AtalHind
टॉप न्यूज़राष्ट्रीयलेखविचार /लेख /साक्षात्कार

Narendra Modi-एनडीए की नरेंद्र मोदी सरकार में मुसलमानों पर हमलों का नया दौर शुरू

नरेंद्र मोदी की तीसरी पारी में मुसलमानों पर हमलों का नया दौर शुरू
भारत में लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद आपराधिक मामलों में तेजी आई है, लेकिन यह मानना गलत होगा कि चुनाव अभियान के दौरान हिंसा कम हुई थी. यह हिंसा भाषा और भाषणों के माध्यम से हुई, जिसे प्रधानमंत्री तथा भाजपा के अन्य बड़े नेता अंजाम दे रहे थे.
Advertisement
BY—श्रुति शर्मा
लोकसभा चुनावों में नरेंद्र मोदी की भाजपा सरकार को बहुमत न मिलने के बाद विश्लेषकों का मानना था कि अब उनके उग्र समर्थक कमजोर होंगे और मुसलमानों पर हमले कम होंगे. लेकिन ऐसा दिखाई नहीं दे रहा है. चुनाव परिणाम आने के बाद देश भर में मुसलमानों पर हो रहे हमलों में वृद्धि नज़र आ रही है. खासकर, अगर चुनाव अभियान का आकलन किया जाए तो उन दो महीनों में हिंसा में गिरावट देखी गई थी.
Advertisement
द वायर हिंदी ने वर्ष 2024 को तीन हिस्सों में विभाजित कर मुसलमानों पर हुई हिंसा का अध्ययन किया:
Advertisement
जनवरी-मार्च
अप्रैल-मई
4 जून-20 जून
Advertisement
4 जून से लेकर 20 जून के बीच घटी घटनाएं
Advertisement
छत्तीसगढ़ में गोरक्षकों ने तीन मुस्लिम युवकों को मार डाला
छत्तीसगढ़ के रायपुर में 7 जून को दो मुसलमानों- चांद मियां खान (23) और गुड्डू खान (35) को गोरक्षकों ने पीट-पीट कर मार डाला, जब वे एक ट्रक में भैंसों को लेकर यूपी के सहारनपुर से ओडिशा जा रहे थे. उनके साथी सद्दाम कुरेशी (23) हमले में बुरी तरह घायल हुए और अस्पताल में 10 दिन बाद अस्पताल में मौत हो गई.attacks on Muslims
चांद मियां और सद्दाम सहारनपुर के रहने वाले थे और गुड्डू खान शामली के.
Advertisement
Advertisement
चोरी के संदेह में एक व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या
अलीगढ़ में 35 वर्षीय व्यक्ति मुहम्मद फरीद उर्फ़ औरंगज़ेब को कथित तौर पर चोरी के आरोप में भीड़ ने पीट पीटकर मार डाला. पुलिस के अनुसार फरीद पर उस समय हमला किया गया जब उसे कथित तौर पर एक कपड़ा व्यापारी के घर से बाहर निकलते देखा गया. इस मामले में चार लोग गिरफ्तार हुए हैं.
Advertisement
Advertisement

हिमाचल प्रदेश में बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों का मुस्लिम विक्रेता पर हमला
सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में मुहम्मद उमर कुरैशी नाम के एक शख्स ने बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के लोगों पर उनके साथ मारपीट का आरोप लगाया और कहा कि उन लोगों ने उनसे पैसे लूटे और जय श्री राम बोलने को मजबूर किया.
Advertisement
पीड़ित यूपी के मेरठ के रहने वाले और रेहड़ी लगाने वाले कुरैशी ने बताया कि हमलावरों ने उन्हें पीटते हुए कहा, ‘अब हमारी सरकार आ गई है. मुसलमानों को अब अस्तित्व में नहीं रहने दिया जाएगा.’
कुरैशी का आरोप है कि शिकायत के बावजूद पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की.
Advertisement
Advertisement
तेलंगाना के मेडक जिले में मदरसे पर दक्षिणपंथी भीड़ का हमला
खबरों के मुताबिक, मिन्हाज उल उलूम मदरसा प्रबंधन द्वारा बकरीद पर मवेशी खरीदने के बाद दक्षिणपंथी संगठनों के सदस्यों ने मदरसे पर हमला कर दिया. इसमें कई लोगों को चोटें आईं और उन्हें इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया. बाद में भीड़ ने अस्पताल पर भी हमला और पथराव किया.
Advertisement
Advertisement
मध्य प्रदेश में फ्रिज में बीफ मिलने के बाद पुलिस ने घरों को किया जमींदोज़
एमपी के एक पुलिस अधिकारी के अनुसार अवैध गोमांस व्यापार के खिलाफ कार्रवाई के तहत आदिवासी बहुल मंडला में 11 लोगों द्वारा ‘सरकारी जमीन’ पर बनाए गए घरों को ध्वस्त कर दिया गया.
Advertisement
मंडला के पुलिस अधीक्षक ने पीटीआई को बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि नैनपुर के भैनवाही क्षेत्र में बड़ी संख्या में गायों को काटने के लिए बंधक बनाकर रखा गया है, जिसके बाद कार्रवाई की गई. उन्होंने बताया कि सभी 11 आरोपियों के घरों के फ्रिज से गोमांस बरामद किया गया था.
Advertisement
हिमाचल प्रदेश में पुलिस की उपस्थिति में हिंदुत्ववादी भीड़ ने मुस्लिम की दुकान में लूटपाट की
Advertisement
19 जून को हिमाचल प्रदेश के नाहन शहर में एक मुस्लिम के कपड़े की दुकान में इसलिए तोड़फोड़ और लूटपाट की क्योंकि उस शख्स ने अपने वॉट्सऐप स्टेटस पर पशु बलि की तस्वीरें पोस्ट की थीं. उग्र भीड़ का दावा था कि यह गोमांस है.
रिपोर्ट के अनुसार, घटना के दौरान पुलिस मूकदर्शक बनकर खड़ी रहीम जब सैकड़ों की संख्या में मौजूद भीड़ ‘एक ही नारा, एक ही नाम, जय श्री राम’ जैसे नारे लगा रही थी.
कई वर्षों से नाहन में कारोबार कर रहे दुकान के मालिक जावेद मूल रूप से सहारनपुर के रहने वाले हैं.
Advertisement
गौरतलब है कि इसके बाद पुलिस की पड़ताल में साबित हुआ कि वह तस्वीरें गाय की नहीं थीं.
Advertisement

पश्चिम बंगाल में भीड़ ने मुस्लिम युवक को मंदिर के पास मांस फेंकने के आरोप में पीटा

17 जून को ईद के दिन पश्चिम बंगाल के बीरहुम जिले के नोआपोरा गांव में भीड़ ने एक मुस्लिम युवक, तुफान सेख (19), को मंदिर के पास मांस फेंकने के संदेह में खंभे से बांध कर बेरहमी से पीटा.
Advertisement
मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गईऔर 9-10 लोगों की गिरफ़्तारी हुई.
पीड़ित के बड़े भाई ने बताया कि सेख बाइक से कुर्बानी का हिस्सा बांटने के लिए एक रिश्तेदार के घर जा रहे थे जब थैले से मीट का पैकेट सड़क पर गिर गया.जब उन्होंने इसे वापस लाने के लिए यू-टर्न लिया तभी भीड़ ने उन्हें घेर लिया और जानबूझकर मंदिर के सामने मांस फेंकने का आरोप लगाया.
Advertisement
Advertisement
इन मामलों के अलावा मुसलमानों पर अत्याचार के पिछले एक महीने के अंदर कई अन्य मामले सामने आए.
लोकसभा चुनावों के परिणाम के बाद अचानक मुसलमानों के खिलाफ हिंसा में वृद्धि होने के कारणों के बारे में मुस्लिमों पर होने वाले जुल्मों का रिकॉर्ड रखने वाली वेबसाइट हिंदुत्व वॉच के संस्थापक रक़ीब नाइक ने कहा कि मोदी सरकार के कमज़ोर होने के कारण मुसलमानों पर होने वाले जुल्मों में गिरावट आएगी इसकी संभावना बहुत कम है. ऐसे अपराध तभी कम होंगे जब सारे राज्यों से भी भाजपा का सफाया होगा.
Advertisement
Advertisement
उन्होंने जोड़ा कि ऐसा होने की संभावना कम है क्योंकि मुसलमानों के खिलाफ नफरत समाज की जड़ तक फैल चुकी है और इसे ठीक होने में कितना वक़्त लगेगा ये कहा नहीं जा सकता.
अपराधों में अचानक हुई वृद्धि पर उन्होंने कहा, ‘भाजपा के चुनाव में अच्छा प्रदर्शन न करने का जिम्मेदार मुसलमानों को ठहराया जा रहा है. एक तरफ तो हिंदुत्ववादी कहते हैं कि उन्हें मुसलमानों का वोट नहीं चाहिए, वहीं दूसरी और भाजपा को वोट न देने के लिए उनको प्रताड़ित भी करते हैं.’
Advertisement
उनका यह भी मानना है कि पीएम मोदी जैसे बड़े नेता द्वारा चुनाव प्रचार के दौरान की गई सांप्रदायिक भाषणबाज़ी अत्याचार करने वालों के हौसले बुलंद करती है.
Advertisement
अप्रैल तथा मई में मुसलमानों के खिलाफ अपराध के कम मामले
द वायर हिंदी ने इन दो महीनों में प्रकाशित हुई खबरों के परीक्षण में पाया कि आम चुनावों के दौरान अप्रैल-मई में देश भर में हुए मुसलमानों पर हमले अपेक्षाकृत कम हुए थे.
Advertisement
कैंपस में हिंदू दोस्तों के साथ घूमते मुस्लिम छात्र को पीटा गया
Advertisement
न्यूज़लॉन्ड्री की रिपोर्ट के मुताबिक, 7 अप्रैल को सवित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय के प्रथम वर्ष के छात्र जुनैद जमादार और उनके साथ घूम रहे लोगों (एक पुरुष और दो महिला) को कुछ गुंडों ने रोका और उनसे उनका पहचान पत्र दिखाने को कहा. पहचान पत्र देखने के बाद उन गुंडों ने जुनैद की ओर रुख किया.
जुनैद ने बताया कि उन्होंने पूछा कि क्या मैं मुस्लिम हूं? जब मैंने हां कहा तो उन्होंने पूछा ‘तुम यहां हिंदू लड़कियों के साथ क्या कर रहे हो?’ लव जिहाद करने आए हो?’ इससे पहले कि जुनैद कुछ जवाब दे पाते, उन लोगों ने उन्हें पीटना शुरू कर दिया और कहा कि कॉलेज छोड़ दो नहीं तो जान से मार डालेंगे.
दावा है कि वे लोग विहिप सदस्य थे, जिन्होंने जुनैद के साथ मौजूद दोनों लड़कियों को मुस्लिम लड़कों से दूर रहने को लेकर धमकाया भी था..
Advertisement
Advertisement

पशु व्यापारी के साथ मारपीट
ओडिशा के बाबालेश्वर में बंदे नवाज़ नाम के एक शख्स पर विजयपुरा से बाबालेश्वर मवेशियों को ले जाने दौरान बजरंग दल के 10-15 सदस्यों ने  गौ तस्करी के आरोप में हमला कर बुरी तरह घायल कर दिया.
Advertisement
हिंदुत्व वेबसाइट द्वारा निशाना बनाए जाने के बाद मुंबई की प्रिंसिपल बर्खास्त
Advertisement
मुंबई की एक निजी स्कूल की प्रिंसिपल परवीन शेख़ को फिलिस्तीन के समर्थन में एक पोस्ट लाइक करने के कारण स्कूल से निकाल दिया गया.
24 अप्रैल को ऑप इंडिया नाम की एक वेबसाइट ने शेख के खिलाफ एक स्टोरी की, जिसमे शेख के सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर लाइक किए गए पोस्ट के आधार पर ‘हमास-समर्थक’, ‘हिंदू-विरोधी’ और ‘इस्लामवादी उमर खालिद’ का समर्थक होने का आरोप लगाया था.
ऑप इंडिया ने सोशल मीडिया पर स्कूल प्रिंसिपल के खिलाफ कैंपेन भी चलाया, जिसके बाद स्कूल प्रशासन ने उन्हें स्कूल से निकाल दिया.
Advertisement
Advertisement

गुजरात में गौरक्षकों द्वारा मुस्लिम व्यक्ति की लिंचिंग
22 मई को गुजरात के बनासकांठा में एक ड्राइवर के साथ भैंसों को ले जा रहे मिश्री खान बलूच नाम के एक मुस्लिम व्यक्ति को गोरक्षकों ने कथित तौर पर पीट-पीट कर मार डाला.
बलूच के भाई ने कहा कि गौरक्षकों ने गाड़ी का पीछा किया और रोककर दोनों 2 लाख रुपये मांगे और उन्हें पीटना शुरू कर दिया, ड्राइवर किसी तरह भागने में सफल रहा लेकिन भीड़ ने बलूच को बेरहमी से पीटा और उनकी मौत हो गई.
Advertisement
रक़ीब नाइक के अनुसार, चुनावों के दौरान हिंसा में गिरावट आने का सबसे अहम कारण यह रहा कि इस दौरान हिंदुत्वादी संगठन, जैसे कि बजरंग दल, विहिप तथा अन्य चुनावों में व्यस्त थे. एक कारण यह भी हो सकता है कि चुनावों के दौरान पूरे देश भर में आचार संहिता लागू होता है, इस दौरान अपराध कर पकड़े जाने की  संभावना ज्यादा होती है, इसके डर से भी हिंसा के मामलों में गिरावट दर्ज की गई.
Advertisement
जनवरी से मार्च तक
Advertisement
जनवरी- फरवरी के महीने में देश भर में मुसलमानों पर अत्याचार के कई मामले सामने आए. कई ऐसे मामले सामने आए जहां पर मुसलमानों के साथ पुलिस द्वारा अत्याचार किए गए.
Advertisement
बदायूं में गो हत्या के संदेह में पुलिस ने मुस्लिम युवक को प्रताड़ित किया
यूपी के बदायूं शहर में एक चौकी प्रभारी समेत पांच पुलिसकर्मी पर गोहत्या के आरोपी एक मुस्लिम युवक के साथ कथित तौर पर मारपीट करने का आरोप लगा.बाद में ख़बरों से पता चला कि पुलिस ने पीड़ित को दूसरा व्यक्ति समझकर उठाया था.
Advertisement
22 वर्षीय पीड़ित की मां ने आरोप लगाया कि एक सब-इंस्पेक्टर के नेतृत्व में पुलिस ने उनके बेटे के साथ अमानवीय व्यवहार किया, जिसमें शरीर के संवेदनशील हिस्से में छड़ी डालना और बार-बार बिजली के झटके देना शामिल था.
Advertisement

मुंबई के मीरा रोड में मुसलमानों की दुकानों को ध्वस्त किया गया
Advertisement
21 और 22 जनवरी को राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा को लेकर मनाए जा रहे जश्न के दौरान मुंबई से सटे मीरा रोड और राज्य के कई अन्य हिस्सों में मुस्लिम विरोधी नारे लगाए गए और झड़पें हुईं. पुलिस ने कथित तौर पर हिंदुओं की एक रैली को मुस्लिम इलाके में प्रवेश करने से रोकने की कोशिश की, जिससे दोनों पक्षों में तनाव और झड़पें हुईं. रैली में भड़काऊ और नरसंहार के नारे लगे थे.
हिंसा के बाद मीरा भयंदर नगर निगम (एमबीएमसी) ने मीरा रोड के नया नगर में कथित अवैध संरचनाओं, जो मुसलमानों के स्वामित्व वाली थीं, के खिलाफ बुलडोज़र कार्रवाई की.
Advertisement
मुस्लिम युवक को नग्न कर घुमाया, प्राइवेट पार्ट में आग लगाने की कोशिश
Advertisement
तेलंगाना के कौमुदी में सोशल मीडिया पर कथित तौर पर भगवा झंडे का अपमान करने वाली रील पोस्ट करने पर एक मुस्लिम युवक की पिटाई की गई और उसे नग्न कर घुमाया गया. आरोप है कि उसके प्राइवेट पार्ट्स को जलाने की भी कोशिश की गई.
Advertisement

पुलिस ने मुस्लिम युवक की जान ली, एनकाउंटर बताया
16 जनवरी को मुजफ्फरनगर के खतौली निवासी एक मुस्लिम व्यक्ति को पुलिस ने कथित तौर पर मार डाला. पुलिस का कहना था कि वह एक चोर था और एक मुठभेड़ में मारा गया, जबकि परिवार का कहना है कि उसका चोरी से कोई लेना-देना नहीं था और उसकी बेरहमी से हत्या हुई.
Advertisement
घटना तब हुई जब 23 वर्षीय मतीन अपने ठेले के लिए सब्जियां खरीदने के लिए निकले थे. परिवार के मुताबिक,  दोपहर में उन्हें मतीन ने एक अज्ञात नंबर से फोन  कर कहा कि उन्हें पुलिस ने गोली मार दी है और वे मेडिकल हॉस्पिटल मेरठ में हैं. अस्पताल पहुंचने पर परिजनों को मतीन गंभीर रूप से घायल मिला, जो पुलिस वालों से  घिरा हुआ था. पुलिस ने उन्हें मतीन से मिलने नहीं दिया और उसने दम तोड़ दिया.
Advertisement

हल्द्वानी: मदरसे और मस्जिद में तोड़फोड़ के बाद छह मुसलमानों की मौत
उत्तराखंड के हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके में एक मदरसे और मस्जिद पर बुलडोज़र कार्रवाई के बाद प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हुई झड़प के बीच के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा जारी किए गए शूट एट साइट के आदेश के बाद छह लोगों की गोली लगने से मौत हुई.
Advertisement
बुलडोज़र कार्रवाई के बाद से इलाके में बवाल हुआ था और रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस ने लोगों को गोली मारने के लिए मशीनगनों का इस्तेमाल किया.स्थानीय लोगों के मुताबिक़ हिंदू भीड़ भी पुलिस के साथ शामिल हुई और हिंसक घटनाओं को अंजाम दिया.
रक़ीब नाइक ने उस समय मुसलमानों पर हुई हिंसा को राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा समारोह से जोड़ा. उन्होंने कहा, ‘जब भी कोई इस तरह की धार्मिक गतिविधियां होती हैं तब उस समय धर्म के आधार पर होने वाली हिंसा में बढ़ोतरी देखी जाती है.
‘एक और कारण यह हो सकता है कि इन महीनों के दौरान लोकसभा के चुनावों की तैयारियां चरम पर थीं और समुदायों के बीच माहौल बिगाड़कर कुछ राजनीतिक पार्टियां अपनी रोटी सेंकती हैं. इसलिए मुसलमानों के खिलाफ हिंसा में बढ़ोतरी को चुनावों से भी जोड़कर देख सकते हैं.’
Advertisement
न्यूज़ वेबसाइट मुस्लिम मिरर ने मार्च में एक रिपोर्ट जारी कि थी, जिसमें उक्त समारोह के बाद देश भर में मुसलमानों के खिलाफ हिंसा के मामलों में बढ़ोतरी का जिक्र किया गया था.
Advertisement
हालांकि अभी तक कोई आधिकारिक आंकड़े मौजूद नहीं हैं, लेकिन अखबारों और न्यूज़ पोर्टल्स पर उपलब्ध खबरें इंगित करती हैं कि जनवरी से लेकर मार्च तक मुसलमानों के खिलाफ हिंसा के ढेरों मामले हुए. अप्रैल और मई में ऐसे मामलों में गिरावट आई और जून के महीने में संख्या तेज़ी से बढ़ती दिखी.
Advertisement
दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अपूर्वानंद का कहना है कि चुनाव के दौरान हिंसक गतिविधियों को अंजाम देने वाले लोग व्यस्त थे, चुनाव खत्म होने के बाद वो अपनी स्वाभाविक गतिविधियों में फिर से जुड़ गए, जिसके बाद से हिंसा के मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की गई.
Advertisement
चुनावों के दौरान कम हिंसा होने के बारे में उन्होंने कहा, ‘हमें यह नहीं मानना चाहिए कि हिंसा कम हुई, चुनावों के दौरान हिंसा दूसरे ढंग से हुई. और यह हिंसा प्रधानमंत्री तथा भाजपा के अन्य बड़े नेता कर रहे थे, भाषा के माध्यम से. वो लोग मुसलमानों के विरोध में खुलकर भड़काऊ भाषण दे रहे थे, ये भी एक प्रकार की हिंसा ही है.’
उन्होंने जोड़ा कि आने वाले समय में मुसलमानों के खिलाफ हिंसा के मामलों में बढ़ोतरी होगी. क्योंकि भाजपा समर्थकों को यह लगता है कि मुसलमानों ने भाजपा को कमजोर किया है, इसलिए उन्हें सजा दी जाएगी.
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Related posts

सिस्टम को नहीं पता उनका एनकाउंटर कैसे करे और किस जेल में डाल दे

admin

पटौदी सब्जी मंडी में लाठी डंडों से लैस बदमाशों का तांडव 

editor

कैप्टन यादव ने इंद्रजीत को घेरा पूर्व मंत्री अजय का सवाल… इससे बड़ा थाली में छेद क्या होगा !

admin

Leave a Comment

URL