AtalHind
छत्तीसगढ़टॉप न्यूज़दिल्ली (Delhi)

2013 की मुठभेड़ में मारे गए नक्सली नहीं, निहत्थे आदिवासी थे-जांच रिपोर्ट

रिपोर्ट के मुताबिक, इस घटना को रिपोर्ट में तीन बार ‘एक गलती’ (A Mistake) बताते हुए जस्टिस अग्रवाल ने कहा कि मारे गए आदिवासी निहत्थे थे और 44 राउंड फायरिंग में ये लोग मारे गए, जिनमें से 18 राउंड फायरिंग सीआरपीएफ की कोबरा इकाई के एक कॉन्स्टेबल ने की थी.
नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के एडेसमेट्टा में साल 2013 में हुई एक मुठभेड़ की न्यायिक जांच रिपोर्ट में पाया गया है कि सुरक्षा बलों द्वारा मारे गए आठ लोगों में से कोई भी माओवादी नहीं था, जैसा कि घटना के समय आरोप लगाया गया था. मारे गए आठ लोगों में से चार नाबालिग थे.मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त जज जस्टिस वीके अग्रवाल ने कहा कि हो सकता है कि सुरक्षा बलों ने दहशत के क्षणों में निहत्थी भीड़ पर गोलियां चला दी हो.
Advertisement
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, इस घटना को रिपोर्ट में तीन बार ‘एक गलती’ (A Mistake) बताते हुए जस्टिस अग्रवाल ने कहा कि मारे गए आदिवासी निहत्थे थे और 44 राउंड फायरिंग में ये लोग मारे गए, जिनमें से 18 राउंड फायरिंग सीआरपीएफ की कोबरा इकाई के एक कॉन्स्टेबल ने की थी.
मई 2019 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई द्वारा घटना की एक अलग जांच की जा रही है.
एडेसमेट्टा की घटना 17-18 मई, 2013 की रात को हुई थी. इसके एक हफ्ते बाद सुकमा जिले में झीरम घाटी की घटना (25 मई, 2013) हुई थी, जिसमें राज्य के शीर्ष कांग्रेस नेताओं सहित 27 लोग नक्सली हमले में मारे गए थे.
जहां पुलिस ने एडेसमेट्टा में माओवादियों की मौजूदगी से इनकार किया था, वहीं कोबरा इकाई ने एक माओवादी ठिकाने का भंडाफोड़ करने का दावा किया था.
Advertisement
रिपोर्ट के अनुसार, एडेसमेट्टा निकटतम सड़क से 17 किमी और जिला मुख्यालय से 40 किमी से अधिक दूर स्थित है. यह बीजापुर जिले के गंगालूर पुलिस स्टेशन के तहत आता है, जो राज्य में नक्सल उग्रवाद से सबसे बुरी तरह प्रभावित है. इस गांव में अभी भी कोई सड़क नहीं है.
उस रात आदिवासी समुदाय के 25-30 सदस्य ‘बीज पंडुम’ मनाने के लिए एकत्र हुए थे. यह एक ऐसा त्योहार है, जिसमें बीज के रूप में नए जीवन की पूजा की जाती है.

इसी दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की कमांडो इकाई बटालियन फॉर रेसोल्यूट एक्शन (कोबरा) का एक 1000 सदस्यीय समूह घटनास्थल पर पहुंचा और सभा पर गोलियां चला दीं.
Advertisement
जस्टिस अग्रवाल ने रिपोर्ट में कहा कि सुरक्षा बलों की गोलीबारी ‘गलत धारणा, घबड़ाहट की प्रतिकिया’ का मामला लग रहा है.
रिपोर्ट में कहा गया है, ‘अगर सुरक्षा बलों को आत्मरक्षा के लिए पर्याप्त गैजेट दिए जाते, अगर उनके पास जमीनी स्तर से बेहतर खुफिया जानकारी होती और वे सावधान रहते तो घटना को टाला जा सकता था.’
रिपोर्ट में यह भी कहा गया है, ‘आत्मरक्षा के लिए पर्याप्त उपकरणों से लैस सुरक्षा बल नहीं थे. खुफिया जानकारी की भी कमी थी, यही वजह है कि आत्मरक्षा और घबराहट में उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी.’
Advertisement
उस समय सुरक्षा बलों ने आरोप लगाया था कि उन पर गोलियां चलाई गई थीं, जवाबी कार्रवाई में उन्होंने फायरिंग की थी. हालांकि जांच रिपोर्ट में पाया गया है कि कोबरा इकाई किसी ‘खतरे’ में नहीं थी और उन्होंने मानदंडों का पालन नहीं किया था.
इस घटना में कोबरा कॉन्स्टेबल देव प्रकाश की गोली लगने से मौत हो गई थी. इसे लेकर रिपोर्ट में कहा गया है कि ये नक्सलियों की गोली से नहीं, बल्कि ‘फ्रेंडली फायरिंग’ (जवानों की ही गोली से मौत हुई) के चलते हुआ था.
उन्होंने कहा कि घटनास्थल से दो ‘भरमार’ राइफलें जब्त की गई थीं, लेकिन इनकी गोली लगने से कॉन्स्टेबल प्रकाश की मौत नहीं हुई थी.
Advertisement
घटना को लेकर ग्रामीणों के बयान रिपोर्ट के निष्कर्षों से मेल खाते हैं. ग्रामीणों में से एक करम मंगलू ने बताया था कि गोलीबारी के बीच सुरक्षा बलों को यह चिल्लाते हुए सुना गया था, ‘फायरिंग रोको, हमारे एक आदमी को गोली लगी है’.
जांच आयोग ने सुरक्षा बल के काम में कई खामियां पाईं.
आयोग ने दो भरमार राइफलों की जब्ती को ‘संदिग्ध’ और ‘अविश्वसनीय’ बताया गया है. इसके अलावा जब्ती रिपोर्ट में वस्तुओं को शामिल नहीं करने और घटनास्थल से एकत्र किए गए किसी भी सबूत को फॉरेंसिक विश्लेषण के लिए भेजने में विफल रहने के लिए अधिकारियों को फटकार भी लगाई गई है.
आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है, ‘इस ऑपरेशन के पीछे कोई मजबूत खुफिया जानकारी नहीं थी. गांव में जमा हुए लोगों में से किसी के पास हथियार नहीं थे और न ही वे नक्सली संगठन के सदस्य थे.’
Advertisement
रिपोर्ट में भविष्य में इस तरह की घटनाओं से बचने के लिए ड्रोन और अन्य मानव रहित गैजेट्स के उपयोग का सुझाव दिया है.
राज्य कैबिनेट ने जस्टिस अग्रवाल की जांच रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया है.
हालांकि सरकेगुड़ा घटना पर सेवानिवृत्त न्यायाधीश जस्टिस वीके अग्रवाल की रिपोर्ट, अभी भी राज्य के कानून विभाग के पास लंबित है. इस जांच रिपोर्ट में भी सुरक्षाकर्मियों पर भी आरोप लगाया गया था.
Advertisement
एडेसमेट्टा की तरह सरकेगुड़ा के लोग भी जून 2012 में बीज पंडुम पर्व के लिए एकत्र हुए थे, जब सुरक्षा बलों ने नाबालिगों सहित 17 लोगों को मार गिराया था.
Advertisement

Related posts

कैथल में गुंडागर्दी का आलम, दिनदहाड़े आढ़ती व उनकी पत्नी की चाकूओं से गोदकर हत्या।

admin

हरियाणा में बम धमाके करने की बड़ी साजिश , लश्कर-ए-तैयबा के नाम से भेजा गया पत्र

admin

Kaithal news-कैथल जिले का क्योड़क गांव जिसे मनोहर लाल खट्टर ने गोद लेकर उसे डुबो दिया

editor

Leave a Comment

URL