AtalHind
कैथलटॉप न्यूज़साहित्य/संस्कृति

श्री तीर्थ मटौर को सूची में शामिल करने के लिए सर्वेक्षण के लिए धाम परिसर पहुंची कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड की टीम

श्री तीर्थ मटौर को सूची में शामिल करने के लिए सर्वेक्षण के लिए धाम परिसर पहुंची कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड की टीम
मटौर स्थित प्राचीन श्री तीर्थ का महाभारत काल में भी मिलता है जिक्र : राणा
कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड मंदिर परिसर को अपनी सूची में लेने के लिए लगातार प्रयासरत :
Kurukshetra Development Board team reached Dham premises for survey to include Shri Teerth Mataur in the list
कलायत(Atal Hind/Tarsem Singh
स्थानीय श्रद्धालुओं द्वारा श्री तीर्थ मटौर को प्राचीन तीर्थ की श्रेणी में लाने के लिए किए जा रहे प्रयासों के बाद शनिवार को कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड की टीम पूर्व संग्रहालय अध्यक्ष एवं श्री कृष्ण संग्रहालय कुरुक्षेत्र से राजेंद्र सिंह राणा , बलवान सिंह इंचार्ज श्री कृष्ण संग्रहालय कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड सदस्यों के साथ श्री तीर्थ मटौर पहुंचे। मंदिर परिसर में विकास बोर्ड की टीम द्वारा तीर्थ धाम के बारे में जानकारी जुटाने के साथ साथ मंदिर परिसर में तीर्थ धाम में बने घाट का बारीकी से निरीक्षण किया गया इसके बाद घाट में लगी ईटों के नमूने एकत्रित किए गए इस दौरान मंदिर महंत सुमेर दास द्वारा प्राचीन श्री तीर्थ मटौर धाम की लोकप्रियता के बारे विकास बोर्ड के सदस्यों को अवगत करवाया गया और मौजूद श्रद्धालुओं द्वारा जल्द से जल्द श्री तीर्थ मटौर धाम को क्षेत्र का विकास बोर्ड की सूची में शामिल किए जाने का आग्रह किया गया इस दौरान कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड से शशिकांत बलवंत सिंह व कलायत नगरपालिका चेयर पर्सन प्रतिनिधि धर्मपाल धीमान राजू कौशिक भगवानदास बंसल प्रमोद बंसल बी ईओ राम चंद्र मौण  सतपाल शर्मा मास्टर महावीर डॉ मदन आदि मौजूद रहे।
सर्वेक्षण में श्री तीर्थ मटौर धाम प्राचीन ऐतिहासिक और अद्भुत परिसर: राणा
 राजेंद्र सिंह राणा ने बताया कि  मटौर स्थित प्राचीन श्री तीर्थ का जिक्र महाभारत काल में भी मिलता है तीर्थ धाम परिसर में प्राचीन शिवलिंग और श्री राधा कृष्ण की मूर्तियों के साथ भगवान शालिग्राम स्थापित हैं जो अद्भुत है। और श्री तीर्थ घाट सरोवर में जो ईंटे लगाई गई है वह राजपूत कालीन है जो 1300 से 1400 वर्ष पूर्व की है इसी कॉल की एक मूर्ति भी मिली है इससे यह तो स्पष्ट है कि इस मंदिर की ऐतिहासिकता 1300 वर्ष से भी पुरानी है अगर मंदिर परिसर में और भी खुदाई की जाती है तो इससे पहले के काल का भी सत्यापन हो सकता है प्रथम चरण के सर्वेक्षण में श्री तीर्थ मटौर धाम प्राचीन ऐतिहासिक और अद्भुत परिसर है और कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड मंदिर परिसर को अपनी सूची में लेने के लिए लगातार प्रयासरत है जल्द ही दस्तावेजी करण और पूरी समीक्षा कर श्री तीर्थ मटौर को सूची में लेने के लिए सरकार के पास अनुमति के लिए भेजा जाएगा
Advertisement

Related posts

पंजाब-हरियाणा सीमा पर ‘युद्ध’ जैसे हालात, बॉर्डर सील- कई जिलों में इंटरनेट रहेगा बंद

editor

गंगा अगर साफ़ नहीं, तो ज़िम्मेदारी किसकी है

admin

अटल हिन्द के विशेष संवाददाता फतह सिंह उजाला से राव इंद्रजीत सिंह की हुई करनाल करोड़ो रूपये भ्रष्टाचार पर खुली बातचीत

atalhind

Leave a Comment

URL