AtalHind
टॉप न्यूज़ राष्ट्रीय विचार /लेख /साक्षात्कार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भारतीय जनता पार्टी की हुक्मरानी वाले   बुलडोज़र पर सवार भारत तेज़ी से हिंदू फासीवाद की राह पर है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भारतीय जनता पार्टी की हुक्मरानी वाले   बुलडोज़र पर सवार भारत तेज़ी से हिंदू फासीवाद की राह पर है


BY अरुंधति रॉय

पिछले कुछ महीनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भारतीय जनता पार्टी की हुक्मरानी वाले भारतीय राज्यों की सरकारी एजेंसियों और अमले ने मुसलमानों के घरों, दुकानों और उनके कारोबार की जगहों पर बुलडोज़र चलाकर उन्हें गिराने की शुरुआत की है. ऐसा महज़ मुसलमानों द्वारा सरकार-विरोधी विरोध प्रदर्शनों में हिस्सेदारी के संदेह की बिना पर किया जा रहा है. इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने इस नीति को अपने चुनावी अभियानों में बड़े गर्व के साथ प्रचारित किया.

मेरी सोच में यह एक ऐसे पल की निशानी है, जब एक बेहद दोषपूर्ण, कमजोर लोकतंत्र एक भारी लोकप्रिय समर्थन के साथ खुलेआम एक आपराधिक, हिंदू-फासीवादी उपक्रम में तब्दील हो गया है. अब लगता है कि हम हिंदू धर्मात्माओं का चोग़ा पहने गैंगस्टरों की हुकूमत में रह रहे हैं. उनके लिए मुसलमान अब दुश्मन नंबर एक हैं.


अतीत में मुसलमानों को जब सजा दी जाती थी तो उनका कत्लेआम किया जाता था, भीड़ उन्हें पीट-पीटकर मार डालती थी, उनको निशाना बनाकर हत्याएं होती थीं, वे हिरासतों, फ़र्ज़ी पुलिस मुठभेड़ों में मारे जाते, झूठे आरोपों में कैद किए जाते थे. उनके घरों और कारोबारों पर बुलडोज़र चलाकर गिराना इस फेहरिस्त में जुड़ा बस एक नया और बेहद कारगर हथियार है.
जिस तरह से इस परिघटना की खबरें दी जा रही हैं और उनके बारे में लिखा जा रहा है, उसमें बुलडोजर को एक किस्म की दैवीय शक्ति दे दी गई है, जो बदला लेने के लिए आई है. ‘दुश्मन को कुचलने’ के लिए इस्तेमाल हो रही लोहे के बड़े पंजों वाली यह डरावनी मशीन, दानवों का संहार करने वाले मिथकीय भगवान का एक मशीनी संस्करण बना दी गई है. यह एक नए, बदला लेने को बेचैन हिंदू राष्ट्र का जंतर बन चुकी है.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने अपने हालिया भारत दौरे के दौरान एक बुलडोजर के साथ फोटो खिंचाया. यह यक़ीन करना मुश्किल है कि वे नहीं जानते थे कि वे ठीक-ठीक क्या कर रहे थे और किसकी हिमायत में खड़े हो रहे थे. वरना आखिर क्यों एक मुल्क का मुखिया एक आधिकारिक दौरे के दौरान एक बुलडोजर के साथ फोटो खिंचाने जैसी एक बेतुकी हरकत करेगा?

अपने बचाव में सरकारी अमला ज़ोर देता है कि वह मुसलमानों को निशाना नहीं बना रहा है, बल्कि वह बस ग़ैर क़ानूनी रूप से बनी इमारतों को गिरा रहा है. यह महज़ एक किस्म का म्युनिसिपल सफाई अभियान है. वे वजह आपको यकीन दिलाने के लिए है भी नहीं. यह तो मखौल उड़ाने और लोगों में डर भरने के लिए कहा जा रहा है. वरना सरकारें और ज्यादातर भारतीय भी यह जानते हैं कि हरेक भारतीय कस्बे और शहर में ज्यादातर निर्माण या तो ग़ैर क़ानूनी हैं या आंशिक रूप से ही क़ानूनी हैं.

मुसलमानों के घरों और कारोबारों को बिना किसी नोटिस, बिना किसी अपील या सुनवाई का मौक़ा दिए हुए शुद्ध रूप से उन्हें सज़ा देने के लिए तोड़ गिराने से एक ही साथ कई मक़सद पूरे होते हैं.

बुलडोजर के दौर से पहले मुसलमानों को सज़ा देने का काम हत्यारी भीड़ और पुलिस किया करती थी- जो या तो सीधे-सीधे ख़ुद ही उन्हें सज़ा दिया करती थी या अपराध की अनदेखी कर देती थी. लेकिन संपत्तियों को ढहाने में न सिर्फ़ पुलिस की भागीदारी होती है, बल्कि इसमें नगर पालिका अधिकारियों, मीडिया और अदालतों की भागीदारी भी होती है.

मीडिया का वहां मौजूद होना जरूरी होता है ताकि वे ऐसी घटनाओं को दानवों का संहार करने के जश्न के रूप में प्रचार-प्रसार करें. और अदालतों के लिए ज़रूरी होता है कि वे आंखें मूंद लें और कोई हस्तक्षेप न करें.

इसका मतलब मुसलमानों को यह बताना होता है, ‘अब तुम बेसहारा हो. कोई भी तुम्हारी मदद के लिए नहीं आएगा. तुम अपनी फ़रियाद लेकर कहीं नहीं जा सकते हो. इस पुराने लोकतंत्र को सही रास्ते पर रखने के लिए बनाया गया हर क़ानून और हर संस्था अब एक हथियार है जिसे तुम्हारे खिलाफ इस्तेमाल किया जा सकता है.’

दूसरे समुदायों से आने वाले सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों की संपत्ति को शायद ही कभी इस तरह से निशाना बनाया जाता है. मिसाल के लिए, 16 जून 2022 को भाजपा सरकार की सेना में भर्ती की नई नीति से नाराज़ दसियों हज़ार नौजवानों ने पूरे उत्तर भारत में हिंसक प्रदर्शन किया. उन्होंने ट्रेनें और गाड़ियां जलाईं, सड़कें बंद कर दीं और एक कस्बे में तो उन्होंने भाजपा का दफ़्तर तक जला दिया. लेकिन उनमें से ज्यादातर मुसलमान नहीं हैं. इसलिए उनके घर और परिवार महफूज रहेंगे.

2014 और 2019 के आम चुनावों में भाजपा ने यह बखूबी दिखा दिया है कि उसे आम चुनावों में संसद में बहुमत के लिए भारत के 20 करोड़ मुसलमान आबादी का वोट नहीं चाहिए. तो असल में हम जो देख रहे हैं वह यह है कि एक तरह से इस आबादी को हर क़िस्म के अधिकार, और ख़ासकर वोट के अधिकार से महरूम बना दिया गया है. इसका असर और नतीजे ख़तरनाक होंगे. क्योंकि एक बार जब आपको आपके वोट के अधिकार से महरूम कर दिया जाता है, तब आपका कोई वजूद नहीं रह जाता है. आप बेमानी बन जाते हैं. आपका इस्तेमाल हो सकता है, आपके साथ बदतमीजी हो सकती है. हम आज जो देख रहे हैं, वो यही है.

जब भाजपा के आला अधिकारियों ने सार्वजनिक रूप से हर उस चीज की तौहीन की, जिसे मुसलमान सबसे पाक मानते हैं, तब भी अपने मुख्य जनाधार के बीच पार्टी के समर्थन पर कोई आंच नहीं आई, न ही उसकी किसी तरह की कोई सार्थक आलोचना हुई.

इस तौहीनी के जवाब में मुसलमानों की तरफ़ से अहम विरोध प्रदर्शन हुए हैं. ये विरोध समझ में आने लायक हैं क्योंकि यह घटना इतनी सारी हिंसा और क्रूरता की पृष्ठभूमि में घटित हुई है.

बस जो बात समझ में नहीं आने लायक थी, वह यह कि जैसा होता ही है कुछ आंदोलनकारियों ने ईशनिंदा क़ानून की मांग की. भाजपा तो शायद इसे ख़ुशी-ख़ुशी लागू करना चाहेगी, क्योंकि तब उस क़ानून के तहत हिंदू राष्ट्रवाद के बारे में क़रीब-क़रीब हर क़िस्म की टिप्पणियां जुर्म बन जाएंगी. यह व्यवहार में हर उस आलोचना और बौद्धिक टिप्पणियों को चुप करा देगा, जो उस राजनीतिक और विचारधारात्मक दलदल के बारे में की जाती हैं जिसमें भारत धंसता चला जा रहा है.

विरोध जताने वाले अन्य लोगों ने, जैसे कि एक अहम राजनीतिक दल ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) से जुड़े एक शख़्स ने फांसी देने और दूसरे लोगों ने सिर काटने जैसी मांगें उठाईं. ये सभी वाकये मुसलमानों के बारे में बताई जाने वाली हर उस रूढ़ छवि की तस्दीक करने के लिए उपयोग में लाए गए, जिसे हिंदू दक्षिणपंथी बड़ी मेहनत करके बनाता है.
तौहीन की ऊंची दीवारों और दोनों तरफ़ से आ रही मौत की धमकियों के बीच किसी भी तरह की बातचीत मुमकिन नहीं दिखाई देती.

इन विरोध प्रदर्शनों के बाद होने वाले ध्रुवीकरण ने बस यही किया कि भाजपा का समर्थन बढ़ गया. तौहीन करने वाली भाजपा की प्रवक्ता को पार्टी से निलंबित कर दिया गया है, लेकिन उसके कैडर ने खुलेआम उनको अपना लिया है. उनका राजनीतिक भविष्य शानदार दिखाई दे रहा है.

आज भारत में हम जिस दौर को जी रहे हैं, वह स्कॉर्च्ड अर्थ नीति (scorched-earth policy) का एक सियासी रूप है. इस नीति के तहत दुश्मन के काम लायक़ हर चीज़ तबाह कर दी जाती है, ताकि वह उनका इस्तेमाल नहीं कर सके.

हर चीज़, हर संस्थान जिसे बनने में बरसों लगे, तबाह की जा रही है. यह स्तब्ध कर देने वाला है. नौजवानों की एक नई पीढ़ी इस तरह बड़ी होगी कि उसे कोई हक़ीक़त पता नहीं होगी, सिवाय उन बेबुनियाद बातों के जो उनके दिमाग में भरी गई होंगी. उनका अपने देश के इतिहास और इसकी सांस्कृतिक जटिलताओं से कोई रिश्ता नहीं होगा.

यह हुकूमत 400 टीवी चैनलों, अनगिनत वेबसाइट्स और अखबारों वाले मीडिया की मदद से धार्मिक कट्टरपंथ और नफरत का डंका लगातार बजाती रहती है. इसमें हिंदू-मुस्लिम अलगाव के दोनों तरफ से उठने वाले, नफ़रत उगलते वही घिसे-पिटे किरदार आग लगाते रहते हैं.

हिंदू दक्षिणपंथ के कैडर के भीतर एक नया, आक्रामक चरम दक्षिणपंथी हिस्सा है जिसमें एक ऐसी क़िस्म की बेक़रारी दिखाई दे रही है, जिस पर नकेल लगाने में मोदी सरकार को भी मुश्किलें आ रही हैं. इसलिए कि यही हिस्सा भाजपा का मुख्य जनाधार है.

Advertisement

सोशल मीडिया पर अब मुसलमानों के नस्ली सफ़ाये (जेनोसाइड) का आह्वान करना एक रोजमर्रा की बात बन गई है. हम एक ऐसे मुक़ाम पर पहुंच गए हैं, जहां से वापसी मुमकिन दिखाई नहीं देती. अब हमें, जो इसके ख़िलाफ़ खड़े हैं, और खासकर भारत के मुसलमानों को, जिस बात पर सोचने की ज़रूरत है, वह यह है कि हम इस सबसे कैसे बच निकल सकते हैं? कैसे हम इसका विरोध कर सकते हैं?

इन सवालों के जवाब देना मुश्किल है, क्योंकि आज भारत में विरोध को ही, चाहे वह कितना ही शांतिपूर्ण क्यों न हो, उसे आतंकवाद के सामान एक जघन्य अपराध बना दिया गया है.

(मूल अंग्रेज़ी से रेयाज़ुल हक़ द्वारा अनूदित.)

Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

  भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमणा और उनके सहयोगियों(अदालतों) को भारत को बचाने  के लिए सरकारी दमन के ख़िलाफ़ खड़े होना चाहिए

atalhind

शीर्ष अदालत ने कहा कि वह प्रेस की स्वतंत्रता को कुचलना नहीं चाहती है.द वायर को अंतरिम सुरक्षा प्रदान की

admin

अटल हिन्द के विशेष संवाददाता फतह सिंह उजाला से राव इंद्रजीत सिंह की हुई करनाल करोड़ो रूपये भ्रष्टाचार पर खुली बातचीत

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL