AtalHind
कैथलराजनीतिहरियाणा

पुंडरी ने खींची फिर दुष्यंत के लिए लंबी लकीर,हजारों युवाओं की हुंकार ने दुष्यंत चौटाला को दी बड़ी मजबूती

पुंडरी ने खींची फिर दुष्यंत के लिए लंबी लकीर,हजारों युवाओं की हुंकार ने दुष्यंत चौटाला को दी बड़ी मजबूती


–राजकुमार अग्रवाल –
पुंडरी। दिसंबर 2017 के दिन थे। दुष्यंत चौटाला परिवार में चल रहे सियासी संघर्ष के बीच “दबते” हुए जा रहे थे।
अभय चौटाला की इनेलो पर “पकड़” मजबूत होती जा रही थी और अजय चौटाला के साथी संगठन से “बाहर” किए जा रहे थे।
लग रहा था कि धीरे धीरे दुष्यंत चौटाला को परिवार सहित “हाशिए” पर डाल दिया जाएगा। अभय चौटाला के बड़े “खौफ” के कारण इनेलो का कोई भी नेता दुष्यंत चौटाला के साथ “खड़े” होने की “हिम्मत” नहीं जुटा पा रहा था।
उन हालात में 17 दिसंबर 2017 को पूंडरी हलके के पाई गांव में युवा चौपाल का आयोजन किया गया। राजू पाई की अगुवाई में हुई उस युवा चौपाल में युवाओं की “भारी” हाजिरी रही। उस युवा चौपाल में पहली बार दुष्यंत चौटाला के लिए “आया आया सीएम आया” का नारा गूंजा।
पाई की युवा चौपाल में अभय चौटाला के प्रेशर और भय की चिंता किए बगैर हजारों युवाओं ने दुष्यंत चौटाला के लिए बड़ी हुंकार भरने का काम किया।
उस युवा चौपाल की सफलता ने जहां दुष्यंत के हौसलों को “बुलंद” किया वहीं छोटे-बड़े नेताओं के मन से अभय चौटाला के खौफ को “खत्म” किया जिसके चलते उसके बाद दुष्यंत चौटाला के लिए कार्यक्रमों की लंबी श्रृंखला शुरू हो गई और धीरे-धीरे करके दुष्यंत चौटाला अपनी लंबी लकीर खींचने में सफल हो गए।
हर कार्यक्रम के साथ युवाओं का “जमावड़ा” दुष्यंत चौटाला के साथ बढ़ता गया जिसके चलते दुष्यंत चौटाला परिवार के सियासी संघर्ष में इनेलो से बाहर निकाले जाने के बावजूद 11 ही महीनों में जेजेपी बनाकर सफलता के “शिखर” पर पहुंच गए और सत्ता की हिस्सेदारी हासिल करके डिप्टी सीएम बन गए।
सवा 4 साल के बाद एक बार फिर दुष्यंत चौटाला के लिए वैसा ही माहौल बना हुआ है। किसान आंदोलन में जाट वोटरों में जेजेपी और दुष्यंत चौटाला के लिए उभरी नाराजगी और पंजाब में आम आदमी पार्टी की बंपर जीत के चलते खड़ी हुई नई चुनौती के बीच दुष्यंत चौटाला के लिए जेजेपी को कांग्रेस और बीजेपी के बराबर बनाए रखना बड़ा चैलेंज है।
ऐसे समय में एक बार फिर आज दुष्यंत चौटाला पूंडरी हलके में आए। आज फिर राजू पाई ने दुष्यंत चौटाला के लिए अभिनंदन समारोह का आयोजन किया।


2017 की तरह हजारों युवाओं की भीड़ ने दुष्यंत चौटाला का स्वागत किया।
2017 की तरह  एक बार फिर पुंडरी का कार्यक्रम दुष्यंत चौटाला के लिए भाग्यशाली साबित होता हुआ नजर आया।
हजारों लोगों ने दुष्यंत चौटाला को समर्थन देकर एक बार फिर से बड़ी सफलता हासिल करने का आशीर्वाद दे दिया।
बात यह है कि मुझे 2017 और 2022 में दोनों बार ही पूंडरी हलके के दुष्यंत चौटाला के कार्यक्रमों में शिरकत करने का अवसर मिला।
दोनों ही बार के हालात और दोनों ही बार दुष्यंत चौटाला को मिले बड़े समर्थन के बड़े मायने हैं।
2017 में पाई की युवा चौपाल ने दुष्यंत चौटाला को अपने बलबूते की सियासत पर पहला बड़ा आशीर्वाद दिया था और आज खराब दौर के बाद पुंडरी में एक बार फिर से जनता ने दुष्यंत चौटाला को बढ़ा समर्थन दिया है।
अब देखना है कि दुष्यंत चौटाला जनता के इस आशीर्वाद को अपनी तकदीर की लंबी लकीर बनाते हुए किस तरह बड़ी सफलता हासिल करते हैं?

Advertisement
Advertisement

Related posts

चौकाने वाले हो सकते है गुरुग्राम राजेन्द्र पार्क हत्याकांड के खुलासे पोस्टमार्ट रिपोर्ट आने के बाद

admin

ऐसा क्या कह दिया दुष्यंत चौटाला ने की पटौदी जेजेपी में लग गई इस्तीफा देने वालों की लाइन 

atalhind

सुरभि गर्ग ने  शपथ ग्रहण समारोह में कैथल की जनता  नहीं बुलाई   ?या नहीं आई  ,बीजेपी नेताओं का रहा जमघट 

atalhind

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL