AtalHind
अंतराष्ट्रीयटॉप न्यूज़हेल्थ

New कोरोना स्ट्रेन जेएन.1 से इंसानों को कितना खतरा है?भारत में क्या हैं हालात

New कोरोना स्ट्रेन जेएन.1 से इंसानों को कितना खतरा है?

भारत में क्या हैं हालात

WHO ने इसे बताया ‘वेरिएंट ऑफ इंटरेस्ट’

Advertisement
डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अदानोम गेब्रेयेसस. (एपी फाइल फोटो)

जिनेवा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना के उप-स्वरूप जेएन.1 को ‘वेरिएंट ऑफ इंटरेस्ट’ के रूप में वर्गीकृत किया है, लेकिन कहा है कि इससे सार्वजनिक स्वास्थ्य को ज्यादा खतरा नहीं है. जेएन.1 को पहले इसके मूल वंश BA.2.86 के एक भाग के रूप में रुचि के एक प्रकार के रूप में वर्गीकृत किया गया था.
डब्ल्यूएचओ ने कहा, “उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर, जेएन.1 द्वारा उत्पन्न अतिरिक्त वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य जोखिम को वर्तमान में कम माना गया है.” समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, एजेंसी ने कहा कि मौजूदा टीके जेएन.1 और कोविड-19 वायरस के अन्य प्रसारित वेरिएंट से होने वाली गंभीर बीमारी और मृत्यु से रक्षा करते हैं.

इससे पहले, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सदस्य देशों से मजबूत निगरानी और अनुक्रम साझाकरण जारी रखने का आग्रह करते हुए कहा था कि वायरस बदल रहा है और विकसित हो रहा है. विश्व स्वास्थ्य निकाय ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर कहा, “डॉ. मारिया वेन केरखोव श्वसन संबंधी बीमारियों #कोविड19 और जेएन.1 सबवेरिएंट में मौजूदा उछाल के बारे में बात करती हैं. WHO स्थिति का आकलन करना जारी रखे हुए है. इस छुट्टियों के मौसम में अपने परिवार और दोस्तों को सुरक्षित रखने के लिए डब्ल्यूएचओ की सार्वजनिक स्वास्थ्य सलाह का पालन करें.”

यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि एजेंसी के नवीनतम अनुमानों के अनुसार, 8 दिसंबर तक संयुक्त राज्य अमेरिका में सब-वेरिएंट जेएन.1 अनुमानित 15% से 29% मामलों का कारण बनता है. इसमें कहा गया है कि वर्तमान में इस बात का कोई सबूत नहीं है कि JN.1 वर्तमान में प्रसारित अन्य वेरिएंट की तुलना में सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक बढ़ा जोखिम पेश करता है और वैक्सीन का एक नई खुराक अमेरिकियों को वेरिएंट के खिलाफ सुरक्षित रख सकता है.

Advertisement

भारत में क्या हैं हालात
भारत में भी केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से कोविड-19 के मामलों में वृद्धि और जेएन.1 स्वरूप का पहला मामला सामने आने के बीच निरंतर निगरानी बनाए रखने को कहा. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव सुधांश पंत ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे एक पत्र में रेखांकित किया कि “केंद्र और राज्य सरकारों के बीच लगातार और सहयोगात्मक कार्यों के कारण हम (कोविड-19 के) मामलों की संख्या कम करने में सक्षम हुए.” उन्होंने कहा, “हालांकि, कोविड-19 वायरस का प्रकोप जारी है. इसलिए सार्वजनिक स्वास्थ्य चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए गति को बनाए रखना महत्वपूर्ण है.”

विवरण में कहा गया है कि जेएन.1 (बीए.2.86.1.1) 2023 के अंत में उभरा और यह सार्स सीओवी-2 के बीए.2.86 (पिरोला) समूह से संबंधित है. इसमें कहा गया है कि अमेरिका, चीन, सिंगापुर और भारत में जेएन.1 स्वरूप के मामले आए हैं. चीन से उप स्वरूप के सात मामले सामने आए हैं. अन्य देशों में इसकी मौजूदगी की पुष्टि के लिए ज्यादा आनुवंशिक अनुक्रमण डेटा की आवश्यकता है.
विवरण में कहा गया कि सामान्य तौर पर, कोविड-19 के लक्षण विभिन्न स्वरूप के मामलों में समान होते हैं. जेएन.1 से बीमारी की गंभीरता बढ़ने का भी कोई संकेत नहीं मिला है. विवरण में कहा गया कि इस समय, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि जेएन.1 वर्तमान में प्रसारित अन्य स्वरूप की तुलना में सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए अधिक जोखिम प्रस्तुत करता है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

BJP पार्टी प्रवक्ता की भूमिका में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी !

editor

भारत में साल 2019 में कैंसर के लगभग 12 लाख नए मामले और 9.3 लाख मौतें हुई : अध्ययन

editor

नरवाना में हुआ हरियाणा का अबतक का सबसे बड़ा संगीत कार्यक्रम।

atalhind

Leave a Comment

URL