AtalHind
जॉब टॉप न्यूज़ हरियाणा

पहुंचे थे रोड जाम करने और सिर पर पैर रख वापिस दौड़े !

पहुंचे थे रोड जाम करने और सिर पर पैर रख वापिस दौड़े !

अग्निपथ सेना भर्ती योजना का दूसरे दिन भी विरोध जारी

पटौदी में चौराहे पर सड़क पर बैठकर युवकों ने दिया धरना

Advertisement

पुलिस के डंडे देख फिजिकल टेस्ट में सड़क छोड़ भागे युवक

फतह सिंह उजाला
पटौदी । केंद्र सरकार की सेना में 4 वर्षीय अग्निपथ भर्ती योजना के विरोध का सिलसिला लगातार दूसरे दिन शुक्रवार को भी देखने के लिए मिला । गुरुवार को दिल्ली जयपुर नेशनल हाईवे के बिलासपुर चौक पर 8 घंटे सड़क जाम करने के बाद शुक्रवार को करीब 3 दर्जन युवक पटौदी चौराहे पर अग्निपथ भर्ती योजना के विरोध में प्रदर्शन करने के लिए पहुंचे । यहां पहुंच कर इन युवकों के द्वारा नारेबाजी करते हुए सेना की नई भर्ती योजना का विरोध जाहिर किया गया। खास बात यह रही कि विरोध प्रदर्शन करने वाले सभी युवकों के चेहरे नकाबपोश की तरह कपड़ा बांधकर ढके हुए थे । जिससे कि इनकी पहचान नहीं हो सके ।

शुक्रवार को पटौदी क्षेत्र के आसपास के ही गांव के ऐसे युवक विरोध प्रदर्शन के लिए पहुंचे जो कि कथित रूप से विभिन्न एकेडमी  में सेना की भर्ती के लिए ट्रेनिंग ले रहे हैं । जैसे ही युवक पटौदी चौराहे पर पहुंचे और नारेबाजी करते हुए सड़क के बीचो बीचोबीच बैठ गए , इसके बाद में यातायात भी प्रभावित हुआ। वहीं कई युवकों के द्वारा बिलासपुर से कुलाना और गुरुग्राम से रेवाड़ी को जोड़ने वाले पटौदी के सबसे व्यस्त चौराहे पर कुछ हैवी व्हीकल चालकों को भी जबरदस्ती रोकने का प्रयास किया गया। युवको के द्वारा इस प्रकार जबरन वाहन चालकों को रोका जाने पर वाहन चालकों के द्वारा अपना विरोध जाहिर किया गया । लेकिन जो भी युवक अपनी पहचान के लिए चेहरा ढक कर पटौदी चौराहे पर पहुंचे, वह यहां मुख्य चौराहे पर सड़क के बीचो बीच में धरना देकर बैठ गए और पीएम मोदी सहित केंद्र सरकार के खिलाफ नई भर्ती सेना योजना को लेकर नारेबाजी भी की ।

युवकों के द्वारा पटौदी चौराहे पर सड़क मार्ग जाम करने सहित यातायात को रोकने और वाहन चालकों को जाने से मना करने की जानकारी जैसे ही स्थानीय पुलिस प्रशासन को मिली , पुलिस के आला अधिकारी दलबल सहित मौके पर पहुंचे । यहां पहुंचे पुलिस के अधिकारियों के द्वारा युवाओं को समझाते हुए सड़क मार्ग जाम नहीं करने की नसीहत दी गई । कथित रूप से युवक अपनी जिद पर अड़े रहे और सड़क पर ही बैठे हुए नारेबाजी करने के साथ आने जाने वाले वाहनों को भी कथित रूप से सड़कों पर अपनी मर्जी के मुताबिक आड़ा तिरछा खड़ा करवा लिया । जिसकी वजह से जाम की स्थिति बन गई , हठीले युवक जब नहीं माने तो पुलिस प्रशासन के द्वारा सख्ती बरतते हुए युवकों का फिजिकल टेस्ट लेने के लिए हल्का बल प्रयोग आरंभ कर दिया गया । जैसे ही पुलिस के द्वारा बल प्रयोग आरंभ किया गया, इसके बाद में विरोध प्रदर्शन करने वाले युवक सिर पर पैर रखकर जोड़ते हुए दिखाई दिए । पटौदी चौराहा बेहद व्यस्त चौराहा माना जाता है । जहां से बिलासपुर और कुलाना तथा गुड़गांव और रेवाड़ी चारों तरफ के सभी प्रकार के वाहनों का आवागमन लगा रहता है ।

पुलिस की सजगता और सख्ती के कारण अग्निपथ योजना का विरोध करते हुए सड़क मार्ग जाम करने का सपना पुलिस बल के सामने हवा हवाई हो गया। विरोध प्रदर्शन करने के लिए पहुंचे और सड़क मार्ग जान करने वाले युवकों की पहचान करना इस वजह से भी आसान नहीं था कि सभी के चेहरे अपनी पहचान छिपाने के लिए कपड़े बांधकर ढके हुए थे । राहत की बात यह रही कि ज्यादा अधिक समय तक और ना ही ज्यादा अधिक संख्या में विरोध प्रदर्शन सहित रोड जाम करने के लिए पटौदी चौराहे पर युवक एकत्रित होने में सफल हो सके । युवकों के द्वारा विरोध प्रदर्शन सहित सड़क मार्ग जाम करने की सूचना मिलते ही पटौदी के एसीपी हरिंदर शर्मा , थाना एसएचओ राकेश कुमार व अन्य पुलिसकर्मी सूचना मिलते ही घटनास्थल पर पहुंचे और जल्द से जल्द प्रीति को नियंत्रण में कर बाधित होने वाले यातायात को सुचारू रूप से आवागमन के लिए सुगम बनाने का काम किया।

Advertisement

स्टेशन पर हंगामा और ट्रेन रोकने की योजना पर फिरा पानी
पटौदी ।
केंद्र सरकार के द्वारा युवाओं को सेना में भर्ती करने के लिए घोषित की गई अग्निपथ नई भर्ती योजना रास नहीं आ रही है । यही कारण है कि जगह जगह विभिन्न स्थानों पर इस योजना का युवाओं के द्वारा जबरदस्त तरीके से विरोध किया जा रहा है ।

इसी कड़ी में शुक्रवार को दिल्ली और रेवाड़ी के बीच पटौदी रोड रेलवे स्टेशन तथा इच्छापुरी रेलवे स्टेशन पर युवाओं द्वारा ट्रेन रोकने सहित हंगामा करने की योजना पर पानी फिर गया । जानकारी के मुताबिक करीब 40 से 50 युवाओं की टोली पटौदी रोड रेलवे स्टेशन और इसके बाद कुछ ही दूरी पर मौजूद इच्छापुरी रेलवे स्टेशन पर अपना विरोध दर्ज कराने के लिए पहुंची थी। हालांकि युवकों की एक टोली बेहद पटौदी स्टेशन के निकट गुप्त रूप से इस उद्देश्य के साथ पहुंची थी कि मौका लगते ही ट्रेन आने के समय पर हंगामा किया जाए और ट्रेन का आवागमन भी बाधित किया जा सके । लेकिन हंगामे की नियत से पहुंचे युवाओं के बारे में समय रहते पटौदी जीआरपी चौकी प्रभारी कृष्ण यादव को जानकारी मिल गई। इसके बाद में मामले की गंभीरता और युवाओं के द्वारा किए जा रहे उग्र प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए पटौदी थाना, हेली मंडी पुलिस चौकी तथा एसीपी पटौदी कार्यालय को इस विषय में जानकारी दी गई।

जानकारी मिलते ही पटौदी एसीपी हरिंदर शर्मा , पटौदी थाना प्रभारी राकेश कुमार , हेली मंडी पुलिस चौकी प्रभारी महेश कुमार और स्वयं जीआरपी पटौदी प्रभारी कृष्ण यादव ने दलबल सहित पटौदी स्टेशन पर मोर्चा संभाल लिया । एकाएक भारी पुलिस बल की मौजूदगी को देखते हुए हंगामे की नियत से पटौदी स्टेशन के निकट बाबा हरदेवा मंदिर के पास छिपी हुई युवाओं की टोली वहां से देखते ही देखते गायब हो गई । इसके बाद में सूचना मिली की इंछा पुरी रेलवे स्टेशन पर भी बड़ी संख्या में युवक एकत्रित हो रहे हैं, हालांकि ट्रेनों के आने-जाने का समय भी था । ट्रेनों के आवागमन के समय यात्रियों का रेलवे स्टेशन पर मौजूद रहना भी स्वभाविक है , ऐसे में हंगामे की नियत से पहुंचे युवाओं की पहचान करना भी पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती साबित हो सकता था । फिर भी अनुभवी पुलिस अधिकारियों के द्वारा संयम दिखाते हुए ट्रेनों की रवानगी का इंतजार किया गया । इसके बाद में जो भी युवक दाएं बाएं संदिग्ध अवस्था में दिखाई दिए , जैसे ही उन लोगों के साथ में पूछताछ करते हुए उनके वहां पहुंचने का कारण पूछा गया तो देखते ही देखते सभी युवाओं ने स्टेशन से जाने में ही अपनी भलाई समझी।

Advertisement

फिर भी कानून व्यवस्था बनाए रखने और सेना भर्ती योजना को लेकर युवाओं के द्वारा विरोध प्रदर्शन करते हुए ट्रेनों का आवागमन बाधित ना हो, इस बात को ध्यान में रखते हुए पटौदी और इच्छा पूरी रेलवे स्टेशन पर पीसीआर वाहन तैनात कर दिए गए । इसके साथ ही निर्देश भी दिए गए की किसी भी युवक या फिर अन्य व्यक्ति की संदिग्ध गतिविधि महसूस हो तो उससे पूछताछ की भी की जाए । साथ में पुलिस अधिकारियों को सूचित किया जाए । पटौदी जीआरपी चौकी के प्रभारी कृष्ण यादव के मुताबिक समय रहते जानकारी मिलने के कारण पटौदी और इंशा पूरी रेलवे स्टेशन पर युवकों के द्वारा हंगामा किया जाना या फिर ट्रेनों का आवागमन प्रभावित किया जाना, इन सभी योजनाओं को पूरी तरह से नाकाम कर दिया गया। इतना ही नहीं स्टेशन पर आने जाने वाली सभी ट्रेनों पर भी नजर रखी गई और ट्रेनों से उतरने और ट्रेन में सवार होने वाले यात्रियों विशेष रूप से युवाओं पर विशेष रुप से ध्यान दिया गया । कुल मिलाकर सेना में नई भर्ती योजना का विरोध करने वाले युवाओं के मंसूबों पर गुरुग्राम पुलिस और जीआरपी पुलिस के संयुक्त प्रयास से पानी फेर दिया गया।

Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

भूपेंद्र हुड्डा फंसे  चक्रव्यूह में, क्रॉस वोटिंग के खतरे के कारण शैलजा और रणदीप को नहीं दी हरियाणा से राज्यसभा की टिकट

atalhind

गुहला-चीका के 487 लाभार्थी को 10 करोड़ 70 लाख रुपए की राशि खुद के मकान बनाने के लिए दी गई 

admin

कैथल पुलिस को इंमरजैंसी रिस्पॉस विहिक्ल के रुप में अलॉट हुई 22 ईनोवा गाडिय़ां

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL