AtalHind
टॉप न्यूज़ हरियाणा

हरियाणा में 2 छोटी बच्चियां कहाँ जिन्दा जली ,कहाँ आग ने करीब 100 से ज्यादा झोंपड़ियों को राख में बदला,नरवाना और जाखल में भी आग का रौद्र रूप देखने को मिला 

हरियाणा में 2 छोटी बच्चियां कहाँ जिन्दा जली ,कहाँ आग ने करीब 100 से ज्यादा झोंपड़ियों को राख में बदला,नरवाना और जाखल में भी आग का रौद्र रूप देखने को मिला

जिन्दा जलीं दो बच्चियां, कई पशुओं की मौत
शाहबाद (Atal Hind) शाहबाद के गांव रुप नगर की माया कॉलोनी में मंगलवार दोपहर एक झुग्गी में आग लग गई। झुग्गी में मौजूद दो बच्चियों की आग में जलने से मौत हो गई, इनमें से एक बच्ची 4 साल की थी व एक बच्ची 10 वर्ष की थी। वही लगभग 20 बकरियां भी आग की भेंट चढ़ गई। आग लगने की सूचना मिलते ही गांव में हड़कंप मच गया। ग्रामीणों ने पुलिस व फायर ब्रिगेड को सूचित किया। फायर ब्रिगेड की गाड़ी ने मौके पर पहुंच कर आग पर काबू पाया। फिलहाल आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है।थाना प्रभारी राकेश कुमार और उप मंडल अधिकारी कपिल शर्मा मौके पर पहुंचे। दो फायर ब्रिगेड की गाड़ियों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया, लेकिन दोनों बच्चियों को नहीं बचाया जा सका। लड़कियों की माता लक्ष्मी ने बताया कि उसके तीनों बच्चे कॉलोनी में बनी झोपड़ी में थे। वह और उसका पति काम पर गए हुए थे। पुलिस तथ्य जुटाने की कोशिश कर रही है। दोनों लड़कियों को पोस्टमार्टम करवाने के लिए एलएनजेपी अस्पताल कुरुक्षेत्र भेजा गया है। वही दोंनों बच्चियों की मौत के बाद से मां का रो-रोकर कर बुरा हाल है। ग्रामीण मां को ढांढस बंधाने में लगे है।
सैकड़ों झुग्गियां बसी, यहां लगी आग… मानेसर नगर निगम दे जवाब !
Atal Hind/फतह सिंह उजाला
गुरुग्राम । जिला गुरुग्राम के दूसरे और हरियाणा के 11वें नगर निगम मानेसर के सेक्टर 6 के इलाके में सैकड़ों झुग्गियों में रहने वाले गरीब लोगों के लिए मंगलवार अमंगल साबित हुआ है । सोमवार-मंगलवार मध्य रात्रि को तेज हवा और आंधी के बीच अचानक आइएमटी मानेसर नगर निगम के सेक्टर 6 में गांव काकरोला इलाके की झुग्गी बस्ती में आग भड़क गई । आग इतनी तेजी से और भयंकर तरीके से भड़कती चली गई कि आसमान आग की लपटों से लाल हो गया । सेक्टर 6 में लगी आग की लपटें सेक्टर 9 और 10 तक रात के समय दूर से ही दिखाई दे रही थी । आग क्यों और कैसे लगी ? इसका तत्काल पता नहीं लग सका है ।
लेकिन लाख टके का सवाल यह है कि करीब 20-25 एकड़ क्षेत्रफल में झुग्गियों में लगी का मानेसर नगर निगम को ही देना होगा इसका जवाब ! हरियाणा के मानचित्र पर औद्योगिक नगरी के रूप में स्थापित मानेसर नगर निगम के दायरे में ही आखिर इतनी बड़ी संख्या में झुग्गियां कब और कैसे बनती रही, इसकी कानो कान किसी को भनक तक नहीं लगी या फिर मानेसर नगर निगम प्रशासन और अधिकारी अपनी आंखें ही बंद किए रहे। आग को बुझाने के लिए आसपास के करीब आधा दर्जन जिलों के साथ ही एक दर्जन प्राइवेट सेक्टर की फायर ब्रिगेड गाड़ियों की मदद ली गई । इसी बात से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि आग कितनी भयंकर और विकराल रही होगी ।

जानकारी के मुताबिक सोमवार की रात करीब 10 बजे अचानक लगी आग पर मंगलवार सुबह 6 बजे काबू पाया जा सका। लेकिन इसके बावजूद भी झुग्गी बस्ती में जो कबाड़ इत्यादि पड़ा हुआ था, उसमें से धुएं के गुबार यही चुगली कर रहे थे कि आग अभी पूरी तरह से बुझ नहीं सकी है । इस भयंकर आग की चपेट में आने से एक महिला और एक कुत्ते की मौत हो गई । वहीं करीब आधा दर्जन लोग आग की चपेट में आने के बाद उपचाराधीन बताए गए हैं । आंधी और तेज हवा के बीच अचानक लगी आग और अधिक भड़कने का कारण झुग्गियों में रहने वाले लोगों के द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले छोटे गैस के सिलेंडर आग के कारण जलने और फटने बताए गए हैं। कथित रूप से गैस के छोटे सिलेंडर फटने के कारण आग और भी अधिक तेजी से फैलती चली गई । जैसे ही शासन-प्रशासन और अग्निशमन विभाग को मानेसर नगर निगम इलाके के सेक्टर 6 में आग लगने की जानकारी मिली तो सामान्य आग मानकर मौके पर पहुंचे। दमकल विभाग के कर्मचारियों के पांव तले जमीन खिसक गई , जब उन्होंने सुलगती आग का विकराल रूप देखा । इसके बाद में आसपास के रेवाड़ी झज्जर फरीदाबाद पलवल अन्य जिलों के फायर ब्रिगेड विभाग से संपर्क किया गया । वही बड़े प्राइवेट सेक्टर के औद्योगिक प्रतिष्ठानों से भी उनकी दमकल गाड़ियां आग पर काबू पाने के लिए मंगवाई गई।
गुरुग्राम के आईएमटी मानेसर में आग ने ऐसा तांडव मचाया की करीब 25 एकड़ में फैली झुग्गियों और कबाड़ को जलाकर पूरी तरह से राख कर दिया। रात करीब 10 बजे लगी आग की लपटों ने देखते ही देखते पूरे इलाके को अपनी आगोश में ले लिया।  तेज हवाओं के साथ उसकी आग की लपटें और धुआं के गुबार से आसपास के इलाके में हड़कंप मच गया। आग पर काबू पाने के लिए 50 से ज्यादा दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंची,  लेकिन आग इतनी भयंकर थी की घंटों की मशक्कत के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया गया। 12 घंटे बीत जाने के बाद भी आग पर पूरी तरह काबू नहीं पाया जा सका । इस दौरान आग में झुलसने से एक महिला की मौत भी हो गई और वहां बंधे एक पालतू कुत्ता जिंदा ही आग में झुलस कर मर गया । आधा दर्जन  गरीब लोग घायल हो गए, जिनको अस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया गया है।  आईएमटी मानेसर के सेक्टर-6 के कांकरोला गांव में खाली पड़े इस इलाके में करीब 25 एकड़ में कबाड़ के गोदाम बनाए हुए थे । यही नहीं इसके आसपास सैकड़ों झुग्गियों भी बनी हुई थी जो इस आग की चपेट में आ गई और राख में तब्दील हो गई।
झुग्गी में रहने वाले लोगों का जो सामान आग में जलाकर  राख हो गया, उसमें अपना बचा कुचा सामान ढूंढते रहे। जैसे तैसे एक-एक सामान इन्होंने अपने गुजर-बसर के लिए इकट्ठा किया था । रात को लगी आग के बाद अपना और अपने बच्चों का पेट भरे पाएंगे। क्योंकि इनका सारा सामान जलकर राख हो गया है । ना उनके पास खाने के लिए कुछ है और ना अब इनके सर पर सर छुपाने के लिए छत बची है। अब यह कैसे चिलचिलाती धूप में अपने बच्चों को छुपा पाएंगे । इस भीषण आग ने न केवल कबाड़ और झुग्गियों को अपनी आगोश में लिया, बल्कि वहां खड़े दर्जनों वाहनों को भी जलाकर राख कर दिया। तेज हवाओं के बीच आग इतनी तेजी से फैली कि वहां रह रहे लोग अपनी जान बचाकर बड़ी मुश्किल से बाहर निकले । इस  भीषण आग में आधा दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गए। जिसमे 2 लोग गम्भीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल भेज दिया गया।
आसपास के लोगों की माने तो तेज हवाओं के चलते यह आग पूरे इलाके में फैल गई। आसपास के गांव के लोगों ने इस आग में फंसे लोगों की मदद की और उन्हें बाहर निकाला । मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की गाड़ियों ने आग पर काबू पाने की कोशिश की, लेकिन तेज हवाओं के साथ आग की लपटें आगे बढ़ती चली गई । हालांकि पुलिस के जवान और दमकल कर्मियों ने आग और ज्यादा ना फैले इस को ध्यान में रखते हुए आसपास के इलाके को पूरी तरह से खाली करा लिया गया। गुरुग्राम ही नहीं बल्कि रेवाड़ी, झज्जर, पलवल, फरीदाबाद और बहादुरगढ़  से भी फायर ब्रिगेड की गाड़ियों को बुलाया गया।  इसके अलावा दर्जनों की संख्या में मौके पर एंबुलेंस और बड़ी संख्या में पुलिस के जवान और आला अधिकारी मौके पर पहुंचे । सेक्टर 6 के इस खाली पड़े एरिया के आसपास पूरा औद्योगिक क्षेत्र है । आग और आगे ना फैले इस को ध्यान में रखते हुए दमकल कर्मियों की तरफ से आसपास के इलाकों को खाली करा वहां पानी का छिड़काव किया गया । क्योंकि तेज हवाओं के साथ आग की लपटें लगातार आगे बढ़ रही थी लेकिन बड़ी मशक्कत के बाद भी आग पर काबू पाया नहीं गया ।
इस आगजनी के मामले में फायर ऑफिसर नरेंद्र सिंह का कहना है कि गुरुग्राम के आईएमटी मानेसर के सेक्टर 6 के करीब 25 एकड़ जमीन पर कबाड़ के गोदाम बने हुए थे । यही नहीं बड़ी मात्रा में पिछले काफी समय से  कबाड़ रखा हुआ था। आग के कारणों का तो मालूम नहीं हुआ , लेकिन देखते ही देखते इस आग ने पूरे कबाड़ और आसपास की झुग्गियों को अपनी आगोश में ले लिया और पूरी तरह से जलाकर राख कर दिया। इस घटना में दर्जनों वाहन आग में समा गए तो वही एक शराब का ठेका भी जलकर खाक हो गया। इस घटना में घायल लोगों को जिला प्रशासन की तरफ से तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया । वही स्थिति ना बिगड़े , इस को मध्य नजर रखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल को भी मौके पर तैनात कर दिया गया।

रेडक्रॉस व गुरुद्वारा सिंह सभा ने मानेसर पहुंचाया खाना व कपड़े
Atal Hind/फतह सिंह उजाला
गुरुग्राम। जिला रेडक्रॉस सोसायटी और गुरुद्वारा सिंह सभा सेक्टर-39 की ओर से मानेसर में आग प्रभावितों को राहत सामग्री वितरित की गई। लोगों को मौके पर जाकर खाना व कपड़े भेंट किए गए।  रेडक्रॉस सचिव विकास कुमार के दिशा-निर्देशों में सह-सचिव सुभाष शर्मा, अतुल पराशर के अलावा गुरुद्वारा सिंह सभा से गगनदीप मौके पर पहुंचे। उन्होंने बताया कि रविवार की रात को मानेसर के सेक्टर-6 के पास रखे गए कबाड़ में आग लग गई, जो सोमवार को भी लगी रही। इस दौरान वहां पर काफी झुग्गियां भी जल गई। इनमें रहने वाले लोग बेघर हो गये। उनका सारा सामान भी जल गया। लोगों की सहायता के लिए रेडक्रॉस के साथ मिलकर गुरुद्वारा सिंह सभा ने लोगों को खाना और कपड़े आवंटित किए। साथ ही कहा कि आगे भी जो जरुरत होगी, वह मदद इन लोगों तक पहुंचाई जाएगी।
आग लगने से लाखों की तूडी जली, आग में फंसा एक व्यक्ति भी झुलसा,मोटरसाइकिल जलकर हुई राख।
Atal Hind/जाखल योगेश खनेजा
सोमवार को देर शाम से जाखल क्षेत्र के साथ लगते गावों के खेतो में लगी भीषण आग के चलते क्षेत्र में भारी नुकसान हुआ। बता दें कि खेतो में लगी भीषण आग तेज आंधी के साथ फैलती हुई नत्थुवाल गांव में जहां एक ही स्थान पर 20 कुप तूडी जली और वही खेतों को देखने जा रहा एक व्यक्ति आग में बहुत बुरी तरह झुलस गया वहीं एक बाइक के भी जलकर राख होने की सूचना भी है। दूसरी तरफ क्षेत्र के अन्य गांव में भी भारी नुकसान होने की बात सामने आई है।
खंड के गांव नत्थूवाल के बलविंदर सिंह भूपेंद्र सिंह जसविंदर सिंह व लखविंदर सिंह गुरमीत सिंह ,जीत सिंह , संदीप सिंह, जरनैल सिंह सहित अन्य ग्रामीणों  ने बताया की रात को तेज आंधी के चलते खेतो में लगी भीषण आग से भारी नुकसान हुआ है। गांव नथुवाल में बलविंदर के 20 कूप तुड़ी  के एक साथ जलकर राख हो गए। और वही एक तूडी का कूप भूपेंद्र सिंह का ,लखविंदर सिंह की दस ट्राली गोबर की खाद ,  गुरमीत सिंह की 50 ट्राली तूडी के साथ साथ ट्राली के टायर भी जलकर राख हो गए। ऐसा ही जीत सिंह, संता के 6 एकड़ फसल अवशेष जले, और वही संदीप सिंह पुत्र जसविंदर सिंह के 15  ट्राली तूडी,जरनैल सिंह के चार कूप तुङी,  वही चिल्लेवाल में चार कूप होशियार सिंह के भी जल कर राख हो गए।गांव तलवाड़ा के किसान दर्शन सिंह का भी करीब 2 लाख रूपयो से अधिक का नुकसान हो गया है।  इस मौके पर लोगों ने कहा खेतो में लगी आग के कारण हमें भारी नुकसान हुआ है और सरकार से मांग है जल्द से जल्द उनके हुए नुकसान की सरकार किसी भी तरीके से सहायता प्रदान करें। जिसके चलते दमकाल विभाग के इंचार्ज किताब सिंह ने कहा की  दमकल विभाग के कर्मचारी कल शाम से ही आग पर काबू पाने के लिए लगे हुए है  लेकिन आग इतनी अधिक है कि कर्मचारियों को दो चार होना पड़ रहा है।
नरवाना क्षेत्र में तेज आंधी से कई गांवों के खेतों में लगी आग
आगजनी से किसानों के तूड़ी के कूप जले
नरवाना, 26 अप्रैल (Atal Hind/राजीव) : नरवाना उपमंडल में बीती रात अचानक आई तेज आंधी के चलते कई गांवों के खेतों में आग लग गई। तेज हवाएं चलने के कारण आग आसपास के क्षेत्र में काफी तेजी से फैल गई। जानकारी के अनुसार कालवन, धमतान, खरल, धनौरी, नेपेवाला, बद्दोवाल, सच्चाखेड़ा, दनौदा, भीखेवाला व कलौदा सहित कई अन्य गांव में खेतों में अचानक आग लगी। खेतों में गेहूं की फसल के फानों में आग लगी जो काफी तेजी से फैलती चली गई। आग लगने से कई गांवों में किसानों के खेतों में बनाए गए तूड़ी के कूप जलकर राख हो गए। आग लगने की सूचना मिलने पर फायर ब्रिगेड की गाडिय़ों ने मौके पर पहुंच कर कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। कई स्थानों पर आगजनी की सूचना मिलने पर भी फायर ब्रिगेड की गाड़ी नहीं पहुंच पाई क्योंकि आग एक साथ कई गांवों के खेतों में लगी थी।
Advertisement
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

द वायर को मिला इंटरनेशनल प्रेस इंस्टिट्यूट का 2021 फ्री मीडिया पायनियर अवॉर्ड

atalhind

मैं सोनू आत्महत्या कर रहा हूं। मेरे मरने के पीछे नजदीक के गांव का सुनील जिम्मेवार है।

atalhind

गिरफ्तारी पर गिरफ्तारी अब 40 गिरफ्तार आखिर में अपराधी कौन ?  क्या कैथल पुलिस सिपाही पेपर लीक मामले को सुलझा पायेगी क्या  ?

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL