AtalHind
टॉप न्यूज़दिल्लीराजनीति

मोदी सरकार ने किसानों के प्रदर्शन से जुड़े खाते, पोस्ट ‘ब्लॉक’ पर रोक लगाने का आदेश दिया-एक्स

मोदी सरकार ने किसानों के प्रदर्शन से जुड़े खाते, पोस्ट ‘ब्लॉक’ पर रोक लगाने का आदेश दिया-एक्स
Modi government orders to block and block accounts and posts related to farmers’ protest -X
नई दिल्ली: सोशल साइट एक्स (जिसे पहले ट्विटर के नाम से जाना जाता था) के ग्लोबल गवर्नमेंट अफेयर्स पेज ने घोषणा की है कि नरेंद्र मोदी सरकार ने उनके प्लेटफॉर्म के विशिष्ट एकाउंट और पोस्ट को रोकने के लिए कार्यकारी आदेश जारी किए हैं, ऐसा न करने पर अधिकारियों को जुर्माना और कारावास की सजा होगी.न्यूज़ एजेंसी पीटीआई-भाषा के हवाले से मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने गृह मंत्रालय के अनुरोध पर किसानों के विरोध प्रदर्शन से जुड़े 177 सोशल मीडिया खातों और वेब लिंक को अस्थायी रूप से ‘ब्लॉक’ करने का आदेश दिया है।Modi government orders to block and block accounts and posts related to farmers’ protest -X
22 फरवरी को एक पोस्ट में एक्स के ग्लोबल गवर्नमेंट अफेयर्स ने घोषणा की, ‘भारत सरकार ने एक्स को विशिष्ट एकाउंट और पोस्टों पर कार्रवाई करने के लिए कार्यकारी आदेश जारी किए हैं, जो महत्वपूर्ण जुर्माना और कारावास सहित संभावित दंड के अधीन हैं.बयान में कहा गया, ‘आदेशों के अनुपालन में हम इन एकाउंट और पोस्टों को केवल भारत में ही रोक देंगे; हालांकि, हम इन कार्रवाइयों से असहमत हैं और मानते हैं कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता इन पदों तक विस्तारित होनी चाहिए.’ एक्स ने आधिकारिक तौर पर भारत सरकार के आदेश पर बात की है, जिसमें एकाउंट्स को बंद करने के लिए कहा गया है, इन आरोपों के बीच कि जब से एलन मस्क ने इसका स्वामित्व संभाला है, यह सोशल साइट विपक्षी राजनेताओं, पत्रकारों, कार्यकर्ताओं और सरकार के रुख के विपरीत विचार प्रसारित करने वाले किसी भी व्यक्ति को रोककर सरकारी दबाव के आगे झुक रही है.
Advertisement

Related posts

पत्रकारों  के  स्कूलों में प्रवेश पर पाबंदी  ,  स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के गणित में कमजोर होने संबंधी खबरें छापी  थी 

atalhind

हरियाणा सरकार का झूठ ,प्लाट कागजों में किए अलाट, बीते 11 वर्षों में नहीं दिया कब्जा

admin

NEWS CAA-आज की पहली और प्रमुख ख़बर क्या है CAA बनाम चुनावी बांड ?

editor

Leave a Comment

URL