AtalHind
कैथलटॉप न्यूज़राजनीति

Kaithal bjp के पाला राम सैनी जेजेपी में हुए शामिल, कार्यकर्ताओं सहित पहना जेजेपी का पटका

Kaithal bjp के पाला राम सैनी जेजेपी में हुए शामिल, कार्यकर्ताओं सहित पहना जेजेपी का पटका

उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला में दिखाई देती है ताऊ देवीलाल की तस्वीर, नीतियों से हुआ प्रभावित : पाला राम

कैथल (ATALHIND/सुरेंद्र गोयल)-

स्थानीय मूनलाइट पब्लिक स्कूल में अपने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ पूर्व भाजपा नेता रहे प्रसिद्ध

 पाला राम सैनी ने उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व में जेजेपी को ज्वाइन किया। स्कूल में पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने डिप्टी सीएम का फूल मालाओं व ढोल बजाकर स्वागत किया। पाला राम ने बुके देकर उप मुख्यमंत्री का स्वागत किया। उपस्थित कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि मेरा सौभाग्य है कि डॉ. अजय सिंह चौटाला के संघर्ष के साथी रहे पाला राम सैनी आज अपने सैंकड़ो साथियों सहित परिवार में वापसी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इनके शामिल होने से पार्टी में नई ऊर्जा व नई ताकत का संचार होगा और संगठन को बढ़ाने का काम पाला राम सैनी करेंगे। उन्होंने कहा कि वे पालाराम सैनी की टीम का शामिल होने के लिए, सैनी समाज की ओर से पहनाई गई पगड़ी के लिए आभार व्यक्त करते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी को ताकत देने के लिए, संगठन को मजबूती देने के लिए जेजेपी में शामिल होने पर वे सभी कार्यकर्ताओं का स्वागत एवं अभिनंदन करते हैं। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हालांकि राजनीतिक रास्ते अलग रहने के बावजूद भी पाला राम सैनी ने चौधरी देवीलाल की सोच को आगे बढ़ाते हुए जनसेवा के कार्यों को किया है। उन्होंने कहा कि चुनाव में हार-जीत चलती रहती है, इसके बावजूद भी आम आदमी की सेवा करने में पाला राम सैनी ने काफी मेहनत की है। दुष्यंत ने कहा कि यह हमारी पार्टी का सौभाग्य है कि डॉ. अजय सिंह चौटाला जब यूथ विंग के अध्यक्ष थे, उस समय के साथी रहे बिल्लू चंदाना, एडवोकेट ज्ञानसिंह गुर्जर ढांड और समाजसेवी पालाराम सैनी ने भी उनके साथ काम किया और परिवार में वापसी की। उन्होंने कहा कि इससे जेजेपी को कैथल जिले में मजबूती मिलेगी। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हमने प्रदेश में रोजगार उपलब्ध करवाने में व व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में कार्य किया है और गठबंधन की सरकार ने विपक्ष को चारों खाने चित किया है। बीजेपी छोड़कर जेजेपी में शामिल होने के बाद पत्रकारों से बातचीत में पालाराम सैनी ने कहा कि आज वे अपने 400 साथियों के साथ जेजेपी का पटका पहनकर दुष्यंत चौटाला की अगुवाई में पार्टी ज्वाइन कर रहे हैं क्योंकि युवा, किसान, व्यापारी, आम वर्ग की हितकारी पार्टी जेजेपी है। उन्होंने कहा कि दुष्यंत चौटाला में उन्हें ताऊ देवीलाल की तस्वीर नजर आती है। यह पार्टी सबको साथ लेकर चलने वाली है, इसलिए उन्होंने अपने राजनीतिक कैरियर की एक नई शुरुआत करने का संकल्प लिया है। पत्रकारों के सवाल के जवाब में पालाराम सैनी ने कहा कि भाजपा को अलविदा कहने का कारण स्थानीय नेतृत्व रहा है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि स्थानीय नेतृत्व ने पार्टी कार्यकर्ताओं की कदर नहीं की। सैनी ने कहा कि जो इनकी जी हजूरी करते हैं, उन्हीं को पद व सम्मान दिया जाता है। सैनी ने कहा कि उन्होंने शुरुआती दौर में छठी क्लास में ही शहीद भगत सिंह, शहीद उधम सिंह, झांसी की रानी, चंद्रशेखर आजाद आदि को पढ़ा है, इसलिए वे जी हजूरी नहीं कर सकते और ईमानदारी से अपनी आवाज को बुलंद करने का काम करते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा में केवल पूंजीपतियों की सुनवाई होती है, ग्राउंड पर काम करने वालों की कोई कदर नहीं होती इसलिए उन्होंने पार्टी को अलविदा कहा है। उन्होंने कहा कि 2013 से लगातार बीजेपी पार्टी की सेवा की परंतु उचित मान-सम्मान न मिलने की वजह से पार्टी को अलविदा कहा है। जेजेपी में शामिल होने की कोई शर्त वाले सवाल के जवाब में पाला राम ने कहा कि परिवार व घर में वापसी पर कोई शर्त नहीं होती, मुखिया सभी की इच्छाओं को समझते हैं और उन्हें पूरा करते हैं। कार्यक्रम में मंच संचालन पुंडरी हल्का प्रधान राजू ढुल पाई ने किया और सभी नेताओं को पार्टी में शामिल करवाने में राजू की भूमिका महत्वपूर्ण रही। इस मौके पर उनके साथ गुहला विधायक ईश्वर सिंह, पूर्व विधायक सतविंदर राणा, रोशन ढांडा, राजू पाई, चंद्रभान दयौरा, जगदीश दुब्बल, अवतार सिंह, प्रो. रणधीर सिंह, रणदीप कौल,  मास्टर प्रेम ग्योंग, सुरेश राणा, जब्बर राणा, कपिल शर्मा, जोगी राम, सन्नी चौशाला, निर्मल सिंह रसुलपुर, ज्ञान गुज्जर, राजेंद्र, शिव चेची, सोनू शर्मा, राजबीर सिंह, जंगीर सैनी, हुकूम सिंह, विनोद सैर, राहुल भारद्वाज राजौंद, संदीपा गुर्जर क्योड़क, प्रीतम सिंह कौलेखां, बलवान कोटड़ा, अशोक बंसल, जयवीर ढांडा, कृष्ण बाजीगर, दर्पण मित्तल, जगतार माजरी, मियां सिंह, दारा सिंह, हरिकिशन, जोगेंद्र कसान, राजू जुलानीखेड़ा, प्रो. रणधीर चीका, कमल राणा, जितेंद्र सैनी, बंटी, विजय, नरेश सैनी आदि मौजूद रहे।

Advertisement

Related posts

27 सितंबर को ‘भारत बंद’ का आह्वान, संगठन ने कहा- शांतिपूर्ण रहेगा विरोध प्रदर्शन

atalhind

भ्रष्टाचार में शामिल अधिकारियों व कर्मचारियों करेंगे बेनकाब : गौरव पाडला

admin

सीखने-सिखाने की भारतीय ज्ञान परंपरा को नहीं भूलना : डॉ. चौहान

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL