Atal hind
राजनीति हरियाणा

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश द्वारा कानून का दुरुपयोग करने पर की गई टिप्पणी बेहद गंभीर: अभय सिंह चौटाला

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश द्वारा कानून का दुरुपयोग करने पर की गई टिप्पणी बेहद गंभीर: अभय सिंह चौटाला
अपने हकों के लिए विरोध करना किसानों का संवैधानिक अधिकार
आज देश और प्रदेश के हालात बेहद खराब
समय आ गया है जब केंद्र की सरकार को अन्नदाता की सभी मांगों को मान कर आंदोलन को समाप्त कर देना चाहिए
चंडीगढ़, 14 जुलाई: पूर्व नेता प्रतिपक्ष एवं इंडियन नेशनल लोकदल के प्रधान महासचिव अभय सिंह चौटाला ने बुधवार को चंडीगढ़ से एक बयान जारी कर सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश डी वाय चन्द्रचुड़ की सरकारों द्वारा आंदोलनकारियों पर कानून का दुरुपयोग करने पर की गई टिप्पणी का समर्थन किया जिसमें न्यायाधीश ने कहा कि ‘‘एक दिन के लिए भी स्वतंत्रता से वंचित करना बहुत अधिक है और नागरिकों के उत्पीडऩ के लिए आपराधिक कानूनों का दुरुपयोग नहीं किया जाना चाहिए। आगे बोलते हुए न्यायाधीश ने कहा कि अदालत को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे बचाव की पहली पंक्ति बनी रहे’’। इनेलो नेता ने न्यायाधीश द्वारा की गई बेबाक टिप्पणी को बेहद गंभीर बताया और कहा कि जब देश की सर्वोच्च अदालत का न्यायाधीश कनूनों के दुरुपयोग पर अपनी चिंता जता रहे हैं तो यह समझना बेहद जरूरी है कि आज देश और प्रदेश के हालात बेहद खराब हैं।
अभय सिंह चौटाला ने सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश की टिप्पणी को किसानों पर किए गए आपराधिक मुकद्दमों से जोड़ते हुए कहा कि अपने हकों के लिए विरोध करना किसानों का संवैधानिक अधिकार है और प्रदेश का किसान कोई पेशेवर अपराधी नहीं है कि उन पर हत्या के प्रयास जैसे गंभीर एक्ट के तहत आपराधिक मुकद्दमे दर्ज किए जाएं। भाजपा सरकार आंदोलन के दौरान किसानों पर दर्ज किए गए सभी मुकद्दमे तुरंत वापिस ले। केंद्र की भाजपा सरकार किसानों से बातचीत कर तीनों काले कृषि कानूनों को खत्म करे और अन्नदाता की जायज मांग को पूरा कर उनकी सकुशल घर वापसी सुनिश्चित करे।
इनेलो नेता ने कहा कि किसान बेहद शांतिप्रिय कौम है और कभी किसी प्रकार की अराजकता नहीं चाहता। हमारा अन्नदाता हमेशा विपरित परिस्थितियों में कड़ी मेहनत से धरती का सीना चीर कर अन्न पैदा करता है और चाहे अमीर हो या गरीब सभी का पेट भरता है। आज यह बेहद दुख और पीड़ा देता है कि अन्नदाता को अपने हकों के लिए आंदोलन करते हुए सात महीने से उपर हो गए हैं और इस दौरान 600 से अधिक किसान शहीद हो गए हैं लेकिन प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री ने एक बार भी अफसोस नहीं जताया है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है जब केंद्र की सरकार को अन्नदाता की सभी मांगों को मान कर आंदोलन को समाप्त कर देना चाहिए नहीं तो आने वाले समय में प्रदेश ही नहीं पूरे देश के लोग किसानों के पक्ष में खड़े होंगे और भाजपा को सत्ता से बाहर कर देंगे।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

टायर बदल रहा था चालक, ट्राले की टक्कर से दर्दनाक मौत

admin

66 रूपए खर्च कर नेताओं को यह समझाओ की सविधान किसी सरकार को  नागरिकों के स्वास्थ्य के साथ लापरवाही करने की अनुमति नहीं देता 

admin

मारूति का प्लांट हरियाणा से कहीं नहीं जा रहा- मनोहर लाल

admin

Leave a Comment

URL