AtalHind
अंतराष्ट्रीयकरनाल (Karnal)टॉप न्यूज़व्यापार

DUBAI के मेले से दुनिया के कई देशाें में बिखरेगी तरावड़ी के चावलों की सुगंध

DUBAI के मेले से दुनिया के कई देशाें में बिखरेगी तरावड़ी के चावलों की सुगंध

अरब देशों में निर्यात होने के लिए जाता है ऐतिहासिक शहर तरावड़ी का चावल
उद्योगपत्ति बोेले :- 19 से 23 फरवरी तक गल्फ फूड मेले में लगेंगे आधुनिक मशीनों से तैयार चावलों के स्टाॅल
Advertisement
तरावड़ी, 4 फरवरी (रोहित लामसर)।
दुबई में आयोजित होने वाले गल्फ फूड मेले में फिर से करनाल के तरावड़ी के चावलों की महक बिखेरगी। इसके लिए तरावड़ी शहर के चावल व्यापारियों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं।
Advertisement
दुबई में 19 से 23 फरवरी तक आयोजित होने वाले गल्फ फूड मेले में तरावड़ी के अधिकतर चावल व्यापारी स्टॉल लगाऐंगे। काबिलेगोर है कि दुनिया के कई देशों के लोगों को करनाल के तरावड़ी में उत्पादित बासमती की सुगंध खूब भाती है। जिसका असर दुबई में लगे गल्फ फूड मेले में देखने को मिलता है।
Advertisement
विदेशों से पहुंचने वाले लोग अक्सर हरियाणा के तरावड़ी शहर में तैयार हुए चावलों को खूब पंसद करते हैं। यह मेला दुबई में 19 फरवरी से शुरू होगा और 23 फरवरी तक इसमें तरावड़ी के चावल व्यापारी स्टॉल लगाऐंगे। शहर के चावल व्यापारियों का कहना है कि ऐतिहासिक शहर तरावड़ी के चावलों की महक कई देशों की थाली में बिखरती है।
तरावड़ी शहर चावलों की नगरी के नाम से मशहूर है, जिसमें विश्व भर में पहचान भी बनाई
तरावड़ी शहर(Tarawadi city) चावलों की नगरी (city of rice,)के नाम से मशहूर है, जिसमें विश्व भर में पहचान भी बनाई हुई है। इस बारे में गोयल इंटरनैशनल प्रा.लि. तरावड़ी के सी.एम.डी. विनोद गोयल, डबल चाबी बासमती राईस के सी.एम.डी. बृजभूषण गोयल, शिव शक्ति इंटर ग्लोब प्रा.लि. तरावड़ी के सी.एम.डी. अमन गुप्ता ने कहा कि दुबई में गल्फ फूड मेले में तरावड़ी के चावलों के स्टॉल खूब विदेशी मेहमानों को अपनी ओर आकर्षित करेंगे। उन्होंने बताया कि तरावड़ी के उद्योगपत्तियो द्वारा तैयार किया गया चावल अरब देशों में निर्यात होने के लिए जाता है।
Advertisement
तरावड़ी शहर के लगभग सभी राइस मिलों में आधुनिक मशीनें लगी हुई है, जिससे तैयार होकर चावल विदेशों में बिकने के लिए जाता है। बी.डी. ओवरसीस तरावड़ी के सी.एम.डी. प्रवीण गर्ग, जी.वी. राईस यूनिट तरावड़ी के सी.एम.डी. विनित बंसल एवं भारत इंडस्ट्रीज तरावड़ी के सी.एम.डी. नाथीराम गुप्ता ने बताया कि दुबई देश हर वर्ष पूरे विश्व के उन सभी व्यापारियों को अपने स्टाल लगाने के लिए आमंत्रित करता है जो फूड से जुड़ी सामग्री तैयार करते हैं। इस मेले में जाने से पहले इस शहर के चावल व्यापारी अपनी-अपनी तैयारी करके वहां पर अपने स्टाल लगाते हैं।
चावलों को काफी सुंदरता के साथ वहां रखा जाता है ताकि विदेशों से आने वाला व्यापारी इस शहर की आधुनिक मशीनों से तैयार किए गए चावल को पसंद कर सके। उन्होंने बताया कि दुबई में जितने भी चावलों के स्टाल लगते हैं उनमें भारत देश के हरियाणा व पंजाब के चावल को अधिक पसंद किया जाता है, जिसमे सबसे ज्यादा तरावड़ी के चावल शामिल हैं।
Advertisement
राईस मिलर्स एंड डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेश बंसल, एस.एस.राईस यूनिट तरावड़ी के सी.एम.डी. राकेश हंस, श्री हंस राईस मिल के सी.एम.डी. प्रदीप गुप्ता एवं 521 फूड प्रोडक्ट तरावड़ी के सी.एम.डी. पंकज गोयल ने बताया कि जब हरियाणा की बात आती है तो जिले करनाल के तरावड़ी के चावल को अधिक पसंद किया जाता है। उन्होंने बताया कि इसमें कोई दो राय नहीं है कि भारतीय चावल विशेषकर बासमती को गल्फ देशों में काफी पसंद किया जाता है।
Advertisement
दुबई में हर साल लगने वाले गल्फ फूड मेले की भी तरावड़ी के चावलों के लगे स्टॉलों की खास भूमिका होती है। उन्होंने बताया कि इसमें हरियाणा के करनाल जिले के तरावड़ी के चावल निर्यातकों की संख्या अच्छी खासी रहती है, जो अपने स्टालों पर बासमती बिरयानी का स्वाद विदेशी मेहमानों को चखाते हैं।
गौरतलब है कि जिले में सर्वाधिक बासमती चावल का निर्यात तरावड़ी से ही होता है। विदेशों में भी तरावड़ी वाली बासमती की विशेष मांग रही है। मेेले में ईरान, ईराक, सऊदिया, यमन, कतर, बहरीन, साउथ अफ्रीका आदि करीब 50 देशों के लोगों ने अच्छी खासी संख्या में सहभागिता दर्ज करते हैं।
Advertisement
उद्योगपत्ति विनोद गोयल, बृजभूषण गोयल, अमन गुप्ता, प्रवीण गर्ग, विनित बंसल, नाथीराम गुप्ता, नरेश बंसल, राकेश हंस, प्रदीप गुप्ता एवं पंकज गोयल ने बताया कि दुबई के आयोजित होने वाले गल्फ फूड मेले से दुनिया के कई देशाें में तरावड़ी के चावलों की सुगंध बिखरती हैं। वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में आयोजित किए जा रहे गल्फ फूड मेले में कई चावल निर्यातकों द्वारा स्टॉल लगाए जाऐंगे। हर वर्ष दुबई देश में गल्फ फूड मेले के नाम से बड़ा बाजार लगता है, जिसमें पूरे विश्व के फूड प्रोडक्ट निर्माताओं को अपने-अपने सामान के स्टॉल लगाने का अवसर मिलता है।
Advertisement
Advertisement

Related posts

तरावड़ी के केसरीनंदन क्लीनिक में छापेमार कार्रवाई

atalhind

Ayodhya NEWS-अयोध्या में बीजेपी की हार ने हिंदुत्ववादियों के स्वार्थों को दी गहरी चोट से स्वयंभू हिंदुत्ववादी बौखलाए हुए क्यों हैं?

editor

kisan andolan-किसान शुभकरण को हरियाणा पुलिस ने मारा -मृतक के परिवार का आरोप

editor

Leave a Comment

URL