AtalHind
टॉप न्यूज़ राजनीति हरियाणा

दीपेंद्र हुड्डा खुद की करा रहे पब्लिसिटी

दीपेंद्र हुड्डा खुद की करा रहे पब्लिसिटी
हरियाणा में कांग्रेस के प्रदर्शन पर फोकस करने के बजाए दिल्ली की मीडिया के सामने चल रहा है पब्लिसिटी का एजेंडा


-राजकुमार अग्रवाल –
नई दिल्ली। राहुल गांधी के खिलाफ ED की कार्रवाई के विरोध में कांग्रेस द्वारा पूरे देश में 3 दिन से किए जा रहे विरोध प्रदर्शनों के बीच एक ऐसा चेहरा भी उभर कर सामने आया है जो ऐसे मौके पर राहुल गांधी को मजबूती देने की बजाय सिर्फ खुद की पब्लिसिटी के एजेंडे पर काम कर रहा है।
वह सबसे अलग चेहरा है हरियाणा के राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा।
जहां पूरे देश के कांग्रेसी राहुल गांधी के समर्थन में नारेबाजी कर रहे हैं, कांग्रेस के पक्ष में नारेबाजी कर रहे हैं वहीं दीपेंद्र हुड्डा के समर्थक उनको नजरबंद किए गए थाने के बाहर सिर्फ उनकी ही नारेबाजी कर रहे हैं।
राहुल गांधी के पक्ष में आवाज बुलंद करने की बजाय दीपेंद्र हुड्डा अपने समर्थकों को खुद की नारेबाजी कराने की मुहिम में जुटे हुए हैं।
दरअसल दीपेंद्र हुड्डा यह दिखाना चाहते हैं कि समर्थकों की संख्या के मामले में वे राहुल गांधी से आगे हैं और उनके कहने से ही हरियाणा के कार्यकर्ता दिल्ली में आ रहे हैं।
दीपेंद्र हुड्डा की यह कारगुजारी कांग्रेस के अधिकांश नेताओं को खटक रही है क्योंकि मुश्किल के समय राहुल गांधी के साथ खड़े होकर उनके हक में आवाज बुलंद करने की बजाय दीपेंद्र हुड्डा समर्थकों के साथ पूर्व नियोजित योजना के तहत सिर्फ अपनी नारेबाजी करा रहे हैं।
इस नारेबाजी के कारण यह लगता है कि दीपेंद्र हुड्डा खुद को राहुल गांधी से बड़ा साबित करने की बेवकूफी भरी कोशिश कर रहे हैं।


खास बात यह है कि दीपेंद्र हुड्डा ने अपने सोशल मीडिया और ट्विटर पर भी अपनी नारेबाजी वाले ही वीडियो क्लिप डाले हैं। एक भी वीडियो क्लिप में राहुल गांधी की जय जयकार वाले नारे नहीं दिखाए गए हैं।
इससे भी बड़ी बात है कि दीपेंद्र हुड्डा  राहुल गांधी के समर्थन में हरियाणा में कांग्रेस के बड़े विरोध प्रदर्शन पर फोकस करने की बजाय सिर्फ दिल्ली की मीडिया के आगे अपने नंबर बनाने की पब्लिसिटी के एजेंडे में ही जुटे हुए हैं जिसके चलते हरियाणा में राहुल गांधी के समर्थन में कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन फुस्स होकर रह गया है।
#Congress
#RahulGandhi
#dipenderhudda
#HaryanaCongress

Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

कैथल में प्रदूषण नियंत्रण को लेकर उपायुक्त प्रदीप दहिया ने ली समीक्षा बैठक

admin

पेपर लीक केस  यूपी में पैसे का खेल खेला गया. जब भांडा फूटा तो पत्रकारों को फंसा कर मामले को दूसरा रूप देने की कोशिश हुई

atalhind

पत्रकार रमेश कुमार को मातृ शोक

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL