AtalHind
टॉप न्यूज़ दिल्ली

अगर जिन्ना देश के पहले प्रधानमंत्री बनते तो विभाजन से बच सकता था भारत : भाजपा नेता

अगर जिन्ना देश के पहले प्रधानमंत्री बनते तो विभाजन से बच सकता था भारत : भाजपा नेता
नई दिल्लीः पाकिस्तान के संस्थापक मुहम्मद अली जिन्ना की तुलना महात्मा गांधी और सरदार वल्लभभाई पटेल से करने पर आलोचना झेल रहे समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के बाद अब भाजपा के एक शीर्ष नेता ने कहा है कि अगर मोहम्मद अली जिन्ना को देश का पहला प्रधानमंत्री बनाया जाता तो भारत विभाजन से बच सकता था.

भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य और आरएसएस के मुखपत्र ऑर्गेनाइजर पत्रिका के पूर्व संपादक शेषाद्री चारी ने कहा, ‘दुर्भाग्य से हमारे नेताओं ने इस बारे में नहीं सोचा. अगर हमारे नेताओं ने तब इस बारे में सोचा होता और उन्हें प्रधानमंत्री पद की पेशकश की होती तो कम से कम विभाजन नहीं होता. हालांकि ये अलग मुद्दा है कि उनके बाद प्रधानमंत्री कौन बनता, लेकिन उस समय विभाजन नहीं होता.’

भाजपा के एक शीर्ष नेता द्वारा इस तरह का बयान देना ऐसे समय में महत्वपूर्ण लगता है, जब मुख्य रूप से अखिलेश यादव के जिन्ना को लेकर उनके बयान की विभिन्न नेताओं विशेष रूप से भाजपा नेताओं ने कड़ी आलोचना की थी, जिनमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल हैं.पिछले महीने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने यह कहकर इतिहास से छेड़छाड़ करने की कोशिश की थी कि विनायक दामोदर सावरकर ने गांधी के कहने पर ब्रिटिश शासकों से माफी मांगी थी.

Advertisement

राजनाथ सिंह के इस बयान को लेकर कई नेताओं और इतिहासकारों ने उनकी आलोचना की थी और उन पर इतिहास को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाया था.

Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

पत्रकारों को गिरफ्तार किया गया और उन्हें लंबे समय तक जेल में रखा गया,छोटे अखबार तबाह हो गए

atalhind

आखिर 30 रूपये चुराने वाला वांछित अपराधी 25  साल बाद  गिरफ्तार हो गया

admin

कश्मीर में 1990 से 2021 के बीच 89 कश्मीरी पंडितों की हत्या हुईः आरटीआई

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL