AtalHind
राष्ट्रीय

कैथल जिले में करवाया जा पूरा प्रचार-प्रसार :-  सुशील कुमार

कैथल जिले में करवाया जा पूरा प्रचार-प्रसार :-  सुशील कुमार

कैथल, 11 दिसंबर (  ATAL HIND       )एडीसी  सुशील कुमार ने लघु सचिवालय स्थित कॉन्फ्रेंस हॉल में संबंधित अधिकारियों की बैठक लेकर कहा कि प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना (जिसे पीएम विश्वकर्मा कौशल सम्मान के रूप में ‘भी जाना जाता है) के तहत 4 साल की अवधि के लिए 3 लाख रु. तक का कोर्लटरल-फ्री लोन प्रदान किया जाता है, जिसकी ब्याज दरें 5% प्रति वर्ष हैं। यह MoMSME (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय) द्वारा शुरू की गई एक योजना है, जिसमें 18 तरह के पारंपरिक काम शामिल किए गए हैं।
उन्होंने कहा कि इस योजना के अंतर्गत पारंपरिक कारीगरों और जैसे-बढ़ई, दर्जी टोकरी बनाने वाले, सुनार, लोहार, कुम्हार, नाई, मोची, हलवाई आदि को और शिल्पकारों को लोन के साथ-साथ उनके पेशे से संबंधित टूल किट, निशुल्क स्किल प्रशिक्षण, मार्केट लिंकेज मपोर्ट, डिजिटल ट्रांजैक्शन करने पर इंसेंटिव जैसे लाभ प्रदान किए जाते हैं। योजना के तहत एप्लीकेशन के वेरिफिकेशन और अप्रूवल के बाद, आवेदकों को पीएम विश्वकर्मा योजना के तहत विश्वकर्मा के रूप में रजिस्टर किया जाता है। योजना का लाभ लेने के लिए https://pmvishwakarma.gov.in पर अपना पंजीकरण करने के लिये अपने नजदीक के CSC केंद्र (Common Service Centre) से सम्पर्क करें व यह पंजीकरण निःशुल्क है।
उन्होंने कहा कि पीएम विश्वकर्मा स्कीम का अधिक से अधिक प्रचार प्रसार करवाया जाए, इसके साथ साथ सभी सोशल मीडियम प्लाट्‌फ़ोर्म पर भी प्रचार- प्रसार करवाया जाए। सभी सामाजिक संस्थाओ के साथ बैठक करकें योजना का लाभ लेने हेतु प्रोत्साहित करें ।
विभाग अगले महीने ज़िला स्तरीय पीएम विश्वकर्मा योजना जागरूकता अभियान चलाने जा रहा है।
सभी खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी को आदेश दिए कि ज़िले में सभी सरपंचों को स्कीम के बारे में पूर्ण जानकारी दी जाए।
इस अवसर पर एमएसएमई केन्द्र से उप-निदेशक कपिल मित्तल, बलदेव कुमार, एलडीएम एसके नंदा, मुकेश वर्मा,  प्रवीण प्रजापति व रामपाल राणा आदि मौजूद रहे।

Advertisement

Related posts

PANIPAT NEWS-चर्चित यूट्यूबर ‘टोचन किंग’ की मौत

editor

सिस्टम को नहीं पता उनका एनकाउंटर कैसे करे और किस जेल में डाल दे

admin

Bahadurgarh NEWS–इनैलो के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष नफे सिंह राठी को गोलियों से भून डाला मोके पर ही मौत

editor

Leave a Comment

URL