AtalHind
कैथल (Kaithal)टॉप न्यूज़हरियाणा

राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकिमपुरा जैसे कार्यकर्ता  देवीलाल परिवार की सबसे बड़ी ताकत

राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकिमपुरा जैसे कार्यकर्ता  देवीलाल परिवार की सबसे बड़ी ताकत
चार चार पीढ़ियों ने देवीलाल परिवार की पार्टियों के लिए  जिंदगी खपाई

=अटल हिन्द ब्यूरो  ==
Advertisement
चंडीगढ़। जन नायक चौधरी देवी लाल ने वर्करों के साथ “दिल” का रिश्ता बनाने का जो “सिलसिला” शुरू किया था वह चार पीढ़ियों बाद दुष्यंत चौटाला भी “बखूबी” निभा रहे हैं।
जन नायक चौधरी देवी लाल, ओम प्रकाश चौटाला, अजय सिंह चौटाला और दुष्यंत चौटाला की सफलता के पीछे सबसे बड़ी “ताकत” चार पीढ़ियों से उनकी पार्टियों के लिए जिंदगी “खपाने” वाले वर्कर ही हैं।
पीढ़ी दर पीढ़ी देवीलाल परिवार की पार्टियों को अपने खून-पसीने से “सींचने” वाले वर्करों की “बदौलत” ही यह परिवार चार पीढ़ियों से लगातार बुलंदियों पर कायम है।
Advertisement
जन नायक चौधरी देवी लाल से लेकर दुष्यंत चौटाला तक सियासत के सफर में इस परिवार के लिए राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकीमपुरा जैसे लोग “बड़ी” मिसाल हैं। यह दोनों नाम देवीलाल परिवार की हर पीढ़ी में साथ निभाने वाले हजारों वर्करों के “प्रतीक” हैं।

कैथल जिले के राजू जुलानी खेड़ा ने अजय सिंह चौटाला को 17 साल की उम्र में अपना सियासी गुरु मान लिया था। राजू जुलानी खेड़ा देवीलाल परिवार के उन जज्बातों और जुनूनी वर्करों में शामिल हैं जिन्होंने अपने नेता के लिए बड़ी से बड़ी ताकत से “टकराने” में कभी एक पल की भी देरी नहीं की।
कैथल जिले में अजय सिंह चौटाला के लिए जयप्रकाश जेपी, रणदीप सुरजेवाला और रामपाल माजरा जैसे बड़े नेताओं के साथ टक्कर लेने में राजू जुलानी खेड़ा हमेशा तैयार रहे। अपने नेता के लिए राजू जुलानी खेड़ा ने कई मुकदमे भी झेले।
Advertisement
30 साल से लगातार राजू जुलानी खेड़ा अजय सिंह चौटाला के परिवार के लिए लगातार समर्पित भाव से जुड़े हुए हैं। काफी लोग राजू जुलानी खेड़ा को सनकी और गुस्सैल कहते हैं लेकिन इस एक वजह से उनके अजय सिंह चौटाला के परिवार के प्रति समर्पण पर कोई सवालिया निशान नहीं उठा सकता।
जब तक राजू खिलाने खेड़ा जैसे लोग अजय सिंह चौटाला के परिवार के साथ खड़े रहेंगे तब तक उनकी पार्टियां सियासी तौर पर मजबूत बनी रहेंगी।

आज कुरुक्षेत्र जिले के मुकिमपुरा गांव के 27 वर्षीय विशाल मुकिमपुरा का जन्मदिन है। राजू जुलानी खेड़ा की तरह विशाल मुकीमपुर भी महज 17 साल की उम्र में इनसो के जरिए इनेलो से जुड़ गए थे। उनकी तीन पीढ़ियां देवीलाल परिवार के प्रति समर्पण की खुली कहानी बयान करती हैं।
Advertisement
2013 में इनसो के वर्कर से लेकर आज राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनने के 9 साल के सफर में विशाल मुकिमपुरा ने दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला के लिए हर मुकाम पर पसीना बहाने का काम किया है।
विशाल की तीन पीढ़ियां देवीलाल परिवार के प्रति समर्पित रही हैं। उसी परंपरा पर चलते हुए विशाल भी अजय सिंह चौटाला परिवार के प्रति दिल से जुड़े हुए हैं।
बात यह है कि जननायक देवीलाल, ओम प्रकाश चौटाला, अजय सिंह चौटाला और दुष्यंत चौटाला के लिए यह सौभाग्य की बात है कि उन्हें राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकीमपुरा जैसे जज्बाती और जनूनी वर्कर मिलते रहे हैं।
Advertisement

राजू और विशाल जैसे लोगों ने अपनी पूरी जिंदगी इस परिवार के लिए झोंक दी।
परिवार की सियासत की बागडोर संभाल रहे दुष्यंत चौटाला का यह “फर्ज” बनता है कि वह तन-मन-धन से समर्पित राजू जुलानी खेड़ा और विशाल मुकीमपुरा जैसे वर्करों को नए सिर्फ दिल में जगह दें बल्कि उसके साथ-साथ उन्हें “मजबूत” करने का भी काम करें ताकि आने वाले वर्षों में ऐसे जज्बाती लोग उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर उन्हें सियासी “मजबूती” देने का “अटूट” काम कर सकें।
Advertisement

Related posts

सेल्फी पॉइंट के बाद यूजीसी ने विश्वविद्यालयों को प्रधानमंत्री का भाषण दिखाने का निर्देश दिया

editor

पत्रकार पर पुलिस हमले को लेकर प्रेस कौंसिल का हरियाणा सरकार को नोटिस

admin

चांदी की जरी के जामवानी लहंगे को तैयार करने में लगा 5 साल लंबा समय

editor

Leave a Comment

URL