AtalHind
राजनीति हरियाणा

मनोहर ने बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा को लिफाफा ना देकर नरेंद्र मोदी को क्यों सौंपा ,बंद लिफाफे का राज , अटकलों का बाजार गरम

नमो को मनो ने सौंपा लिफाफा… अटकलों का बाजार गरम

लिफाफे को लेकर हरियाणा की राजनीति में मच गया हड़कंप

कहीं इस्तीफा तो नहीं लिखा, नमो को दिए गए लिफाफे में

Advertisement

मान ने छोड़े तीर एसवाईएल का छोड़ेंगे हरियाणा में नीर

इधर राव ने खाया ताव बोले बीजेपी के लिए बना हनुमान

फतह सिंह उजाला
गुरुवार को एक तरफ जहां देश भर में होलिका दहन किया जा रहा था । होलिका दहन के कुछ दिन पहले से ही तापमान में भी उछाल बना हुआ था, इसके कई कारण देखे जा रहे हैं । एक दिन पहले ही हरियाणा के पड़ोसी भाई पंजाब में सीएम की कुर्सी पर मान की ताजपोशी हुई । इतना ही नहीं विधानसभा चुनाव में जीत का रिकॉर्ड बनाने वाले और दिल खोल भाजपा के लिए अनेकानेक कार्यक्रम करने वाले उमेश अग्रवाल के आप के साथ जाते ही गुरुवार देर रात हरियाणा की राजनीति और सरकार को लेकर उलटफेर का खेल भी खेल दिया गया।

Advertisement

होलिका दहन की गर्मी के बीच ही हाल ही के राजनीतिक घटनाक्रम-उलटफेर को देखते हुए देश के पीएम नमो को हरियाणा के सीएम मनो ने एक लिफाफा सौंप दिया । आखिर इस सौपे गए लिफाफे में क्या है ? इसी बात को लेकर रंगों की मस्ती में डूबने से पहले ही हरियाणा की राजनीति में खासतौर से सत्ता पक्ष के नेताओं और मंत्रियों के चेहरे के रंग भी बदरंग होते चले गए । अटकलों का बाजार गर्म है कि नमो को सौपे गए लिफाफे में कहीं नमो के द्वारा इस्तीफा तो नहीं लिख कर दिया गया है ? जानकारी को गंभीरता से नहीं लेने की शर्त पर सूत्रों का कहना है कि पंजाब में होली से पहले भाजपा का जो पूरी तरह से रंग उड़ गया , उस बात को लेकर भाजपा हाईकमान सहित पीएम नमो बेहद नाराज बताए गए। क्योंकि इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि गुरमीत राम रहीम के जेल से फरलो पर बाहर आने के बाद भी पंजाब में भाजपा के कमल को लोगों ने कोई तवज्जो नहीं दी ।

सूत्रों का कहना है कोई माने या ना माने, जिस प्रकार से गुरुग्राम में राम रहीम के सेवकों की फौज के द्वारा झाड़ू चलाई गई । इसका सीधा इशारा पंजाब के लिए था कि वहां आम आदमी पार्टी को छोड़कर अन्य सभी पार्टी के प्रत्याशियों पर झाड़ू ही फेरनी है, जो भी कुछ हुआ आज वह सभी के सामने है। बेशक से हरियाणा मैं चुनाव में अभी 2 साल से अधिक का समय बाकी है । लेकिन पंजाब में आम आदमी पार्टी की झाड़ू का जादू चलने के बाद जिस प्रकार से सबसे अधिक राजस्व देने वाले जिला गुरुग्राम जोकि आम आम आदमी पार्टी की सरकार वाले दिल्ली प्रदेश के साथ लगता है , इसी गुरुग्राम से ही झाड़ू को थामने का सिलसिला आरंभ हो चुका है । इसी बीच में कुछ दिन पहले के घटनाक्रम पर गौर किया जाए तो दक्षिणी हरियाणा और अहीरवाल के क्षत्रप राव साहब के द्वारा भी अपना ताव केंद्रीय मंत्री की मौजूदगी में मनो को दिखाया जा चुका है । राव ने अप्रत्यक्ष रूप से और इशारों में मनो सहित भाजपा को संदेश दिया कि हरियाणा में भाजपा के लिए हनुमान वही बने हैं । 75 पार 75 पार का नारा दिया गया ,लेकिन भाजपा की लाज बचाने में और कांग्रेस की लंका जलाने में राव रूपी हनुमान का ही योगदान रहा है।

दूसरी ओर मान ने कुर्सी पर बैठते ही ऐसा तीर छोड़ दिया है, जिससे हरियाणा विशेष रूप से दक्षिणी हरियाणा भी अछूता नहीं रह सकता है । होली को देखते हुए ही मान ने तीर छोड़ा है कि हरियाणा में एसवाईएल का नीर पहुंचने से अब कोई ताकत नहीं रोक सकती । जानकारों की माने तो एसवाईएल का नीर हरियाणा ही नहीं देश की राजधानी दिल्ली तक भी पहुंचता है । अटकलों का बाजार गर्म है कि पंजाब के सीएम मान के द्वारा छोड़े गए तीर और घोषणा के मुताबिक एसवाईएल के नीर के हरियाणा में पहुंचने से कहीं हरियाणा में भी किसान सहित अन्य लोग भी अपने अपने हाथों में मजबूती से झाड़ू को ना थाम ले।

Advertisement

बहरहाल मनो को नमो के द्वारा जो लिफाफा सौंपा गया है , वह लिफाफा ही अबूझ पहेली बनकर रह गया है । बातों को गंभीरता से नहीं लेने की बात कहने वाले सूत्रों की माने तो लिफाफे में लिखा हुआ इस्तीफा रखा हो, लिफाफा खाली हो या फिर इस लिफाफे में होली के रंग हो। जब तक यह लिफाफा बंद रहेगा, तब तक हरियाणा में खासतौर से सत्ता पक्ष भाजपा के नेताओं और मंत्रियों के चेहरों के रंग बदरंग ही दिखाई देंगे । इस लिफाफे को लेकर भाजपा की हमजोली जजपा और जजपा के नेताओं में भी अंदर खाने जबरदस्त बेचौनी बनी महसूस की जा रही है, कि सत्ता के मजे किरकिरे न हो जाये ? बहरहाल मनो के द्वारा नमो को सौंपा गया लिफाफ और इसमें क्या कुछ है ? यह बात सामने नहीं आ जाती तब तक पूरी मस्ती और उमंग के साथ होली के रंग खेलने पर किसी भी प्रकार की पाबंदी नहीं है । राजनीति और सत्ता के शीर्ष पदों पर बैठे नेताओं के बीच लिफाफे सहित अन्य कागजात आदान प्रदान करने का सिलसिला चलता आ रहा है और चलता ही रहेगा । लेकिन तब तक होली के रंग और त्योहार की उमंग का भरपूर आनंद लेना ही आपसी भाईचारे सहित सेहत के लिए लाभकारी रहेगा । आज फाग अर्थात होली के रंग एक दूसरे को लगाने का मौका है । ऊपर लिखी सभी बातों को भूल कर उमंग के साथ रंग खेलने का मौका बिल्कुल भी नहीं छोड़ना चाहिये क्यो कि सत्ता की चाबी जनता जर्नादन के पास ही है।

विशेष होली समाचार

Advertisement
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

हरियाणा में 82888 ट्यूबवेल कनेक्शन फाइलें बिजली विभाग में पेंडिग

admin

कैथल में सुरक्षा के कड़े प्रबंध पुरूष कांस्टेबल की लिखित परीक्षा में 35 केंद्रों में 10 हजार 300 परीक्षार्थी देंगे परीक्षा,

admin

माता-पिता , दादा और नाना- नानी के नाम पर प्रोजेक्टों के नाम रखने का युग,अब हरियाणा में समाप्त हुआ :- मनोहर लाल।।

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL