AtalHind
टॉप न्यूज़ लाइफस्टाइल

वास्तुशास्त्र में रंगों का महत्व

वास्तुशास्त्र में रंगों का महत्व

-डॉ. महेन्द्रकुमार जैन ‘मनुज’, इन्दौर

रंग हज़ारों वर्षों से हमारे जीवन में अपनी जगह बनाए हुए हैं। यहाँ आजकल कृत्रिम रंगों का उपयोग जोरों पर है वहीं प्रारंभ में लोग प्राकृतिक रंगों को ही उपयोग में लाते थे। उल्लेखनीय है कि मोहनजोदड़ो और हड़प्पा की खुदाई में सिंधु घाटी सभ्यता की जो चीजें मिलीं उनमें ऐसे बर्तन और मूर्तियाँ भी थीं, जिन पर रंगाई की गई थी। उनमें एक लाल रंग के कपड़े का टुकड़ा भी मिला। विशेषज्ञों के अनुसार इस पर मजीठ या मजिष्ठा की जड़ से तैयार किया गया रंग चढ़ाया गया था। इसी तरह हजारों वर्षों तक मजीठ की जड़ और बक्कम वृक्ष की छाल लाल रंग का मुख्य स्रोत थी। पीला रंग और सिंदूर हल्दी से प्राप्त होता था। होली के रंग पलास आदि के फूलों से तैयार किये जाते थे। इस तरह रंगों प्राप्ति प्राकृतिक वस्तुओं से प्राप्त की जाती रही है।
वास्तु विज्ञान में ध्वनियों तथा रंगों का स्थान अत्यधिक महत्वपूर्ण है। रंग और ध्वनि इस प्रकार की ऊर्जाएं हैं, जिन्होंने प्रकृति और वातावरण के माध्यम से हमें घेर रखा है। शुभ रंग भाग्योदय कारक होते हैं। वास्तु विज्ञान में विभिन्न रंगों को वास्तुशास्त्र के तत्त्वों का प्रतीक माना जाता है। जैसे नीला रंग जल का, भूरा पृथ्वी का और लाल अग्नि का प्रतीक है। रंगों को पंचभूत तत्त्वों जल, अग्नि, धातु, पृथ्वी और काष्ठ से जोड़ा गया है।
वास्तु के अनुसार घर में रंगों का महत्वपूर्ण स्थान है। अतः घर के लिए सही वास्तु रंग चुनना चाहिए।

वास्तु के अनुसार रसोई घर का रंग
वास्तु के अनुसार दक्षिण-पूर्व दिशा रसोई घर के लिए उत्तम है, इसलिए किचन की दीवारों का रंग संतरी या लाल होना चाहिए। किचन आग का प्रतिनिधित्व करता है। लिहाजा गहरे रंग अच्छे रहेंगे। आप पीला रंग चुन सकते हैं। गहरे रंग जैसे गुलाबी प्रेम और गर्मजोशी को दर्शाते हैं जबकि भूरा रंग भी किचन के लिए ठीक है, क्योंकि यह संतुष्टि को दर्शाता है। अगर किचन कैबिनेट्स हैं तो लेमन यलो, संतरी रंग अच्छे रहेंगे क्योंकि ये ताजगी, स्वास्थ्य और सकारात्मकता को दिखाते हैं। फर्श के लिए, मोज़ेक, संगमरमर या सिरेमिक टाइलें चुनें। हल्के रंग – बेज, सफेद या हल्का भूरा फर्श के लिए अच्छे होते हैं। वास्तु की सिफारिशों के अनुसार, रसोई के स्लैब प्राकृतिक रूप से उपलब्ध पत्थरों में सबसे अच्छे हैं, जिनमें ग्रेनाइट या क्वार्ट्ज शामिल हैं। नारंगी, पीले और हरे रंग रसोई के काउंटरटॉप्स के लिए अच्छा काम करते हैं। किचन में रंग ज्यादा गहरा नहीं होना चाहिए। गहरे भूरे, भूरे और काले रंग से बचें। रसोई में नीले रंग से बचना चाहिए, क्योंकि नीला पानी के देवता वरुण का प्रतिनिधित्व करता है। रसोई एक ऐसा क्षेत्र है जहां आग राज करती है।

Advertisement

बेडरूम का कलर-

बेडरूम के लिए वास्तु रंगों के अनुसार, मास्टर बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए और इसलिए वास्तु के अनुसार इसका रंग हल्का नीला और हरा होना चाहिए। शयनकक्ष विश्राम करने की जगह है। इसलिए, इस स्थान की सकारात्मक आभा होना महत्वपूर्ण है। वास्तु के अनुसार जगह को हल्का और आँखों को भाने वाला रखना सबसे अच्छा है और बेडरूम के लिए ऐसे ही रंग इस्तेमाल किए जाने चाहिए। वास्तु के अनुसार मास्टर बेडरूम का रंग नीले रंग के दरवाजे और फर्नीचर के साथ एक सफेद रंग का पैटर्न हो सकता है। इसके अलावा कोई भी हल्का या पेस्टल शेड बेडरूम के लिए वास्तु रंगों की तरह अच्छा काम कर सकता है। बेडरूम के लिए वास्तु रंगों के अनुसार, भारी और गहरे रंगों से बचें क्योंकि यह स्थान में उदासी की भावना ला सकता है। वास्तु के अनुसार दंपति, विशेष रूप से नवविवाहित जोड़े, के लिए बेडरूम का रंग हल्का पीला या गुलाबी होना चाहिए, क्योंकि यह बंधन मजबूत करने में मदद करता है और वास्तु के अनुसार ये बेडरूम की दीवारों के लिए सबसे अच्छे रंग हैं। जिन शादीशुदा जोड़ों की शादी के कुछ दिन बीत चुके हैं, उन जोड़ों के लिए बेडरूम का रंग हल्का हरा और नीला होता है। वास्तु के अनुसार बेडरूम के रंग के लिए बैंगनी और लाल के गहरे रंगों से बचें। यदि आपको चिंता या उच्च रक्तचाप की समस्या है, तो बेडरूम के लिए वास्तु रंगों के तौर पर भूरे और काले के गहरे रंगों से बचें।

गेस्ट रूम/ड्राइंग रूम- 

घर में आए रिश्तेदारों के लिए गेस्ट रूम/ड्राइंग रूम उत्तर-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। इसलिए इस दिशा में अगर गेस्ट रूम है तो उसमें सफेद रंग होना चाहिए।

बच्चों का कमरा- 

Advertisement
उत्तर-पश्चिम उन बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ दिशा है, जो बड़े हो गए हैं और पढ़ाई करने के लिए बाहर जाते हैं। चूंकि उत्तर-पश्चिम दिशा पर चंद्रमा का राज है, इसलिए इस दिशा में स्थित बच्चों के कमरे में सफेद रंग कराना चाहिए।

बाथरूम- 

उत्तर-पश्चिम दिशा बाथरूम के लिए सबसे सही है और इसमें सफेद रंग होना चाहिए। हल्के रंग जैसे सफेद, क्रीम, सुनहरा भूरा, या पेस्टल रंगों की सलाह दी जाती है। गहरे रंग न केवल बाथरूम को छोटा दिखाते हैं बल्कि नकारात्मक ऊर्जा को भी आकर्षित करते हैं।

हॉल-

आदर्श तौर पर हॉल नॉर्थ-ईस्ट या नॉर्थ वेस्ट दिशा में होना चाहिए और इसमें पीला या सफेद रंग करवाना चाहिए। हर घर का लिविंग रूम ऊर्जा का केंद्र होता है। यह एक आरामदायक और शांत स्थान होना चाहिए। यहां सबसे उपयुक्त रंग सफेद, पीले, शांत हरे या नीले रंग के होते हैं। रंग चमकीले या झकझोरने वाले नहीं होने चाहिए। भोजन क्षेत्र वह जगह है जहाँ परिवार भोजन के लिए मिलता है। आड़ू, पीला, हल्के नारंगी और यहां तक कि नीले रंग जैसे गर्म रंग इस क्षेत्र के लिए आदर्श हैं। वास्तु के अनुसार इस क्षेत्र में ब्लैक एंड व्हाइट का प्रयोग करने से बचें।

पूजा घर- 
वास्तु शास्त्र के मुताबिक, पूजा घर का मुंह नॉर्थ ईस्ट की दिशा में होना चाहिए, ताकि सूर्य के अधिकतम प्रकाश का दोहन किया जा सके। पीला आपके घर के इस हिस्से के लिए सबसे उपयुक्त रंग है, क्योंकि इससे इस प्रक्रिया में आसानी होगी। इस जगह को अपने घर का शांत क्षेत्र बनाने के लिए आपको इस क्षेत्र में गहरे रंगों से भी बचना चाहिए। आप सफेद और क्रीम रंग या नारंगी भी जोड़ सकते हैं, क्योंकि यह ऊर्जा का उत्सर्जन करता है।

Advertisement

स्टडी रूम- 
अगर आपका ऑफिस-होम है तो वास्तु के मुताबिक ग्रीन, ब्लू, क्रीम और वाइट जैसे रंगों का इस्तेमाल करें। लाइट कलर्स से कमरा बड़ा सा लगता है। गहरे रंगों से बचें, क्योंकि इससे जगह में उदासीनता बढ़ती है। होम ऑफिस के लिए सोने, पीले, भूरे और हरे रंग के हल्के रंग, एक स्थिर कामकाजी माहौल सुनिश्चित करते हैं और उत्पादकता बढ़ाते हैं।

बालकनी/बरामदा- 
वास्तु के मुताबिक, बालकनी नॉर्थ या ईस्ट डायरेक्शन में होनी चाहिए। बालकनी में ब्लू, क्रीम और ग्रीन व पिंक के हल्के शेड्स कराएं। यही वो जगह होती है, जहां से लोग बाहरी दुनिया से कनेक्ट होते हैं। इसलिए गहरे रंगों से बचना चाहिए।

गैरेज-
वास्तु के मुताबिक, गैरेज नॉर्थ वेस्ट दिशा में होना चाहिए। इसमें आप सफेद, पीला, ब्लू या कोई और लाइट शेड करा सकते हैं।
घर के बाहर का कलर-

Advertisement
घर के बाहर हमें हल्के नीले, सफेद, पीले, नारंगी, क्रीम आदि लाइट रंगों का उपयोग करना चाहिए परंतु घर के भीतर हर कमरे और उसकी दीवारों का रंग तो वास्तु अनुसार ही चयन करना चाहिए, क्योंकि रंगों का हमारे जीवन पर बहुत ज्यादा असर होता है।

वास्तु के मुताबिक कैसी हो फ्लोरिंग

वास्तु के अनुसार फर्श का रंग हल्का, पीला और तटस्थ रंगों में होना चाहिए. सफेद संगमरमर या ग्रेनाइट उपयुक्त हैं, क्योंकि वे शांतिपूर्ण वातावरण को बढ़ाते हैं। लकड़ी के फर्श का उपयोग घर के उत्तर, उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा में भी किया जा सकता है। इसके अलावा, उत्तर-पूर्व दिशा में, फर्श के लिए नीले रंग के शेड का इस्तेमाल किया जा सकता है। किचन में ब्लैक फ्लोरिंग से बचें। हालांकि, दक्षिण-पूर्व दिशा में लाल या गुलाबी रंग का फर्श रखना सही है। दक्षिण-पश्चिम दिशा के कमरों में फर्श पीले रंग का होना चाहिए।
 

ये रंग भूलकर भी न कराएं-
वास्तु अनुसार लाइट रंग हमेशा अच्छे होते हैं। डार्क रंग जैसे लाल, ब्राउन, ग्रे और काला हर किसी को सूट नहीं आता। ये रंग अग्नि ग्रहों जैसे राहू, शनि, मंगल और सूर्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। लाल, गहरा पीला और काले रंग से परहेज करना चाहिए। आमतौर पर इन रंगों की तीव्रता काफी ज्यादा होती है। ये रंग आपके घर के एनर्जी पैटर्न को डिस्टर्ब कर सकते हैं।

Advertisement
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

पति की रिहाई दर-दर गुहार लगाती महिला ,पुलिस की मानहानि, पुलिस ही शिकायतकर्ता, पुलिस ही गवाह

admin

इलाज करवाना है और पैसे नहीं है लेकिन आयुष्मान कार्ड तो होगा ना आपके पास नहीं है कोई बात नहीं आयुष्मान मित्र 15 सितम्बर 30 सितंबर तक आपके पास आ रहे है कार्ड बनवा लेना

atalhind

हरियाणा में 21 व पंजाब में 163 वर्तमान और पूर्व सांसद-विधायकों पर चल रहे है केस

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL