ी में साथ निभाने वाले हजारों वर्करों के “प्रतीक” हैं।

कैथल जिले के राजू जुलानी खेड़ा ने अजय सिंह चौटाला को 17 साल की उम्र में अपना सियासी गुरु मान लिया था। राजू जुलानी खेड़ा देवीलाल परिवार के उन जज्बातों और जुनूनी वर्करों में शामिल हैं जिन्होंने अपने नेता के लिए बड़ी से बड़ी ताकत से “टकराने” में कभी एक पल की भी देरी नहीं की।
कैथल जिले में अजय सिंह चौटाला के लिए जयप्रकाश जेपी, रणदीप सुरजेवाला और रामपाल माजरा जैसे बड़े नेताओं के साथ टक्कर लेने में राजू जुलानी खेड़ा हमेशा तैयार रहे। अपने नेता के लिए राजू जुलानी खेड़ा ने कई मुकदमे भी झेले।
30 साल से लगातार राजू जुलानी खेड़ा अजय सिंह चौटाला के परिवार के लिए लगातार समर्पित भाव से जुड़े हुए हैं। काफी लोग राजू जुलानी खेड़ा को सनकी और गुस्सैल कहते हैं लेकिन इस एक वजह से उनके अजय सिंह चौटाला के परिवार के प्रति समर्पण पर कोई सवालिया निशान नहीं उठा सकता।
जब तक राजू खिलाने खेड़ा जैसे लोग अजय सिंह चौटाला के परिवार के साथ खड़े रहेंगे तब तक उनकी पार्टियां सियासी तौर पर मजबूत बनी रहेंगी।

आज कुरुक्षेत्र जिले के मुकिमपुरा गांव के 27 वर्षीय विशाल मुकिमपुरा का जन्मदिन है। राजू जुलानी खेड़ा की तरह विशाल मुकीमपुर भी महज 17 साल की उम्र में इनसो के जरिए इनेलो से जुड़ गए थे। उनकी तीन पीढ़ियां देवीलाल परिवार के प्रति समर्पण की खुली कहानी बयान करती हैं।
2013 में इनसो के वर्कर से लेकर आज राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनने के 9 साल के सफर में विशाल मुकिमपुरा ने दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला के लिए हर मुकाम पर पसीना बहाने का काम किया है।
विशाल की तीन पीढ़ियां देवीलाल परिवार के प्रति समर्पित रही हैं। उसी परंपरा पर चलते हुए विशाल भी अजय सिंह चौटाला परिवार के प्रति दिल से जुड़े हुए हैं।
बात यह है कि जननायक देवीलाल, ओम प्रकाश चौटाला, अजय सिंह चौटाला और दुष्यंत चौटाला के लिए यह सौभाग्य की बात है कि उन्हें राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकीमपुरा जैसे जज्बाती और जनूनी वर्कर मिलते रहे हैं।

राजू और विशाल जैसे लोगों ने अपनी पूरी जिंदगी इस परिवार के लिए झोंक दी।
परिवार की सियासत की बागडोर संभाल रहे दुष्यंत चौटाला का यह “फर्ज” बनता है कि वह तन-मन-धन से समर्पित राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकीमपुरा जैसे वर्करों को नए सिर्फ दिल में जगह दें बल्कि उसके साथ-साथ उन्हें “मजबूत” करने का भी काम करें ताकि आने वाले वर्षों में ऐसे जज्बाती लोग उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर उन्हें सियासी “मजबूती” देने का “अटूट” काम कर सकें।
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

भूपेंद्र हुड्डा ने हरियाणा कांग्रेस पर कर लिया “कब्जा”

atalhind

कैथल के दंपती तरसेम गर्ग, सुशील गर्ग, अंजू गर्ग व रिंकू  मित्तल सहित चार पर  धोखाधड़ी का  केस

atalhind

935 करोड़ रुपये का गबन पिछले चार वर्षों के दौरान मनरेगा में हुआ  : रिपोर्ट

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL